तहसीलदार कैसे बने? | तहसीलदार बनने की पूरी जानकारी

यदि आप बहुत टाइम से तहसीलदार कैसे बने?के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। तो आज आप बिल्कुल सही जगह आए हैं। आज हम आपको tahsildar kaise bane से संबंधित सारी जानकारी हिंदी में देंगे। तो आइए चलते हैं यह जानने के लिये की TAHSILDAR KAISE BANE हम आपको अपने इस आर्टिकल में आज तहसीलदार क्या होता है?, तहसीलदार का कार्य क्या होता है?। तहसीलदार बनने की योग्यता, आयु सीमा तथा तहसीलदार की सैलरी कितनी होती है।

इससे संबंधित सारी जानकारी देंगे। तो यदि आप तहसीलदार बनने की सोच रहे हैं। तो आपको यह पोस्ट अंत तक अवश्य पढ़नी चाहिए। क्योंकि इसमें दी गई सारी जानकारी भविष्य में आप के काम आने वाली है।

तहसीलदार कैसे बनने की पूरी जानकारी

वर्तमान में सरकारी नौकरी मिलना इतना कठिन हो गया है। की इसके लिए सोचना भी बड़ी बात हो गई है। इसलिए यदि आप सरकारी नौकरी करना चाहते हैं। और उसमें तहसीलदार बनना चाहते हैं। तो आपको कड़ी मेहनत करनी होगी। और आपको मन लगाकर पढ़ाई करनी होगी। साथ ही साथ आप जिस फिल्ड में भी अपना कैरियर बनाना चाहते हैं। उनसे संबंधित सारी जानकारी को प्राप्त करना होगा। यदि आप तहसीलदार बनने की सोच रहे है। तो आज हम आपको तहसीलदार कैसे बनते हैं। इससे संबंधित सारी जानकारी देने वाले हैं। आपको तहसीलदार से संबंधित सारी जानकारी हमारे इस लेख में मिलेगी।

तहसीलदार कैसे बने? | तहसीलदार बनने की पूरी जानकारी

यदि आपके घर में किसी का भी सपना आपको तहसीलदार बनाने का है। तो आपको उसके लिए दिल लगाकर पढ़ाई करनी होगी। तथा अपने और अपनों के सपनों को पूरा करने के लिए एकजुट होकर पढ़ाई करनी होगी। तो आइए चलते है। कि तहसीलदार क्या होता है। और तहसीलदार बनने के लिए आपको क्या-क्या करना होगा। हमें उम्मीद है कि हमारे द्वारा दिए गए इस लेख में सारी जानकारी आपके काम अवश्य आएगी। और आप भविष्य में तहसीलदार कैसे बने? की जानकारी के लिए कहीं नही भटकेंगे। अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आपको हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ना होगा।

 तहसीलदार कौन होता है? (Who is Tehsildar)

जैसे की हम सब जानते हैं। कि किसी एक जिले को सरकार के द्वारा अलग-अलग तहसील में बांट दिया जाता है। और उस तहसील का एक मुखिया होता है। जिसे हम तहसीलदार कहते हैं। इस तहसील के अंतर्गत आने वाले गांव के किसानों को तहसीलदार उनकी जमीन के प्रति सटीक और सीधी जानकारी प्रदान करते हैं। और उनके किसी भी सरकारी काम से संबंधित परेशानियों का निवारण करते हैं।

तहसीलदार का पद बहुत ही जिम्मेदारी वाला पद है। जो कि एक जिम्मेदार व्यक्ति को ही दिया जाता है। यह अपना कार्य बहुत ही इमानदारी के साथ करता है। क्योंकि तहसीलदार गांव के लोगों को सरकार द्वारा दिए लाभ से रूबरू कराता है। जब किसी व्यक्ति को अपने सरकारी संबंधित कोई भी कार्य कराने हैं। तो वह भी तहसीलदार के पास ही जाता है।

तहसीलदार का पद गांव और कस्बों में सबसे ऊंचा पद होता है। जिसके अंतर्गत सारे सरकारी कार्य होते हैं। वह तहसील के अंतर्गत आने वाले गांव और कस्बों को लाभ पहुंचाता है। और साथ ही साथ सरकार द्वारा निकाली गई लाभकारी स्कीम के बारे में गांव के लोगो को बताता है। गांव या कस्बे का कोई व्यक्ति अपना कोई भी सरकारी काम तहसीलदार के हस्ताक्षर के बिना नहीं करा सकता है।

अतः कह सकते है कि हर काम के लिए तहसीलदार की आवश्यकता होती है। गांव के पटवारी से लेकर कस्बे के हर एक व्यक्ति को तहसीलदार के हस्ताक्षर की आवश्यकता होती है। इसीलिए आजकल लोग तहसीलदार कैसे बने?  के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। क्योंकि तहसीलदार एक सर्वोच्च पद होता है।

तहसीलदार क्या कार्य करता है? (What does the Tehsildar do)

जैसा कि आपको ऊपर बताया गया है। कि तहसीलदार कस्बे और गांव के लिए इस सर्वोच्च पद होता है। इस बात से यह अंदाजा तो लगाया ही जा सकता है। कि तहसीलदार का कार्य तथा जिम्मेदारियां बहुत बड़ी होती है। जिन्हें शायद इस आर्टिकल में पूर्ण रूप से समझाना मुश्किल हो सकता है। परंतु तहसीलदार के पास विभिन्न प्रकार की जिम्मेदारियां होती हैं। और तहसीलदार के कुछ मुख्य कार्यों की सूची हमने नीचे दी है। इन कार्यो को ध्यान पूर्वक पढ़कर आप अंदाजा लगा सकते हैं। कि तहसीलदार का कार्य किस प्रकार का होता है।

  • ग्राम पंचायत का प्रमुख पद तहसीलदार का ही होता है। जो व्यक्ति सरकार के द्वारा दिए गए सभी लाभकारी सुविधा को गांव व कस्बों के लोगों तक पहुंचाने का कार्य करता है। वह तहसीलदार ही होता है।
  • सरकारी कागजों या दस्तावेजों जैसे निवास प्रणाम  पत्र, जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, पहचान प्रमाण पत्र और जन्म प्रमाण पत्र इन सभी पर तहसीलदार के हस्ताक्षर होना अनिवार्य होता है। क्योंकि तहसीलदार के हस्ताक्षर के बाद ही यह सारे सरकारी दस्तावेज legeal माने जाते हैं।
  • गांव में एक किसान की कितनी भूमि है। इसका ब्यौरा करने वाला तहसीलदार होता है। और सरकार के द्वारा गांव के किसानों को जो सुविधाएं दी जा रही है। वह सुविधाएं गांव के किसानों को मिल रही है या नहीं इसकी देखरेख करने की जिम्मेदारी भी एक तहसीलदार की होती है।
  • गांव में पटवारी जमीन से संबंधित जो भी कार्य करता है। उसकी देखरेख तहसीलदार के अंतर्गत आती है।

तहसीलदार कैसे बने? (How to become a Tehsildar?)

 ऊपर हमने आपको बताया कि तहसीलदार कौन होता है। और उसका कार्य क्या होता है। अगर आप अब भी तहसीलदार बनने की सोच रहे हैं। और जानना चाहते हैं कि  तहसीलदार बनने के लिए क्या-क्या करना चाहिए। तो हम आपको तहसीलदार बनने की प्रक्रिया के बारे में बताएंगे। और आपके अंदर उठ रहा यह सवाल कि Tahsildar kaise bane आज खत्म हो जाएगा। तो आइए जानते है tahsildar बनने की प्रक्रिया को।

1. अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी करें।

इस प्रतिष्ठित पद को पाने के लिए आपको सर्वप्रथम आपकी अपनी प्रारंभिक शिक्षा अच्छे नंबरों से पास करनी होगी। सर्वप्रथम आपको 10th में अच्छे मार्क्स लाने होंगे। साथ ही साथ 12th की पढ़ाई में भरपूर मेहनत करनी होगी। तथा तहसीलदार बनने के लिए 12th को भी वरिष्ठ नंबरों से clear करना होगा। आप अपनी इच्छा अनुसार 12th को किसी भी stream से पास कर सकते हैं।

परंतु यदि आपने 12th कर लिया है। और आप 12th करने के बाद तहसीलदार के पद को पाना चाहते हैं। तो उसके लिए आपको क्या करना चाहिए। यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है। कि 12th के बाद आप लोग तहसीलदार बनाने की सोच रहे हैं। 95% लोग 12th करने के बाद ही अपने कैरियर को choose करते हैं।

और कुछ 5% लोग ही होते हैं। जो 10th से ही अपने career पर फोकस करते हैं। इसलिए आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। हम बता दें उसके लिए प्रारंभिक शिक्षा जैसे 10th और 12th में कम से कम 50% मार्क्स होने चाहिए। इसके अलावा आपको तहसीलदार के पद को पाने के लिए क्या-क्या करना होगा इसकी चर्चा हम आगे करेंगे।

2. ग्रेजुएशन की डिग्री ले।

यदि आपने 12th क्लियर कर लिया है। तो उसके बाद आपको किसी भी stream से और किसी भी यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करनी है। परंतु याद रहे ग्रेजुएशन में भी आपको मन लगाकर पढ़ाई करनी होगी। और अच्छे अंक से अपनी स्नातक की डिग्री को प्राप्त करना होगा। आप अपने पसंद अनुसार सब्जेक्ट choose कर सकते हैं। ऐसा नहीं है कि तहसीलदार बनने के लिए आपको कोई particular सब्जेक्ट पढ़ने होंगे। आप किसी भी विषय से अपनी स्नातक की डिग्री को प्राप्त कर सकते हैं। और तहसीलदार बन सकते हैं।

3. राज्य लोक सेवा आयोग के लिए आवेदन करें।

प्रत्येक वर्ष हर राज्य के लिए राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा का आयोजन होता है। आप अपने राज्य की राज्य राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा में बैठने के लिए आवेदन कर सकते हैं। यह परीक्षा कब आयोजित की जाएगी इसके लिए आपको राज्य लोक सेवा आयोग के अधिकारी website को visit करना होगा। और उससे यह सारी जानकारी प्राप्त करनी होगी।

इसके अलावा आप गूगल पर भी राज्य लोक सेवा आयोग के बारे में सर्च करके यह पता लगा सकते हैं। की आपके राज्य में राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा कब आयोजित की जाएगी। तो graduation करने के बाद आपको इस परीक्षा के लिए आवेदन करना होगा।

3. प्रीलिम्स की परीक्षा पास करें

राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की गई परीक्षाओं में मुख्यतः तीन परीक्षाएं ली जाती है। प्रीलिम्स, mains और फिर आपके व्यक्तित्व को जानने के लिए इंटरव्यू का प्रचलन है। सबसे पहले prelims की परीक्षा होती है। जो व्यक्ति पुलिस की परीक्षा पास कर लेता है। वही mains और इंटरव्यू के योग्य होता है। यदि बात करे prelims की परीक्षा की तो prelims की परीक्षा में बहुविकल्पीय प्रश्न आते हैं।

जिन्हें हर व्यक्ति को attempt करना होता है। इसके पश्चात कट ऑफ का सिलसिला शुरू होता है। और जो व्यक्ति prelims की परीक्षा को पास कर लेता है। वह मेंस परीक्षा देने के योग्य हो जाता है। और दूसरे चरण की परीक्षा की तैयारी में लग जाता है।

4. मेंस की परीक्षा पास करें

Prelims की परीक्षा के बाद mains की परीक्षा आयोजित की जाती है। जो व्यक्ति prelims की परीक्षा को पास कर लेता है। वह व्यक्ति ही mains की परीक्षा देने के योग्य होता है। mains की परीक्षा लिखित होती है। इस परीक्षा के अंतर्गत भारतीय भूगोल, भारतीय इतिहास और भारतीय राजनीति से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

जो की बहु वैकल्पिक नहीं होते हैं। इनका आपको लिखित में उत्तर देना होता है। जो व्यक्ति mains की परीक्षा को पास कर लेता है। वह व्यक्ति ही आगे के चरणों के लिए चयनित किया जाता है। यानी जो छात्र जारी की गई कटऑफ पर मार्क्स ले आता है। वह व्यक्ति mains को क्लियर कर लेता है। और इंटरव्यू देने के योग्य हो जाता है।

5. इंटरव्यू पास करें और दस्तावेज सत्यापित करें

ऊपर दिए गए सभी निर्देशों का पालन करते हुए यदि आप प्रीलिम्स और mains दोनों परीक्षाओं को पास कर चुके हैं। तो आपको इंटरव्यू देने के लिए बुलाया जाएगा। जहां आपके व्यक्तित्व और प्रजेंस ऑफ माइंड को तराशा जाएगा। आपसे interview में आपके व्यक्तित्व को लेकर कुछ साधारण सवाल किए जाएंगे।

जिनके जवाब आपको अपने दिमाग से देने होंगे। और जैसे ही आप इंटरव्यू पास कर लेंगे। राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आपको तहसीलदार के पद के लिए चयनित कर लिया जाएगा। उसके तत्पश्चात आपके सरकारी दस्तावेजों का सत्यापन किया जाएगा। यदि आपके सभी डॉक्यूमेंट सही साबित होते हैं। तो आपको तहसीलदार की नौकरी प्रदान कर दी जाएगी।

तहसीलदार बनने के लिए योग्यता (Eligibility to become Tehsildar)

जैसा कि हमने पहले बताया है। कि तहसीलदार एक प्रतिष्ठित पद है। जो गांव और कस्बे का सर्वोच्च माना जाता है। तहसीलदार बनने के लिए आपके पास कुछ साधारण योग्यताएं तो अवश्य होनी चाहिए। तभी आप राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

परीक्षा में आवेदन करने के लिए सबसे प्रमुख योग्यता शिक्षण योग्यता होती है। शिक्षण योग्यता यानी कि आपका 10th और 12th 50% अंक के साथ पास होना आवश्यक है। हालांकि आपको तहसीलदार बनने के लिए किसी अलग विषय पर जानकारी प्राप्त होना आवश्यक नहीं है। आप केवल इस परीक्षा को पास करके ही तहसीलदार बन सकते हैं।

परंतु तहसीलदार बनने के लिए आपके पास सबसे जरूरी स्नातक की डिग्री होनी चाहिए। स्नातक की डिग्री आप किसी भी विषय से प्राप्त कर सकते हैं। यह आपकी इच्छा अनुसार विषय और यूनिवर्सिटी पर depend करता है। परंतु स्नातक डिग्री किस विषय से होनी चाहिए ऐसा कुछ भी राज्य लोक सेवा आयोग के द्वार नहीं कहा गया है। इसके अलावा तहसीलदार के लिए राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा निर्धारित की गई अधिकतम आयु से आपकी उम्र कम है। तब भी आप राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की गई परीक्षा में आवेदन कर सकते हैं।

तहसीलदार बनने के लिए आयु सीमा (Age Limit to become Tehsildar)

तहसीलदार की परीक्षा राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की जाती है। और राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा ही इसकी योग्यताएं रखी जाती है। हम बता दें तहसीलदार बनने के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 40 वर्ष रखी गई है। परंतु अलग-अलग श्रेणी में आने वाले लोगों के लिए यह उम्र अलग-अलग रखी गई है। आइए जानते हैं। की किस किस वर्ग के व्यक्तियों के लिए तहसीलदार बनने की आयु कितनी है।

  • सामान्य श्रेणी में आने वाले लोगों के लिए – यदि बात की जाए। सामान्य वर्ग में आने वाले व्यक्तियों की तो इस वर्ग में आने वाले लोगों के लिए तहसीलदार बनने की न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 32 वर्ष रखी गई है।
  • ओबीसी श्रेणी में आने वाले लोगों के लिए – ओबीसी श्रेणी में जो लोग आते हैं। उनकी  तहसीलदार बनने की न्यूनतम आयु 21 वर्ष है। तथा अधिकतम आयु 35 वर्ष रखी गई है।
  • SC/ST श्रेणी में आने वाले लोगों के लिए – इस श्रेणी में आने वाले सभी लोगों की तहसीलदार बनने की न्यूनतम आयु 21 वर्ष है। और अधिकतम आयु 40 वर्ष रखी गई है।

तहसीलदार बनने की तैयारी कैसे करें? (How to prepare to become a Tehsildar?)

हम आपको बताएंगे कि आप तहसीलदार बनने की तैयारी कैसे करें? तहसीलदार बनने की तैयारी करने के लिए हमने नीचे आपको कुछ टिप्स दिए हैं। इनको फॉलो करके आप तहसीलदार बनने की तैयारी शुरू कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं। कुछ खास tips के बारे में।

1. पहले लक्ष्य स्थिर करें

यह तो हम सब जानते है। कि जब तक हम अपने लक्ष्य को स्थिर नहीं करेंगे। हम किसी चीज को नहीं पा सकते है। यदि हम इधर उधर भटकते रहेंगे। तो हम किसी भी चीज को नहीं पा सकेंगे। परंतु यदि हम एक चीज के लिए जान लगाकर मेहनत करेंगे। तो वह हमें अवश्य मिलती है। आपका लक्ष्य एकदम सटीक और सीधा होना चाहिए।

यदि आप तहसीलदार बनना चाहते हैं। तो आप सिर्फ तहसीलदार बनने पर ही फोकस करिए। तथा किसी और चीज की तैयारी में ना लगे। और दूसरों की बातों पर बिल्कुल ध्यान ना दें। आप अपने लक्ष्य के लिए जी जान लगाकर मेहनत करें। तहसीलदार बनने के लिए आपको बहुत मेहनत से पढ़ाई करनी होगी।

2. तहसीलदार की परीक्षा के लिए तैयारी करें

तहसीलदार की परीक्षा राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित कराई जाती है। यह परीक्षा अपने आप में ही बहुत बड़ी परीक्षा है। यानी इसमें आपको तीन परीक्षाएं पास करनी होती है। प्रीलिम्स, mains और इंटरव्यू। इन परीक्षाओं को पास करने के लिए आपको रोज अखबार पढ़ने की आदत डालनी होगी। साथ ही साथ टाइम टेबल बनाना होगा। और उस टाइम टेबल को फॉलो भी करना होगा।

क्योंकि इस परीक्षा में पूछे जाने वाला सिलेबस बहुत ज्यादा होता है। यदि आप Daily पढ़ाई नहीं करेंगे। तो  सिलेबस पूरा नहीं हो पाएगा। परंतु टाइम टेबल के अनुसार रोजाना पढ़ाई करने से आप का syllabus पूरा हो जाएगा।

केवल पढ़ाई करने से ही आप राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की गई परीक्षाओं को पास नहीं कर सकते हैं। आपको अपनी पढ़ाई का रिवीजन बार-बार करना होगा। साथ ही साथ अपने व्यक्तित्व को बार-बार निखारना होगा। एक समय के बाद आपको अपने टाइम टेबल फॉलो करना बहुत मुश्किल लगेगा। परंतु इस मुश्किल वक्त में ही आपको अपने टाइम टेबल को फॉलो करना है। और अपने माइंड को खुद कंट्रोल करना होगा। ताकि आप इस परीक्षा को पास कर सकें। इस प्रकार आप तहसीलदार की परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं।

3. परीक्षा की pattern को समझें

राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित परीक्षा को पास करने के लिए आपको परीक्षा के पैटर्न को समझना पड़ेगा। आपको यह देखना पड़ेगा कि राज्य लोक सेवा आयोग किस विषय से अधिकतम क्वेश्चन पूछता है। और किस विषय से अधिकतम क्वेश्चन आने की संभावना है।

आपको इस बात की जानकारी प्राप्त करनी होगी। कि कितने प्रश्न आयोग के द्वारा prelims परीक्षा में पूछे जाते हैं। और कितने प्रश्न mains में पूछे जाते हैं। यदि आप यह जानकारी जुटा पाने में सक्षम होते हैं। तो आप प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर से इस बात की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर की मदद से आपको इन सब बातों की जानकारी प्राप्त हो जाएगी।

4. सभी जरूरी विषय पर ध्यान दें।

आपको पढ़ाई करते समय जरूरी विषयों पर ज्यादा ध्यान देना है। जैसे कि हम आपको बता दें। तहसीलदार की परीक्षा में करंट अफेयर्स और general knowledge से कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न पूछे जाते हैं। जिनको तैयार करना आपकी जिम्मेदारी है। साथ ही साथ आपको रोजाना न्यूज़ पेपर पढ़ना, न्यूज़ देखना और मैगजीन पढ़ने जैसे कार्य को भी करना होगा। जो आपकी परीक्षा को पास करने में भरपूर मदद करेंगे। साथ ही syllabus में दिए गए सब्जेक्ट पर अच्छे से ध्यान देना होगा। तथा देश-विदेश और भारतीय रिलेशनशिप  पर चल रही चर्चा पर ध्यान देना होगा। इन टिप्स को अपनाकर आप अपने जरूरी। विषय पर अच्छे से पढ़ाई कर सकते हैं।

5. Latest Technology का उपयोग करें।

यदि आप तहसीलदार की परीक्षा की अच्छी तैयारी करना चाहते हैं। तो आपके पास अवश्य ही स्मार्टफोन तो होगा। साथ ही साथ लैपटॉप और कंप्यूटर जैसी चीजें भी आजकल हर किसी के पास होती हैं। जी हां, हम technology की बात कर रहे है। आजकल इंटरनेट के माध्यम से लोग competition की तैयारी करते हैं।

आप यूट्यूब या फिर किसी एप्लीकेशन के माध्यम से daily करंट अफेयर्स पढ़ सकते हैं। और अपने विशेष subjects पर यूट्यूब से पढ़ाई करके अपने concept क्लियर कर सकते हैं। यही कारण है की आप लेटेस्ट टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके अपनी पढ़ाई को और बेहतर बना सकते हैं। यह सारी टिप्स अपनाकर आप राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षा को पास कर सकते हैं।

तहसीलदार की सैलरी कितनी होती है? (What is the salary of Tehsildar?)

हम किसी भी नौकरी को इसलिए करना चाहते हैं। ताकि हमारा जीवन सरल हो जाए और हम एक अच्छी तनख्वाह पा सके। तथा अपने घर और अपना जीवन अच्छे से व्यतीत कर सकें। सब सरकारी नौकरी इसलिए पसंद करते हैं। क्योंकि सरकार के द्वारा सरकारी नौकर को दी जाने वाली सुविधाएं बहुत खास होती हैं। इसीलिए लोग इतनी कड़ी मेहनत करके नौकरी पाते हैं।

अगर हम तहसीलदार की सैलरी की बात करें तो आमतौर पर तहसीलदार की तनख्वाह ₹35000 प्रति माह से ₹45000 प्रति माह तक होती है। आगे चलकर तहसीलदार के पद पर प्रमोशन हो जाता है। और यही तनख्वाह ₹50000 प्रति माह या उससे ज्यादा हो सकती है।

तहसीलदार की नौकरी प्राप्त होने के बाद आपको सरकार के द्वारा सरकारी सुविधाएं दी जाती है। जिसके अंतर्गत आपको यात्रा भत्ता, महंगाई भत्ता, एक मकान और एक स्थान से दूसरे स्थान तक यात्रा करने के लिए एक गाड़ी दी जाती है। जिस गाड़ी का सारा खर्चा सरकार की तरफ से उठाया जाता है।

यह सारी सुविधा आपको सरकारी नौकरी होने की वजह से मिलती है। जो कि किसी भी प्राइवेट जॉब में मिलना असंभव है। इसीलिए तो लोग इतनी मेहनत करके सरकारी नौकरी पाते हैं। तहसीलदार बनने के बहुत से फायदे आपको नजर आए होंगे। तो इसलिए यदि आप तहसीलदार बनना चाहते हैं। तो पढ़ाई में लग जाइए।

तहसीलदार कैसे बने इससे संबंधित प्रश्न व उत्तर (FAQs)0

Q:- 12वीं के बाद तहसीलदार कैसे बने

Ans:- यदि आप ने 12th पास कर लिया है। और 12th में आपकी 50% है। तो आप तहसीलदार बनने का ख्वाब देख सकते हैं। आपको 12th करने के बाद अपने मनपसंद विषय से मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी के द्वारा स्नातक की डिग्री को प्राप्त करना है। और इसके तत्पश्चात राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षा में आवेदन करना होगा। और इन परीक्षाओं को पास करके आप तहसीलदार की नौकरी पा सकते हैं।

Q:- तहसीलदार बनने की न्यूनतम और अधिकतम आयु कितनी है?

Ans:- तहसीलदार बनने की न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 40 वर्ष है।

Q:- तहसीलदार के क्या कार्य होते हैं?

Ans:- मुख्यता तहसीलदार के बहुत कार्य होते हैं। तहसीलदार की जिम्मेदारियां अपने गांव और कस्बे के प्रति बहुत ज्यादा होते हैं। अगर हम इन के मुख्य कार्य की बात करें। तो जमीन संबंधित, कर संबंधित, प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाले नुकसान और दस्तावेज संबंधित कार्य tehsildar के होते हैं। साथ ही साथ अन्य ऐसे बहुत से कार्य होते हैं। साथ  जो तहसीलदार के द्वारा किए जाते हैं।

Q:- तहसीलदार बनने के लिए कौन सी परीक्षा पास करनी होती है?

तहसीलदार बनने के लिए राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित की जाने वाली सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है। जो तीन भागों में विभाजित है। प्रीलिम्स, mains और इंटरव्यू।

तहसीलदार की न्यूनतम सैलरी कितनी होती है?

तहसीलदार की न्यूनतम सैलरी ₹35000 प्रति माह से ₹45000 प्रतिमाह तक होती है। जो आगे चलकर बढ़ जाती हैं।

निष्कर्ष

आज हमने आपको अपने इस आर्टिकल में तहसीलदार क्या होता है?, tahsildar का कार्य क्या होता है, तहसीलदार की योग्यता, तहसीलदार की आयु सीमा और तहसीलदार की सैलरी कितनी होती है। इससे संबंधित सारी जानकारी दी है। साथ ही साथ आप तहसीलदार बनने के लिए तैयारी कैसे करें। इसके बारे में भी आपको बताया है। उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अवश्य पसंद आई होगी। यदि आपको यह जानकारी पसंद आई है। तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताएं। और इस article को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।