10 वीं के बाद क्या करें?

आज के समय में सामान्य तौर पर विद्यार्थी 10वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के लिए पश्चात 11वीं और 12वीं करते है और बहुत से विद्यार्थी ITI, Hotel Management, Media जैसे कैरियर डिप्लोमा को करना पसंद करते है। लेकिन साधरणतया 10वीं उत्तीर्ण करने वाला बच्चा इतना सक्षम नहीं होता है कि वह अपने भविष्य के लिए सही ऑप्शन का चयन कर सके या फिर सही विषयों का चुनाव कर सके।

जिससे वह उस समय अपने नादानीपन में किसी गलत दिशा का चुनाव कर बैठते है। जो कि उनके फ्यूचर के लिए सही साबित नहीं होती हौ। ऐसे ही स्टूडेंट्स की सुविधा के लिए हमारे द्वारा इस आर्टिकल को तैयार किया गया है। जिसमें हम आपको बताएंगे कि 10वीं क्या करें? जिससे सही दिशा का चयन करने में सहायता मिलेगी। इसलिए अगर आप भी एक 10th Student है और अच्छी और फ्यूचर के लिए बेहतर शिक्षा प्राप्त करना चाहते है, तो ये आर्टिकल आपके लिए काफी Useful साबित होगा। तो चलिए शुरू करते है – 

10वीं के बाद क्या करें? | what to do after 10th

10 वीं के बाद क्या करें

10वीं के बाद क्या करें? ये सवाल आज इंटरनेट पर सर्च होने वाला एक मुख्य बिंन्दू बन गया है, क्योंकि 10वीं के बाद हमें अपने भविष्य को ध्यान में रखते हुए एक विशेष दिशा में पढ़ाई करनी होती है। तभी हम सफल हो सकेंगे वरना बहुत से विद्यार्थी संघ साथियों के चक्कर में भ्रामित होकर गलत दिशा का चयन कर बैठते है। जिससे उन्हें भविष्य में बहुत सी समस्याएं होती है और वे अपनी योग्यता सिद्ध करने में असमर्थ हो जाते है।

लेकिन हम चाहते है कि हमारे देश के युवाओं का भविष्य उज्जवल बन सकें। क्योंकि युवाओं से देश का भविष्य सुनिश्चित होता है औऱ जब तक युवाओं का विकास नहीं होगा। तब तक देश का विकास संभव नहीं है, इसलिए हम चाहते है कि युवा शिक्षा को प्राप्त अपनी योग्यता सिद्ध करकेअपने भविष्य को उज्ज्वल बना सकें। जिसके लिए हमारे द्वारा इस आर्टिकल को तैयार किया गया है। जिसमें हम आपको 10वीं के बाद क्या करें? के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएंगे। तो चलिए शुरू करते है –

दसवीं के बाद कैसे विषयों का चयन करें? How to choose subjects after 10th?

10वीं उत्तीर्ण करने के बाद हमें अपनी रुचि और योग्यता को ध्यान में रखते हुए विषयों का चयन करना होता है। जिससे हमें आगे चलकर किसी भी प्रकार की  का सामना नहीं करना पड़े। क्योंकि 10वीं के पश्चात विद्यार्थी के पास बहुत विषयों को लेकर बहुत से विकल्प होते है। जिस कारण अक्सर विद्यार्थी भ्रामित होकर गलत विषयों का चयन कर बैठते है। लेकिन मुख्यता बच्चों के पास 3 विकल्प होते है। जो कि निम्न प्रकार है –

  • Art (कला वर्ग)
  • Science (विज्ञान वर्ग)
  • Commerce (वाणिज्य वर्ग)

Art ( कला वर्ग )

ये वर्ग मुख्यता उन विद्यार्थियों द्वारा चुना जाता है। जिनके 10वीं की परीक्षा में 50% या उससे कम अंक प्राप्त किये है। अगर आप भी कला वर्ग का चयन करना चाहते है। तो आपको बता दें कि इसके अंतर्गत निम्न विषय आते है –

  • कला (Drawing)
  • राजनीतिक शास्त्र (Political Science)
  • अर्थशास्त्र (Econamices)
  • संस्कृत (Sanskrat)
  • भूगोल (Geography)
  • इतिहास (History)
  • अंग्रेजी (English)
  • दर्शनशास्त्र (philosophy)
  • समाजशास्त्र (Sociology)
  • मनोविज्ञान (Sociology)

Science ( विज्ञान वर्ग )

विज्ञान वर्ग का चयन उन विद्यार्थियों द्वारा किया जाता है। जिन्होंने 10वीं परीक्षा में 50% या उससे अधिक अंक प्राप्त किये है। इसके अलावा आपको बता दें! कि विज्ञान वर्ग को दो भागों में विभाजित किया गया है।

PCM – जो विद्यार्थी इंजीनियरिंग क्षेत्र में जाना चाहते है, वो 10वीं के बाद PCM का चयन करते है।  जिसमें उन्हें गणित, भौतिक विज्ञान और रसायन विज्ञान पढ़ाई जाती है।

PCB – जो स्टूडेंट्स चिकित्सा क्षेत्र में जाना चाहते है या फिर डॉक्टर बनना चाहते है वो 10वीं के बाद PCB ले सकते है। जिसके उन्हें भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान का अध्यन करना होता है।

Commerce (कॉमर्स)

जो विद्यार्थी बैंकिंग क्षेत्र में जाना चाहते है या अकॉउंटेट बनाना चाहते है वे 10वीं के बाद Commerce ले सकते है। Commerce अक्सर उन विद्यार्थिओं द्वारा ली जाती है। जिन्होंने 10वीं में 40% या उससे अधिक अंक प्राप्त किये है। इसके अंतर्गत निम्न विषय पढ़ाये जाते है –

  • एकाउंटेंसी (Accountancy)
  • बिजनेस स्टडीज (Business Studies)
  • इकोनॉमिक्स (Econamics)
  • अंग्रेजी (English)
  • मथ्समेटिक्स (Mathsmetics)

Vocational Courses क्या होते है?

अगर आपका एकमात्र उद्देश्य जॉब प्राप्त करना है, तो 10वीं के Vocational Courses भी कर सकते है और आज के समय इसका स्कोप भी बहुत है। जिसके अंतर्गत आपको संस्थान द्वारा आपको ट्रेनिंग, सर्टिफिकेट, डिग्री आदि प्रदान की जाती है। इसके अलावा बहुत सी संस्थान है जो 100% जॉब प्लेसमेंट का भी बाधा करते है।

Vocational Stream के कोर्स

यदि आप Vocational Courses को करना चाहते है। तो आपको पता होना आवश्यक है कि Vocational Courses कौन – कौन से होते है। जो कि निम्न प्रकार है –

  • Fire And Safety
  • Cyber Laws
  • Jeweller Designing
  • Interior Designing
  • Fashion Designing Etc.

Career Option After 10th

यदि आप 10th के बाद 11th – 12th नहीं करना चाहते है। तब भी आपके पास बहुत से Career Option उपलब्ध है। जिन्हें आप 10th के बाद कर सकते है और अपने फ्यूचर को अच्छा बना सकते है। जो कि निम्न है –

ITI – 10वीं के बाद जल्दी नौकरी प्राप्त करने के लिए ITI एक अच्छा ऑप्शन माना जाता है। जो कि 2 वर्ष का डिप्लोमा होता है। जिसे आप प्राइवेट और सरकारी दोनों प्रकार कर सकते है। जिसमें आपको मैकेनिकल, इलेक्ट्रीशियन, कंप्यूटर साइंस, वेल्डर, मोटर मेकेनिक आदि में अपनी इच्छा के अनुसार एक ट्रेड का चयन करना होता है। जिससे रिलेटेड जॉब आप प्राप्त करना चाहते है।

Hotel Management – दसवीं उत्तीर्ण करने के पश्चात आप होटल मैनेजमेंट का डिप्लोमा भी कर सकते है। जिसका इस काफी स्कोप है।

Media – अगर आपको घूमना अच्छा लगता है। तो आप मीडिया कोर्स को जॉइन कर सकते है।

Computer Hardware And Networking – इस समय डिजिटल दौर चल रहा है और हर व्यक्ति Computer से जुड़ रहा है। इसलिए अगर आप Computer Hardware and Networking का कोर्स कर लेते है। तो आपको अच्छी जॉब आसानी से मिल सकती है।

Engineering Diploma – Engineering Diploma जिसे पॉलीटेक्निक डिप्लोमा भी करते है। आप चाहे तो 10th के बाद इसे भी कर सकते है। जो कि तीन वर्ष का होता है और ये डिप्लोमाआपको कंप्यूटर साइंस, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिशियन आदि में किसी एक विशेष ट्रेड द्वारा करना होता है।

निष्कर्ष –

आज का लेख हमारे द्वारा 10वीं उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों की सहायता के लिए तैयार किया गया हैं। हम उम्मीद करते है इस लेख में बतायी गई जानकारी के बारे में पड़कर आपको काफी अच्छा लगा होगा। इसके अलावा लेख में कोई सुधार या बदलाब के लिए आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।