डाटा एंट्री ऑपरेटर कैसे बने? | योग्यता, कोर्स और सैलरी | Data Entry operator kaise bane

आज के इस नए दौर में कोई भी व्यक्ति कुछ भी बन सकता है और उसके मन में कुछ भी बनने की इच्छा उत्पन्न हो सकती है। यदि आप डाटा एंट्री ऑपरेटर बनना चाहते है। साथ ही आपको उसके बारे में कोई भी जानकारी प्राप्त नहीं है। तथा आप उसकी जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां तक आए हैं। तो आप एकदम सही जगह आए हैं। दरअसल आज हम आपको डाटा Data Entry operator kaise bane? इसके बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं। काफी लोग डाटा एंट्री ऑपरेटर इस कारण नहीं बन पाते हैं क्योंकि उन्हें इसकी सही जानकारी नहीं होती है।

डाटा एंट्री ऑपरेटर की पोस्ट को कई बड़ी कंपनियां द्वारा निकाला जाता है। ताकि वह अपनी बैलेंस शीट को मेंटेन रख सके। यदि आपको डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने का शौक है या फिर आप उसकी इच्छा रखते हैं। तो आज आपको हम अपने इस लेख में डाटा एंट्री ऑपरेटर से संबंधित सभी तथ्यों के बारे में बताएंगे। और आपको डाटा एंट्री ऑपरेटर से संबंधित सभी जानकारी देंगे। आज हम आपको बताएंगे कि डाटा एंट्री ऑपरेटर कैसे बने? डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने की योग्यता? सैलरी और कार्य आदि। यदि आप यह सारी जानकारी जानना चाहते हैं। तो हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ें।

डाटा एंट्री क्या है? What is Data Entry?

आप डाटा एंट्री ऑपरेटर बनना चाहते हैं। परंतु इससे पहले आपके मन में यह सवाल अवश्य आया होगा। कि आखिर डाटा एंट्री क्या होती है? डाटा एंट्री समझने से पहले आपको डाटा के बारे में समझना होगा। हिंदी भाषा में डाटा को आंकड़े कहा जाता है। आंकड़े यानी डाटा किसी भी चीज का हो सकता है। मनुष्य का, जानवर का, कार्य का, क्रिया का आदि। जिस कंपनी में जिस तरह का कार्य होता है। उस प्रकार से डाटा रिकॉर्ड किया जाता है। इसी को हम डाटा कहते हैं।

डाटा एंट्री ऑपरेटर कैसे बने? | योग्यता, कोर्स और सैलरी | Data Entry operator kaise bane

पहले की बात करें तो पुराने जमाने में मोबाइल, कंप्यूटर और लैपटॉप आदि टेक्नोलॉजी का निर्माण नहीं हुआ था। जिस कारण यह कार्य लिखित हुआ करता था और इसे करने में बहुत दिक्कत हुआ करती थी। इसलिए लंबे समय तक का डाटा स्टोर नहीं रह पाता था। परंतु आज के समय में यह सारे संसाधन चल रहे हैं। जिनके कारण डाटा को ऑनलाइन एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेजा जा सकता है। तथा उसे लंबे समय तक के लिए स्टोर किया जा सकता है। अर्थात हम कह सकते हैं कि डाटा की कंप्यूटर या इंटरनेट में एंट्री को ही डाटा एंट्री जाते हैं।

डाटा एंट्री कितने प्रकार की होती हैं? How many types of Data Entry?

Data entry कई प्रकार की होती हैं। यदि इनके प्रकारों को देखा जाए। तो हमने नीचे आपको इसकी संपूर्ण जानकारी प्रदान की है। जो कि निम्न प्रकार है-

1. एक्सल डाटा एंट्री (Excel Data Entry)

कंप्यूटर में उपस्थित एमएस ऑफिस में आप किसी भी प्रकार के डाटा को स्टोर करने में सक्षम होते हैं। जैसे:- किसी कॉपी पर लिखा हुआ  नोट या फिर किसी भी कंपनी का डाटा आप एमएस ऑफिस में आसानी से स्टोर कर सकते हैं। इसे ही हम एक्सेल डाटा एंट्री के नाम से जानते हैं।

2.  स्पेलिंग चेकर (Spelling Checker)

स्पेलिंग चेकर डाटा एंट्री में आपको केवल इस बात का ध्यान देन होता है। कि किसी भी आर्टिकल में कोई स्पेलिंग मिस्टेक तो नहीं है या फिर पूरी की पूरी स्पेलिंग ही गलत तो नहीं है। यदि आपको कोई गलती नजर आती है। तो उसे सही कर देना है। इसी को ही हम स्पेलिंग चेकर डाटा एंट्री के नाम से भी जानते हैं।

3. पेपर डॉक्यूमेंट (paper Documents)

पेपर डॉक्यूमेंट एक प्रकार की डाटा एंट्री है क्योंकि इसमें आपको कंप्यूटर के अंदर पेपर पर प्रिंट डाटा को उसके अंदर डालना होता है उदाहरण के लिए किसी हार्ड कॉपी को किसी सॉफ्ट कॉपी के रूप में स्थानांतरित करना।

4. कॉपी पेस्ट डाटा एंट्री (Copy Paste Data Entry)

यह एक आसान डाटा एंट्री है। क्योंकि यह कॉपी पेस्ट डाटा एंट्री होती है। इसमें आपको एक जगह से डाटा को कॉपी करके किसी दूसरी जगह जाकर पेस्ट कर देना होता है। इसीलिए इसे बहुत ही सिंपल कॉपी पेस्ट डाटा एंट्री के नाम से जाना जाता है।

5. कैप्शनिंग (Captioning)

जब आप सोशल मीडिया पर अपनी कोई फोटो या फिर वीडियो अपलोड करते होगे। तो आपको उसके नीचे कैप्शन डालने का ऑप्शन दिखाई देता होगा। इसी कैप्शन डालने को भी एक प्रकार की डाटा एंट्री कहते हैं। इस प्रकार की डाटा एंट्री का कार्य आपको बड़े-बड़े सेलिब्रिटी और बड़ी-बड़ी कंपनियां द्वारा दिया जाता है। यह भी एक बेहद आसान डाटा एंट्री है। जिसे कैप्शनिंग डाटा एंट्री के नाम से जानते हैं।

6. जॉब पोस्टिंग (Job posting)

जॉब पोस्टिंग भी एक प्रकार की डाटा एंट्री होती है। इस प्रकार के डाटा एंट्री के अंदर आपको नौकरी के लिए डाटा एंट्री का कार्य करना होता है। क्योंकि वर्तमान में ऑनलाइन माध्यम के द्वारा विभिन्न प्रकार के नौकरियां तलाश करते हैं। इस कारण इंटरनेट पर विभिन्न वेबसाइट होती है। जिस पर रोज नई नई नौकरियों के बारे में जानकारी प्रदान करनी होती है। जॉब पोस्टिंग के अंदर आपको आर्टिकल तैयार करना होता है। तथा उसे वेबसाइट पर पब्लिश करना होता है।

7. डाटा कन्वर्शन (Data Conversion)

किसी प्रकार की एक फाइल को दूसरी किसी फाइल में कन्वर्ट करने की प्रक्रिया कोई डाटा कन्वर्शन कहते हैं। इस डाटा एंट्री के अंदर आपको एक बार में ही बहुत सारा कार्य दे दिया जाता है। इसके लिए आपको एक निश्चित समय दिया जाता है। उस समय के अंदर आपको वह कार्य पूरा करना होता है।

8. ऑनलाइन सर्वे (Online Survey)

इस प्रकार की डाटा एंट्री का इस्तेमाल एडवरटाइजमेंट कंपनी के द्वारा किया जाता है। इसके अंदर यह ऑनलाइन सर्वे करवाती है। ताकि उन्हें अपने प्रोडक्ट के प्रति ग्राहकों का नजरिया पता चल सके। इसी के साथ साथ वह अपने प्रोडक्ट का प्रचार भी कर सकते हैं।

9. ऑडियो टू टेक्स्ट (Audio to survey)

यह भी एक प्रकार की डाटा एंट्री है और इसे करना बहुत आसान है। क्योंकि इसके अंतर्गत आपको एक ऑडियो डेटा फाइल दी जाती है। इसके अंतर्गत सारी जानकारी ऑडियो में होती है। तथा आपको इस फाइल को टैक्स में चेंज करना होता है  यह भी एक आसान डाटा एंट्री वर्क है।

10. कंटेंट राइटिंग (Content Writing)

कंटेंट राइटिंग डाटा एंट्री का वर्क अधिकतर ब्लॉगर और वेबसाइट के मालिकों द्वारा करवाया जाता है। इसके अंदर  आपको आर्टिकल लिख कर देना होता है। यह आर्टिकल अलग-अलग मुद्दों पर लिखा जाता है और आपको वेबसाइट अधिकारी को यह आर्टिकल भेजना होता है।

डाटा एंट्री ऑपरेटर क्या होता है? What is a Data Entry Operator?

अभी तक जी बताई सभी जानकारी में हमने आपको डाटा एंट्री क्या होता है? इसके बारे में जानकारी प्रदान की है। अब हम आपको बताएंगे कि डाटा एंट्री ऑपरेटर किसे कहा जाता है? सरल भाषा में बताएं तो डाटा एंट्री करने वाले व्यक्ति को ही डाटा एंट्री ऑपरेटर के नाम से जाना जाता है। यदि आप ही किसी कंपनी में डाटा की एंट्री करते हैं। तो आपको भी डाटा एंट्री ऑपरेटर के नाम से बुलाया जाएगा। कहने का तात्पर्य यह है कि जो व्यक्ति डाटा की एंट्री कंप्यूटर, laptop और इंटरनेट पर करता है। उसे टाटा एंट्री ऑपरेटर कहते हैं।

डाटा एंट्री ऑपरेटर कहीं भी हो सकता है। हर कंपनी को कम से कम एक डाटा एंट्री ऑपरेटर की आवश्यकता जरूर पड़ती है। बड़ी-बड़ी कंपनियों के द्वारा डाटा एंट्री ऑपरेटर अप्वॉइंट किए जाते हैं। जो व्यक्ति किसी कंपनी के डाटा या फाइल को इंटरनेट पर ऊपर दी गई विभिन्न तरह से एंटर करता है। उसे ही उस कंपनी का डाटा एंट्री ऑपरेटर कहा जाता है। कोई भी व्यक्ति डाटा एंट्री ऑपरेटर बन सकता है। परंतु उसके लिए आपको नीचे दी गई सारी जानकारी ध्यान पूर्वक पढ़नी होगी।

डाटा एंट्री ऑपरेटर कैसे बने? How to become a Data Entry Operator?

डाटा एंट्री और डाटा एंट्री ऑपरेटर कौन होता है? इसके बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त कर चुके हैं। परंतु आपके मन में यह सवाल जरूर होगा। कि Data Entry Operator Kaise Bane? और डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए आपको क्या-क्या करना चाहिए? आज हम आपको यहां बताएंगे कि डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए आपको किस किस योग्यता की आवश्यकता पड़ती है? हमने ऊपर बताया है कि डाटा एंट्री ऑपरेटर बिना कोई भी मुश्किल कार्य नहीं होता है। परंतु इसके लिए आपको एक सही दिशा में चलना होता है। चलिए जानते हैं कि डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए क्या-क्या करना होता है?

डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए योग्यताएं? Eligibility to become a Data Entry Operator?

डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए कौन-कौन सी योग्यताओं की आवश्यकता होती है? जिसके बाद आप डाटा एंट्री ऑपरेटर बन सकते हैं। यदि आप डाटा एंट्री ऑपरेटर बनना चाहते हैं। तो आपके पास ही यह योग्यताएं होनी आवश्यक हैं। हर पद के लिए कोई ना कोई योग्यता सरकार द्वारा रखी जाती है। साथ ही प्राइवेट कंपनी भी इन योग्यताओं को शामिल करती है। डाटा एंट्री ऑपरेटर के लिए आवश्यक योग्यताओं की जानकारी हमने नीचे दी है जो कि निम्न प्रकार है-

1. हिंदी व अंग्रेजी भाषा का ज्ञान

डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए सबसे पहली योग्यता हिंदी व अंग्रेजी भाषा का ज्ञान होना है। यदि आप डाटा एंट्री ऑपरेटर बनना चाहते हैं। तो आपको हिंदी और इंग्लिश भाषा का पूर्ण ज्ञान होना आवश्यक है। क्योंकि डाटा एंट्री के अंदर आपको दोनों भाषाएं देखने को मिलते हैं और इससे संबंधित कई कार्य होते हैं। जो डाटा एंट्री ऑपरेटर को करने होते हैं। दरअसल देश में ज्यादातर रोजगार डाटा एंट्री के क्षेत्र में ही लगते हैं। यदि आपको इन दोनों भाषाओं की जानकारी नहीं होगी। तो आप डाटा एंट्री का कार्य कैसे कर पाएंगे? साथ ही कहीं-कहीं स्थानीय भाषाओं को भी योग्यता में शामिल कर लेते हैं।

2. कंप्यूटर का ज्ञान

यह तो एक साधारण सी बात है। जब आपको इंग्लिश और हिंदी दोनों भाषाओं का ज्ञान होगा और आप डाटा एंट्री के क्षेत्र में अपनी जॉब के लिए अप्लाई करेंगे। तो आपको कंप्यूटर तो अवश्य ही चलाना आना चाहिए। यदि आपको कंप्यूटर चलाना नहीं आता है। तो आप कैसे डाटा एंट्री के क्षेत्र में डाटा एंट्री ऑपरेटर के पद पर कार्यरत हो सकते हैं। क्योंकि यह तो आपको हमने ऊपर ही बताया है। कि डाटा की एंट्री कंप्यूटर, लैपटॉप या इंटरनेट पर की जाती है। कुछ लोगों को कंप्यूटर पर केवल टाइपिंग करना आता है और उन्हें लगता है कि बस इतना ही काफी है। परंतु ऐसा नहीं है आपको पूरी तरह से कंप्यूटर को डील करना आना चाहिए।

3. टाइपिंग स्पीड

टाइपिंग स्पीड यह योग्यता इसलिए रखी गई है। क्योंकि जब आप डाटा एंट्री ऑपरेटर के पद पर कार्यरत होंगे। तो आपको बहुत सारी फाइल डाटा के रूप में दी जाएंगी। जिन्हें आप को कंप्यूटर या इंटरनेट पर डालना होगा। यदि आपकी टाइपिंग स्पीड बहुत Slow हुई तो आप यह कार्य बहुत देर नहीं कर पाएंगे। इसीलिए आपको अपनी टाइपिंग  स्पीड बढ़ानी चाहिए। ताकि आप ज्यादा से ज्यादा काम कम समय में कर सकें। इसीलिए यह योग्यता हर कंपनी और हर क्षेत्र के रोजगार में रखी जाती है। कंप्यूटर में टाइपिंग स्पीड का होना बेहद आवश्यक है।

4. अंको की समझ

डाटा एंट्री करने के लिए आपको केवल भाषा का ही ज्ञान होना आवश्यक नहीं होता है। डाटा एंट्री में जो कार्य मुख्य रूप से करना होता है। वह अंक होता है। कभी-कभी आपको अंक से संबंधित डाटा भी कंप्यूटर इंटरनेट पर डालने के लिए दिया जा सकता है। जिसमें अगर एक अंक भी गलत हुआ तो आपका पूरा का पूरा डाटा बेकार हो जाएगा। इसलिए आपको अंकों की सही समझ होनी चाहिए। उन्हें टाइप करते समय कोई भी गड़बड़ नहीं होनी चाहिए। अन्यथा आपको आगे चलकर बहुत बड़ी दुविधा का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि यदि डाटा में गड़बड़ हुई तो आगे होने वाली process भी गलत हो जाएंगे।

5. ट्रांसलेशन

यदि आप डाटा एंट्री ऑपरेटर बनना चाहते हैं। तो आपको ट्रांसलेशन का भी ज्ञान होना चाहिए। इसी कारण हमने आपको डाटा एंट्री ऑपरेटर की पहली योगिता में हिंदी व अंग्रेजी दोनों भाषाओं का पूर्णयता ज्ञान होने की सलाह दी है। डाटा एंट्री करते समय बहुत बार आपको ऐसा डाटा भी मिलेगा। जिसे इंग्लिश से हिंदी तथा हिंदी से इंग्लिश में आपको खुद ट्रांसलेट करके भेजना होगा। यह कार्य भी आपको जल्द से जल्द करना होगा। यदि आपके पास ट्रांसलेशन की योग्यता नहीं होगी। तो आप यह कार्य नहीं कर सकते हैं। यही कारण है कि हमने आपको ट्रांसलेशन का ज्ञान होने की जानकारी प्रदान की है।

डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता? Educational eligibility to become a Data Entry Operator?

डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए आपके पास कौन-कौन सी योग्यताएं होनी चाहिए? इसके बारे में ऊपर सारी जानकारी दी गई है। परंतु उन सब को तैयार करने से पहले आपको क्या क्या पढ़ना होगा? आपको अपनी पढ़ाई कैसे करनी होगी? यानी डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के लिए शुरुआत से आपकी शैक्षणिक योग्यता क्या होनी चाहिए? इसके बारे में हमने नीचे पॉइंट के माध्यम से आपको संपूर्ण जानकारी दी है जो कि निम्न प्रकार है-

1. 10वीं पास करें

सर्वप्रथम आपको मान्यता प्राप्त विद्यालय से दसवीं पास करना होगा। क्योंकि इसके पश्चात ही आप आगे की पढ़ाई करने के लिए सक्षम होंगे और 10th पास करना बेहद आवश्यक होता है। दसवीं कक्षा को आप को कम से कम 50% मार्क्स से पास करना आवश्यक है। क्योंकि यदि आप केवल दसवीं पास करते हैं। तो आपको डाटा एंट्री ऑपरेटर की सबसे निचले स्तर की नौकरी प्रदान कर दी जाती है। इसलिए दसवीं पास करना आपके लिए बहुत आवश्यक है। यदि आप दसवीं पास नहीं है तो आपको डाटा एंट्री ऑपरेटर के सबसे निचले स्तर की जॉब भी नहीं मिल सकती है।

2. 12वीं पास करें

यदि आप डाटा एंट्री ऑपरेटर के सबसे निचले स्तर की जॉब नहीं करना चाहते है। साथ ही एक अच्छी डाटा एंट्री ऑपरेटर की पोस्ट पर ही कार्यरत रहना चाहते हैं। तो आपको 10th  के बाद मान्यता प्राप्त विद्यालय से 12th पास करना होगा। साथ ही आपको 12th अच्छे नंबरों से पास करना होगा। ताकि आप एक अच्छे डाटा एंट्री ऑपरेटर की पोस्ट को प्राप्त कर सकें। आप अपनी इच्छा अनुसार किसी भी stream से 12वीं कक्षा को पास कर सकते हैं। और डाटा एंट्री ऑपरेटर के पद के लिए आवेदन करने के लिए सक्षम हो सकते हैं।

3. डाटा एंट्री में कोर्स करें

यदि आपने 12th पास कर लिया है और आप डाटा एंट्री ऑपरेटर बनना चाहते हैं। तो इसके लिए आपको डाटा एंट्री में कोई अच्छा सा कोर्स करना होगा। आप किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से यह कोर्स कर सकते हैं। यह डाटा एंट्री का कोर्स 3 महीने से लेकर 1 वर्ष तक का हो सकता है। कोर्स की अवधि आप अपने अनुसार बढ़ा या घटा सकते हैं। यदि आप एक अच्छे डाटा एंटी ऑपरेटर बनना चाहते हैं तो आपको टेंथ और ट्वेल्थ पास करने के बाद टाटा एंट्री में कोर्स करना आवश्यक है। क्योंकि वहां आपको डाटा को इंटरनेट और कंप्यूटर पर अच्छे से किस प्रकार एंटर किया जाता है। इसकी जानकारी प्रदान होगी।

4. डाटा एंट्री में ग्रेजुएशन करें

बहुत से लोग होते हैं जो अपनी पढ़ाई को पूरा करना चाहते हैं और साथ ही अपने लक्ष्य को प्राप्त करना चाहते हैं। ऐसे लोगों को 10th और 12th पास करने के बाद डाटा एंट्री में मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करनी चाहिए। यदि आप स्नातक की डिग्री हासिल कर लेते हैं। तो आपको एक अच्छी पोस्ट पर डाटा एंट्री ऑपरेटर की जॉब प्राप्त होगी। साथ ही साथ उसकी सैलरी भी काफी हद तक ज्यादा होती है। यह आपके लिए बहुत अच्छा option होगा। कि आप डाटा एंट्री में ग्रेजुएशन करके अपने लक्ष्य को एक नई उड़ान दे सकते हैं।

5. डाटा एंट्री में पोस्ट ग्रेजुएशन करें

यदि आप डाटा एंट्री में और भी अधिक पढ़ाई करना चाहते हैं। तो आप डाटा एंट्री में पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते हैं। सरल भाषा में कहा जाए तो आप स्नातक की डिग्री भी डाटा एंट्री में कर सकते हैं। उच्च स्नातक की डिग्री आपको डाटा एंट्री ऑपरेटर के सर्वोच्च पद तक पहुंचाने के काम आती है। इस डिग्री को प्राप्त करने के बाद आपको कोई भी कंपनी जॉब देने से मना नहीं कर सकती है। आपकी सैलरी भी बहुत अधिक होती है। तब आपको डाटा एनालिस्ट या फिर डाटा मैनेजर की पोस्ट को प्राप्त कर सकते हैं।

डाटा एंट्री ऑपरेटर की नौकरी? Job of Data Entry Operator?

जब आप ऊपर दी गई सारी शैक्षणिक और जरूरी योग्यताओं को पूरा कर लेंगे। तो आप डाटा एंट्री की नौकरी को पा सकते हैं। जैसा कि ऊपर हमने आपको बताया है कि डाटा एंट्री ऑपरेटर की आवश्यकता हर कहीं होती है। कोई कंपनी यदि अपना डाटा इंटरनेट तो डलवाना चाहती है तब, किसी दुकान का डाटा और प्रोडक्ट से रिलेटेड कोई भी कार्य अगर कंप्यूटर, इंटरनेट पर डलवाना हो। तो इस कार्य को करने के लिए डाटा एंट्री ऑपरेटर को appoint करना ही होता है। इसलिए इस बात की चिंता बिल्कुल न करे कि डाटा एंट्री ऑपरेटर की नौकरी कैसे मिलेगी?

यदि आप डाटा एंट्री ऑपरेटर बनना चाहते हैं। तो अपनी योग्यताओं को पूरा करके कहीं भी डाटा एंट्री ऑपरेटर की जॉब को पा सकते हैं। परंतु यदि आप स्नातक और डाटा एंट्री में कोई कोर्स कर लेते हैं। तो आपको कंपनी खुद कॉलेज या इंस्टिट्यूट में अप्वॉइंट करने के लिए आती है। जिसमें आपको केवल इंटरव्यू के आधार पर ही सेलेक्ट कर लिया जाता है। इसलिए डाटा एंट्री ऑपरेटर की जॉब बहुत ही आसानी से मिल जाती है। आपको इसमें काफी अच्छी सैलरी प्रदान की जाती है।

डाटा एंट्री ऑपरेटर का काम? Work of Data Entry Operator?

इसके बारे में आपको थोड़ा-थोड़ा समझ आ गया होगा। कि आखिर डाटा एंट्री ऑपरेटर कार्य क्या होता है? परंतु अभी भी आपको इसकी बहुत सी बातों में doubt होगा। आज हमने आपको डाटा एंट्री ऑपरेटर के कार्य के बारे में नीचे पॉइंट के माध्यम से बताया है। जो कि निम्न प्रकार है-

  • डाटा एंट्री ऑपरेटर को किसी भी डाटा की एंट्री इंटरनेट या कंप्यूटर पर करनी होती है। तथा हर चीज़ का रिकॉर्ड ऑनलाइन रखना होता है।
  • बहुत से लोग ऑनलाइन पंजीकरण करके किसी भी चीज के बारे में जानकारी प्रदान करना चाहते हैं। तो आप डाटा एंट्री ऑपरेटर को सारी जानकारी ऑनलाइन इंटरनेट पर डाला होता है।
  • आप किसी भी प्रकार के डाटा जैसे:- कार्यक्रम, फाइल और अंको से संबंधित आदि को कंप्यूटर और इंटरनेट पर जब डालते हैं। तो उसे डाटा एंट्री कहते हैं। साथ हो यही कार्य करने वाले व्यक्ति को डाटा एंट्री ऑपरेटर के नाम से जानते हैं।

डाटा एंट्री ऑपरेटर की सैलेरी? Salary of Data Entry Operator?

अब आपको डाटा एंट्री ऑपरेटर से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त हो गई है। तो आपके मन में एक सवाल जरूर आया होगा। कि आखिर अधिक से अधिक और कम से कम डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के बाद कितनी सैलरी मिल सकती है? सैलरी के बारे में जानने के लिए सबको दिलचस्पी होती है। क्योंकि हर व्यक्ति नौकरी इसीलिए करता है। ताकि वह अच्छी सैलरी प्राप्त कर सके और अपने जीवन को बहुत ही खुशनुमा तरह से जी सके। परंतु इस बात का कोई एक उत्तर नहीं हो सकता क्योंकि हर कंपनी के द्वारा अपने अनुसार डाटा एंट्री ऑपरेटर की सैलेरी रखी जाती है।

यदि का कोई कंपनी बहुत उच्च स्तर पर है। तो वह डाटा एंट्री ऑपरेटर की सैलेरी एक लाख भी रख सकती है। परंतु यदि कोई कंपनी निम्न स्तर की है और आप वहां डाटा एंट्री ऑपरेटर के पद पर कार्यरत हैं। तो आपको केवल ₹10000 भी मिल सकते हैं। साथ ही यह बात आपके द्वारा की गई पढ़ाई और परिश्र्म पर भी निर्भर करता है। परंतु ऐसा बिल्कुल नहीं है कि डाटा एंट्री ऑपरेटर बनने के बाद आप कम पैसा कमाएंगे। बल्कि इसमें अगर आप अच्छे से अपना 100% योगदान देते हैं। तो आप एक बहुत अच्छी सैलरी प्राप्त कर सकते हैं।

डाटा एंट्री ऑपरेटर कैसे बने इससे संबंधित प्रश्न व उत्तर (FAQs)-

Q:- डाटा एंट्री और डाटा एंट्री ऑपरेटर किसे कहते हैं?

Ans:- किसी भी कंपनी के डाटा को कंप्यूटर या इंटरनेट पर डालने को डाटा एंट्री कहा जाता है। जो व्यक्ति डाटा एंट्री का कार्य करता है। उसे डेटा एंट्री ऑपरेटर के नाम से जाना जाता है।

Q:- डाटा एंट्री का कोर्स कितने माह का होता है?

Ans:- यह बात पूरी तरह से आप पर निर्भर करती है। चाहे तो आप 3 महीने का डाटा एंट्री कोर्स कर सकते हैं या फिर यह कोर्स एक साल तक का भी होता है।

Q:- डाटा एंट्री कोर्स कैसे सीखे?

Ans:- डाटा एंट्री कोर्स करने के लिए आपको किसी इंस्टिट्यूट या फिर मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से जुड़ना होगा। तथा कुछ साल या कुछ महीने तक यह कोर्स करना होगा।

Q:- डाटा एंट्री के लिए कौन-कौन से प्रकार का कोर्स करना होता है?

Ans:- डाटा एंट्री के लिए बहुत से कोर्स होते हैं। परंतु मुख्य रूप से लोग डाटा एंट्री टाइपिंग कोर्स करना पसंद करते हैं।

Q:- डाटा एंट्री ऑपरेटर की सैलेरी कितनी होती है?

Ans:- डाटा एंट्री ऑपरेटर की सैलेरी कंपनी और कार्य पर आधारित होती है। परंतु यह ₹10,000 से लेकर 1 लाख तक हो सकती है।

निष्कर्ष (Conclusion)

आज हम आपको Data Entry Operator Kaise Bane? इसके बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान की है। यदि आप भी किसी कंपनी में डाटा एंट्री ऑपरेटर की जॉब को पाना चाहते हैं। तो हमारे द्वारा ऊपर बताई गई सभी जानकारी को फॉलो करके बन सकते हैं।

क्योंकि हमने ऊपर इस लेख में डाटा एंट्री ऑपरेटर की योग्यता, सैलेरी और जॉब आदि की जानकारी प्रदान की है। उम्मीद है आपको हमारे द्वारा बताई गई यह जानकारी बहुत पसंद आई होगी। यदि आपको हमारे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइए साथ ही हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले।

Spread the love

Main Points

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।