प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

वर्तमान समय में कंपटीशन बहुत बढ़ता जा रहा है। क्योंकि ज्यादातर लोग प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं। यदि आप किसी भी क्षेत्र में जाने के लिए प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। तो वहां आपको बहुत बड़ी संख्या में लोग देखने को मिलते हैं। परंतु फिर भी आपको इस प्रतिस्पर्धा का भाग बनाना होता है। क्योंकि आप एक अच्छी नौकरी या पद प्राप्त करना चाहते हैं। कुछ बच्चे ऐसे होंगे जो अब प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करना शुरू करेंगे। तो उनके लिए यह लेख बहुत ही जरूरी है। आज हम आपको बताएंगे की प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें? इसकी संपूर्ण जानकारी आपको इस आर्टिकल में आपको देखने को मिलेगी।

हर कोई आज की वर्तमान समय में किसी न किसी कंपटीशन की तैयारी अवश्य ही कर रहा होगा। तो जो बच्चे कंपटीशन की तैयारी शुरू करने वाले हैं। उनके मन में यह सवाल अवश्य होगा कि आखिर हम Competition Exam ki tayari kaise kare? इस सवाल को देखते हुए आज हमने अपने एक लेख में आपको प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें? इससे संबंधित संपूर्ण जानकारी के बारे में विस्तार पूर्वक बताया है। यदि आप भी कंपटीशन की तैयारी कर रहे हैं और यह जानना चाहते हैं कि आप और बेहतर तरह से अपनी तैयारी कैसे कर सकते हैं? तो यह आर्टिकल आपके लिए बहुत लाभदायक होने वाला है। अधिक जानकारी के लिए हमारे लेखपाल तक अवश्य पढ़ें

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें (How to prepare for Competition Exam)

यह तो हम सब जानते हैं कि प्रतियोगी परीक्षाएं हमारे स्कूल और कॉलेज की परीक्षाओं से बिल्कुल भिन्न होती हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं में हमें अधिक मेहनत करने की जरूरत होती है। आज के समय में अधिकतर युवा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में लगे हुए हैं। ताकि उन्हें एक अच्छी सरकारी नौकरी प्राप्त हो जाए। हमने आपको नीचे Competition Exam ki tayari kaise kare? इसके बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी है।

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कैसे करें?

1. कंपटीशन एग्जाम का सिलेबस देखें (See the syllabus of Competition Exam)

आप जिस कंपटीशन की तैयारी कर रहे हैं। उसके syllabus को निकाले और उसे ध्यानपूर्वक पढ़ें। तथा आसपास के लोगो से syllabus से संबंधित जानकारी प्राप्त करें। इससे आपको एक बात समझ आ जाएगी। कि आपके एग्जाम में किन-किन सब्जेक्ट से क्वेश्चन पूछे जाते हैं। फिर आप अपनी तैयारी को उसी दिशा में ले जा सकते हैं। अपने से बड़े जिसने competition निकल लिया हो। उससे syllabus डिस्कस करे।

Syllabus हर परीक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण अंश साबित होता है। क्योंकि Syllabus ही आपको यह जानकारी देता है। कि किस प्रकार के सब्जेक्ट से किस प्रकार के क्वेश्चन आपको आपकी प्रतियोगी परीक्षा में देखने को मिलेंगे। Syllabus में आपको टॉपिक मिल जाएंगे। जिन के माध्यम से आप टॉपिक वाइज अपने सिलेबस को पढ़ें। जो आपकी प्रतियोगिता परीक्षा के लिए बहुत लाभदायक होंगे।

2. अपना टाइम टेबल बनाएं ( Make your own Self Study Time Table)

जब आप Syllabus को बेहतरीन तरह से समझ जाओगे। उसके बाद आपको अपनी पढ़ाई के लिए टाइम टेबल बनाने की आवश्यकता होती है। हर विषय को समय देने के लिए आपको टाइम टेबल बनाना आवश्यक है। यह तो हम सब जानते हैं। कि Self Study किसी भी कंपटीशन एग्जाम को पास करने के लिए बहुत जरूरी है। आप बेहतरीन तरह से टाइम टेबल बनाए ताकि आप हर सब्जेक्ट के टॉपिक को अच्छे से कवर कर सकें। तथा हर विषय को अपना समय दे।

आपको उस विषय को ज्यादा समय दे। जिसमें आपको लगता हो कि आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी और आपको वह सब्जेक्ट बिल्कुल भी नहीं आता है। टाइम टेबल के अनुसार उस सब्जेक्ट हो अपना ज्यादा समय दे। टाइम टेबल बनाकर आप अपने समय में का अच्छी तरह से उपयोग कर सकेंगे। साथ ही अपने बाकी कामों के लिए भी भरपूर समय निकाल सकेंगे। इसलिए प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए टाइम टेबल बहुत ही आवश्यक है।

3. एग्जाम के मटेरियल को इकट्ठा करें (Collect the Exam Material)

दोस्तों आजकल हर प्रतियोगी परीक्षा के लिए हर क्षेत्र में बेहतरीन कोचिंग सेंटर होते हैं। यदि आप कोचिंग सेंटर ज्वाइन करते हैं। तो आपको कोचिंग संस्थान के माध्यम से स्टडी मैटेरियल प्रदान कराए जाते हैं। स्टडी मटेरियल बहुत ही लाभदायक होते हैं। क्योंकि जो स्टडी मैटेरियल आपको कोचिंग संस्थान द्वारा प्रदान किए जाते हैं। वह उस विशेष प्रतियोगी परीक्षा को नजर में रखते हुए बेहतरीन तरह से बनाए जाते हैं।

आपको अपनी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए एक अच्छी कोचिंग संस्थान की खोज करनी होगी। ताकि उस इंसान के द्वारा दिए गए एग्जाम मटेरियल से आप को फायदा हो। इसलिए हमने आपको बताया कि आप को एक अच्छी कोचिंग सेंटर ज्वाइन करनी होगी। जिसके माध्यम से आप को एग्जाम मटेरियल इकट्ठा करना होगा। क्योंकि यह एग्जाम मटेरियल आपकी प्रतियोगी परीक्षा के लिए बहुत ही आवश्यक होता है।

4. पैटर्न का प्रयोग करें (Use the pattern)

हम किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते हैं। तो उसके लिए अपने नोट्स बनाने होते हैं। नोट्स बनाते समय आपको इस बात का ध्यान रखना है। कि आपको कितनी बातें किताबों में लिखी हैं। उनको शार्ट तरीके से अपने खुद के नोट्स में लिखना होगा और बिंदुओं के माध्यम से इंपॉर्टेंट चीजों को अपने नोट्स में mention करें। आप विस्तार पूर्वक किसी भी चीज को अपने नोटिस में ना लिखें।

इस pattern का प्रयोग करके आप अपनी एक बेहद अच्छे नोट्स तैयार कर सकते हैं। जो प्रतियोगी परीक्षा के समय पर रिवीजन में आपकी बहुत मदद करेंगे। इनकी सहायता से आप आने वाली बहुत सी प्रतियोगी परीक्षाओं को पास करने में सक्षम होते हैं। Short notes पढ़ाई का एक बहुत महत्वपूर्ण अंग होता है।

5. कोर्स को छोटे-छोटे भागों में विभाजित करें (Divide the course in small parts)

प्रतियोगी परीक्षाओं के सिलेबस को जब हम देखते हैं। तो वह बहुत बड़ा होता है। कई बार विद्यार्थी इतना सिलेबस देखकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते समय डर जाते हैं। परंतु आपको ऐसा नहीं करना है। यदि आप प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। तो उसके लिए आपको syllabus को छोटे-छोटे भागों में विभाजित करना होगा। आप हर एक चैप्टर के टॉपिक को एक-एक दिन बैठकर पढ़े।

तथा उन्हें छोटे-छोटे भागों में पढ़ना शुरू करें। साथ ही इतने बड़े syllabus का स्ट्रेस बिल्कुल ना लें। इस प्रकार आपका पूरा सिलेबस प्रतियोगी परीक्षा तक हो जाएगा। इसीलिए हमने आपको बताया है कि कोर्स को छोटे-छोटे भागो में विभाजित करे। ताकि आप आसानी से बिना stress के कोर्स को पूरा कर सकें।

6. उपयुक्त स्थान का चयन करें (Select the perfect place)

यदि आप कोचिंग कर रहे हैं। परंतु घर पर बिल्कुल पढ़ाई नहीं करते तो आप प्रतियोगी परीक्षा को पास करने में सक्षम नहीं हो पाएंगे। कोचिंग के साथ-साथ आपको घर पर भी Self Study करनी होती है। इसके लिए आपको एक ऐसे स्थान की आवश्यकता होती है  जो शांत हो साथ ही जहां आपकी पढ़ाई बहुत अच्छे से हो सकती हो। यदि आप अच्छे से पढ़ाई करना चाहते हैं। तो आप को शांत और ध्यान केंद्रित करने वाले स्थान पर बैठकर पढ़ाई करनी चाहिए ।

यदि आपके घर में ऐसा कोई भी स्थान नहीं है। तो आप बाहर अपने आसपास के पुस्तकालय में जाकर पढ़ सकते हैं। क्योंकि जहां पढ़ाई का माहौल होता है। वास्तविक में वही पढ़ाई की जा सकती है। अन्यथा हमारा मन भटकता रहता है। यदि आप भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। तो आपको भी एक उपयुक्त स्थान का चयन करना आवश्यक है।

7. पिछले साल के प्रश्न पत्र को जरूर हल करें (Solve the previous year question paper)

दोस्तों जब हम प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते हैं। तो हम शुरुआत में मन लगाकर पढ़ाई करते हैं। परंतु यदि हम उससे संबंधित प्रश्न व उत्तर को लगा नहीं देते है। हमें अपने ऊपर कॉन्फिडेंस नहीं आता है और हमें अपना पढ़ा हुआ सब कुछ बेकार लगता है। इसीलिए आपको पिछले साल के प्रश्न पत्र जरूर हल करने चाहिए। जिस टॉपिक को आप पढ़ते जाए उस टॉपिक से संबंधित प्रश्न लगाएं। जिससे आपका उस टॉपिक के प्रति कॉन्फिडेंस बढ़ जाएगा।

पिछले साल के प्रश्न हल करने से आपको यह पता चलता है। कि किस टॉपिक से अत्यधिक प्रश्न पूछे जा रहे हैं और आप कितने प्रश्नों को हल कर पा रहे हैं। क्योंकि उसी पैटर्न में उसी के लेवल का आपकी प्रतियोगी परीक्षा में पेपर आने वाला होता है। यदि आप प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर को अच्छे से सॉल्व कर लेते हैं। तो आपको आने वाले परीक्षा से घबराने की कोई आवश्यकता नहीं होती है। आप जितने अधिक क्वेश्चन पेपर हल करते है। आपका कॉन्फिडेंस उतना ही अधिक बढ़ता जाता है।

8. दोस्तों के साथ ग्रुप बनाएं (Form a group with friends)

जब आप अपनी प्रतियोगी परीक्षा के सिलेबस को पूरा कर लेते हैं। तो उसे आप भूल ना जाए इसके लिए डिस्कशन बहुत ही महत्वपूर्ण अंग होता है। दोस्तों के साथ ग्रुप डिस्कशन करने से आपको जो बातें नहीं आती हैं। उनका पता चलता है और जो आता है उसका रिवीजन हो जाता है। साथ ही आपको ग्रुप डिस्कशन में उन लोगों को शामिल करना चाहिए। जो आपकी तरह आप की प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हो।

यदि आपको किसी प्रश्न को हल करते समय कठिनाई महसूस हो रही है। तो ग्रुप डिस्कशन की टाइमिंग के समय आप उस प्रशन को अपने दोस्तों के साथ डिस्कस कर सकते हैं। जब आप ग्रुप डिस्कशन करते हैं। तो आपको कुछ ऐसे प्रश्न मिलते हैं। जिनका उत्तर आपको नहीं पता होता है। इससे आपको अंदाजा हो जाएगा कि आपकी तैयारी कैसी चल रही है? तथा आपको कितनी अधिक तैयारी करनी है।

9. कभी तनाव में पढ़ाई ना करें (Never Study Under Stress)

दोस्तों पढ़ाई को तनाव में नहीं किया जा सकता है। यह बात हम सब जानते हैं। यदि आपको किसी भी बात की टेंशन है। तो आप पढ़ाई नहीं कर पाते हैं। चाहे आप अपनी पढ़ाई पर कितना ही कंसंट्रेशन कर लें। यदि आप पढ़ाई को बहुत अच्छी तरीके से करना चाहते हैं। तो आपको मेंटली स्ट्रांग होना होता है और बिना किसी परेशानी और स्ट्रेस के अपनी पढ़ाई पर फोकस करना होता है। इसके लिए आपको तनाव से दूर रहना होगा।

यह तो हम सबके घर में बताया जाता है। कि पढ़ाई के लिए अपने दिमाग को खोल कर रखना चाहिए। बंद दिमाग में पढ़ाई कभी नहीं जा सकती है।  यदि आप तनाव में होते हुए भी पढ़ाई कर रहे हैं। तो आपको कुछ भी समझ में नहीं आता है। साथ ही यदि आप पढ़ाई करने में ज्यादा जोर देते हैं। तो आपकी सेहत भी बिगड़ सकती है और आप जानते हैं कि पढ़ाई करने के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत होना आवश्यक है।

10. मेहनत और लगन से पढ़ें (Study Hard)

आप जानते हैं कि आप किसी भी प्रतियोगी परीक्षा को तब तक पास नहीं कर सकते है।जब तक आप मेहनत और लगन से उसकी तैयारी में ना लग जाए। यदि आप बिना मेहनत के चाहते हैं कि आपकी प्रतियोगी परीक्षा पास हो जाए। तो ऐसा असंभव है आपको प्रतियोगी परीक्षा पास करने के लिए मेहनत करनी होती है। क्योंकि प्रतियोगी परीक्षा स्कूल और कॉलेजों की परीक्षा से बिल्कुल भिन्न होती है। जिसमें केवल 1 दिन पढ़ाई करके कुछ नहीं होता है।

आप अपनी स्टूडेंट लाइफ में कितने ही विद्वान क्यों ना हो परंतु जब तक आप मेहनत नहीं करेंगे। तो आप अपनी प्रतियोगी परीक्षा को पास करने में सफल नहीं हो सकते हैं। इसलिए आपको मेहनत और लगन नियमित रूप से करती रहनी चाहिए और हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आखिर इस प्रतियोगी परीक्षा को पास करने का आपने क्यों सोचा था? इस प्रकार आप अपनी कंसिस्टेंसी बरकरार रख सकते हैं।

बिना कोचिंग के प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करें? How to prepare for a Competition exam without coaching?

वर्तमान में हर क्षेत्र में कोचिंग सेंटर है। तथा विद्यार्थी अपनी प्रतियोगी परीक्षा को पास करने के लिए कोचिंग सेंटर का सहारा लेते हैं  परंतु बहुत से ऐसे विद्यार्थी होते हैं। जो कोचिंग सेंटर जॉइन करने में सक्षम नहीं होते हैं। ऐसे छात्रों के लिए हमारे द्वारा नीचे बहुत सी टिप्स दी गई हैं। जिनको फॉलो करके वह भी अपनी प्रतियोगी परीक्षा को पास कर सकते हैं। यह tips निम्न प्रकार है-

1. दृढ़ आत्मविश्वास (Self confidence)

यदि आप अपनी प्रतियोगी परीक्षाओं को पास करना चाहते हैं। तो आपके अंदर दृढ़ आत्मविश्वास होना बहुत जरूरी है। यदि आप किसी भी चीज का दृढ़ निश्चय नहीं करेंगे। तो उसे पास करना असंभव होगा। यदि आप कहीं कोचिंग नहीं कर रहे हैं। तो आपको अपने आत्मविश्वास को गिराना नहीं चाहिए। बल्कि खुद पर भरोसा करना चाहिए। कि आप इस प्रतियोगी परीक्षा को बिना कोचिंग सेंटर के पास कर लेंगे।

यदि आप प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करते समय आत्मविश्वास से नहीं भरे होंगे। तो उसे पास करने में सफल नहीं हो सकते है। यदि आपके अंदर आत्मविश्वास की कमी होगी। तो जो प्रश्न आपको आते होंगे प्रतियोगी परीक्षा देते समय आप उन्हें भी भूल जाएंगे। इसलिए खुद पर भरोसा रखें। साथ ही दृढ़ निश्चय करें कि आप अपनी प्रतियोगी परीक्षा को पास कर लेंगे।

2. पाठ्यक्रम से संबंधित उपयुक्त पुस्तके (Important books related Exam)

यदि आप कोचिंग सेंटर नहीं पढ़ रहे हैं। तो आपको अपनी प्रतियोगी परीक्षा से संबंधित पुस्तके खरीदनी होंगी। क्योंकि यदि आपके पास यह नहीं होंगी। तो आप अपने खुद के नोट्स नहीं बना पाएंगे। जो बच्चे कोचिंग सेंटर ज्वाइन कर लेते हैं। उन्हें कोचिंग सेंटर के माध्यम से स्टडी मैटेरियल मिल जाता है। परंतु यदि आप सेल्फ स्टडी करते हैं। तो आपको स्वयं स्टडी मैटेरियल बनाना होता है।

पाठ्यक्रम से संबंधित उपयुक्त पुस्तके प्राप्त करने के लिए आपको बुक डिपो पर जाना होता है। तथा उससे संबंधित मॉक पेपर, प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर और बुक आदि को इकट्ठा करना होता है। जिससे आपको बाद में किसी भी सामग्री की आवश्यकता हो तो वह आपके पास मिल जाए। आपको बार बार कहीं जाने की आवश्यकता ना हो। इस प्रकार आप अपनी पढ़ाई पर Concentration कर सकते हैं।

3. समय सारणी बनाएं (Make perfect time table)

यदि आप बिना कोचिंग सेंटर के प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। तो आपको समय सारणी का प्रयोग करना चाहिए। यह आपके लिए बेहद लाभदायक सिद्ध हो सकती है। यदि आप समय सारणी के अनुसार अपने विषयो को समय देंगे और उन्हें ध्यान पूर्वक पढ़ेंगे।  तो आपका कोई विषय नहीं छूटेगा। साथ ही आपका पूरा सिलेबस कवर हो जाएगा। समय सारणी की समय सारणी में बहुत महत्वपूर्ण भागीदारी होती है।

यदि आप समय सारणी का उपयोग करते हैं। तो आप हिंदी, इंग्लिश, GK और साइंस आदि को विस्तार पूर्वक और सही समय पर पढ़ सकते हैं। दरसल आप सिलेबस में उपस्थित सब्जेक्ट के अंदर के टॉपिक को विस्तार पूर्वक पढ़ कर अपनी तैयारी और भी मजबूत कर सकते हैं। उसके तत्पश्चात आपको प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर लगाने की आवश्यकता होगी। इसके पश्चात आप अपनी प्रतियोगी परीक्षा में अवश्य सफल हो जाएंगे।

4. स्वयं नोट्स बनाएं (Make notes)

यदि आप पुस्तकों की सहायता से समय सारणी के अनुसार रोज पढ़ाई कर रहे हैं। तो आपको अपने हाथों से शॉर्ट नोट्स बनाने की आवश्यकता भी होती है। यदि आप सेल्फ स्टडी करते समय जब स्वयं शॉर्ट नोट बनाते हैं। तो आपको बहुत ही महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए। यह बातें निम्न प्रकार है-

  • नोट्स बनाते समय आपको टॉपिक पॉइंट वाइज लिखने हैं। अन्यथा पैराग्राफ में आप Confuse हो जाएंगे।
  • जब आप शॉर्ट नोट सुना रहे हो तो उन्हें बनाने में बहुत ही सरल भाषा का इस्तेमाल करें। ताकि Revision करते समय आपको किसी परेशानी का सामना ना करना पड़े।
  • आप अपने शॉर्ट नोट बनाकर उसे वॉइस नोट की फॉर्म में बदल ले और उसे समय मिलने पर कार्य करते वक्त भी सुने। इससे आपको नोट्स बहुत जल्दी याद होंगे।
  • जब आप अपने किसी एक टॉपिक के नोट्स बना लेते हैं। तो उसके तुरंत बाद उसे अवश्य पढ़ना चाहिए। जिससे आपको वह notes याद करने में आसानी होगी।

प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी कैसे करें? से संबंधित प्रश्न व उत्तर (FAQs)

प्रतियोगी परीक्षा के लिए कोचिंग करनी चाहिए या नहीं?

यदि आप प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। तथा कोचिंग ज्वाइन करने के लिए सक्षम होता हो। तो आपको अवश्य ही कोचिंग ज्वाइन करनी चाहिए।

कोचिंग सेंटर ज्वाइन करने से क्या फायदा है?

यदि आप कोचिंग सेंटर ज्वाइन करते हैं। तो आपको कोचिंग संस्थान के माध्यम से स्टडी मटेरियल प्रदान किया जाता है। जो आपकी परीक्षा के लिए बहुत ही उपयोगी होता है।

प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए आवश्यक बातें?

यदि आप प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। तो आपको ऊपर बताई गई महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना होगा। तभी आप अपनी प्रतियोगी परीक्षा में सफल हो सकते हैं।

प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर हल क्यों करने चाहिए?

यदि आप प्रीवियस ईयर क्वेश्चन पेपर हल करते हैं। तो आपको अपनी परीक्षा का पैटर्न समझ में आता है। साथ ही किस प्रकार के क्वेश्चन पेपर में पूछे जाते हैं। इसका भी अंदाजा लगता है।

बिना कोचिंग के प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

बिना कोचिंग के प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए हमारे द्वारा ऊपर कुछ टिप्स बताई गई हैं। उनको ध्यान पूर्वक फॉलो करके आप बिना कोचिंग के भी प्रतियोगी परीक्षा को पास कर सकते हैं।

समय सारणी कैसे बनाएं?

आपको सर्वप्रथम अपने सब्जेक्ट को डिवाइड करना होगा। और 1 दिन में हर सब्जेक्ट की बारी आये। इस बात का ध्यान रखकर समय सारणी को बनाना होगा।

Short notes कैसे बनाएं?

बुक्स को पढ़कर अपनी भाषा में विस्तार पूर्वक चीजों को संक्षिप्त में लिखना ही शार्ट नोट्स कहलाता है। यह परीक्षा के समय रिवीजन में आपकी मदद करते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion):-

आज हमने आपको अपने इस आर्टिकल में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करें? इससे संबंधित संपूर्ण जानकारी दी है। हमने आपको बताया है कि किस किस तरह से आप अपने प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए ध्यान केंद्रित कर सकते हैं? साथ जो विद्यार्थी कोचिंग करने में सक्षम नहीं है।

हमने उनके लिए भी कुछ चरण बताएं हैं। जिनकी सहायता से वह घर पर रहकर भी अपनी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। यदि आप ही किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं और तो हमारे इस लेख ने आपको अवश्य ही संपूर्ण जानकारी प्रदान की होगी। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी पसंद आई हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइए। साथ ही हमारे इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।