सर्जन डॉक्टर कैसे बने? | सर्जन डॉक्टर बनने के लिए योग्यता, पात्रता और परीक्षा

सर्जन कैसे बने? (How to become a surgeon) यह कई मेडिकल छात्रों के मन का सवाल होता है। सर्जन डॉक्टर (surgeon doctor) बनने के लिए चिकित्सा डिग्री लेनी पड़ती है। जिसमें विभिन्न अंगों और उनसे संबंधित क्रियाओं की पढ़ाई कराई जाती है। यदि आपका भी सपना सर्जन डॉक्टर (Surgeon doctor) बनने का है। तो सर्जन कैसे बने? (Surgeon kaise bane) यह बात आपके मन में भी आती होगी।

सर्जन बनने का सपना बच्चो का इसलिए होता है। क्योंकि उन्हें सर्जरी करने का मौका मिलता है। यानी सर्जन डॉक्टर डैमेज (Damage) किसी भी अंग को सही करने में सक्षम होता है। सर्जन डॉक्टर heart का ऑपरेशन (operation) कर सकते हैं।  ब्रेन ट्यूमर (Brain tumour) के लिए भी सर्जन डॉक्टर की आवश्यकता होती है। या फिर किसी हादसे में आपके शरीर का कोई अंग खराब हो गया हो तब भी सर्जन डॉक्टर की सहायता से उसे ठीक किया जा सकता है।

सर्जन बनने के लिए पढ़ाई तो करनी पड़ती है। और साथ ही साथ स्पेशलिस्ट होना पड़ता है। सर्जन अपने आप में डॉक्टर की बहुत बड़ी उपाधि होती है। सर्जन सीधे आपरेशन थिएटर में में काम करते है। ऑपेरशन थिएटर में काम करना हर किसी डॉक्टर की ख्वाहिश होती है। परंतु हर डॉक्टर ऑपरेशन नहीं करता है। परंतु सर्जन को ऑपरेशन  के लिए ही तैयार किया जाता हैं। यदि आप भी surgeon बनना चाहते हैं। तो यह आर्टिकल आपके बेहद महत्वपूर्ण है। इसलिए आप इस पोस्ट को अंत तक पढ़ना न भूलें।

सर्जन डॉक्टर कौन होता है? (Who is a surgeon doctor?)

सर्जन एक फिजिशियन (physician) होता है। जो कि कई फील्ड में स्पेशलिस्ट होता है जैसे ऑर्थोपेडिक (orthopedic), cardiothoracic और neurological। जो डॉक्टर सर्जरी में स्पेशलिस्ट (specialized) होता है उसे एक surgeon कहते हैं। सर्जन ऑपरेशनको operation करने के लिए तैयार किया जाता हैं।

सर्जन डॉक्टर कैसे बने? | सर्जन डॉक्टर बनने के लिए योग्यता, पात्रता और परीक्षा

सर्जन अपने पेशेंट (patient)  के किसी भी अंग को ऑपरेशन (Operation) के द्वारा चेक कर सकते हैं। और जाहिर है। अगर आप सर्जन बनना चाहते हैं। तो आपको इससे संबंधित सारी जानकारी प्राप्त करनी होगी। तो आज हम आपको सर्जन कैसे बनते हैं? How to become a surgeon (surgeon kaise bante hai) से संबंधित सारी जानकारी अपने इस article  में देंगे। तो सारी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

सर्जन का क्या काम होता है? (What is the job of a surgeon?)

सर्जन एक डॉक्टर होता है। यह ऑपरेशन थिएटर में अपने मरीजों को ठीक करता है। यानी यह चीर फाड़, शल्य चिकित्सा, और सर्जरी में विशेष होता है। सर्जन हमेशा रिस्क पर काम करते हैं। क्योंकि यह गंभीर मरीजों को ठीक करने की कोशिश करते हैं। ऑपरेशन थिएटर में बेहद गंभीर मरीजों को भेजा जाता है। जिन्हें ठीक करने की जिम्मेदारी सर्जन की होती है। इसलिए इनका पूरा व्यवसाय रिस्क से भरा होता है। साथ ही साथ सर्जन बनने के लिए आपको अपने दिल को मजबूत रखना बहुत जरूरी है। क्योंकि ऑपरेशन थिएटर में शरीर के अंगों की चीर फाड़ करनी होती है।

सर्जन डॉक्टर कैसे बने? (How to become a surgeon doctor)

सर्जन बनने के लिए आपको MBBS की डिग्री लेनी होगी और यह आपको MCI (medical council of India) रिकॉग्नाइज्ड यूनिवर्सिटी (recognized university) से लेनी होती है। इसके बाद आपको जनरल सर्जरी में मास्टर डिग्री करनी होगी। जो की MS(surgery of master) की होती है। इसके बाद ही आप surgeon के रूप में अभ्यास कर सकते है। इसके बाद ही आप surgery में specialization करने में सक्षम होंगे। अगर आपको surgery specialist बनना है तो आपको medical council of India से approved इंस्टीट्यूड से M.Ch यानी master of Chirurgical की डिग्री लेनी होगी।

M. ch एक specialist कोर्स है। यह 3 वर्षो में पूरा होता है। M.ch कर रहे उम्मीदवार सर्जरी की प्रक्रियाओं में भाग ले सकते है। मास्टर्स करने से पहले आपको मेडिकल में बैचलर डिग्री करनी होगी। जिसे एमबीबीएस (MBBS) कहते हैं। आइए जानते हैं कि आप एमबीबीएस कैसे कर सकते हैं?

यदि आपको एमबीबीएस करना है। तो आपके पास 12th में रसायन विज्ञान , भौतिक विज्ञान और जीव विज्ञान का होना अनिवार्य है। और साथी 12th में 60% मार्क्स से पास होना भी अनिवार्य होता है। इसके पश्चात NEET के एग्जाम में बैठना होता है। यह परीक्षा AIIMS आदि विश्वविद्यालय  के द्वारा आयोजित करायी जाती हैं। NEET क्लियर करने के बाद रैंक के आधार पर आपको कोई गवर्नमेंट या private कॉलेज दे दिया जाता है। जिसमें आप अपने एमबीबीएस की पढ़ाई सफलतापूर्वक कर सकते हैं। और इसकी तत्पश्चात मास्टर्स करने के लिए eligible हो सकते हैं।

सर्जन बनने के लिए जरूरी स्किल्स (Skills):-

सर्जन बनने के लिए आपमे योग्यता होनी चाहिए। हमने कुछ skills के बारे में नीचे बताया है।

  • सर्जन को टीम के साथ काम करना आना चाहिए। जैसे एक टीम प्लयेर करता है।
  • सर्जन में प्रॉब्लम को सॉल्व करने के साथ साथ , स्ट्रांग analytical स्किलक्स होनी चाहिए।
  • सर्जन के अंदर दया की भावना होना आवयश्क है।
  • सजन को इमोशनली स्ट्रांग (emotionally Strong) होना चाहिए। ताकि वह पेशेंट की हालत देखकर अपना आपा न खोए। और पेशेंट के साथ अच्छे से deal कर सके।
  • लंबे समय तक एफिशिएंसी के साथ काम करना एक सर्जन को आना चाहिए।
  • लेटेस्ट सर्जिकल टेक्निक्स (latest surgical techniques)  के बारे में हमेशा सर्जन को अपडेट रहना चाहिए। जो उसके वर्क को और भी स्मार्ट बना सकती है।
  • सर्जन को डिसिप्लिन (discipline) में रहना आना चाहिए।

कुछ स्पेशलाइजेशन कोर्स (specialization course) इस प्रकार है।

  • मास्टर ऑफ chirurgiae इन सर्जिकल ऑन्कोलॉजी
  • मास्टर ऑफ chirurgiae इन यूरोलॉजी
  • Master of chirurgiae in thoracic surgery
  • Master of chirurgiae in neurosurgery
  • Master of chirurgiae in Oncology
  • मास्टर ऑफ chirurgiae इन cardio thoracic surgery
  • मास्टर ऑफ chirurgiae इन gastrointestinal surgery
  • मास्टर ऑफ chirurgiae इन plastic surgery

डॉक्टर बनने में कितने साल लगते हैं? (How many years does it take to become a doctor?)

डॉक्टर बनने के लिए अलग-अलग प्रकार के कोर्स उपलब्ध हैं। और हर को complete करने में अलग अलग  समय लगता है। एमबीबीएस डॉक्टर बनने के लिए आपको 4 साल का कोर्स करना होता है। और साथ ही साथ 1 साल से इंटर्नशिप करने जाती है। उसके बाद आप डॉक्टर बन सकते हैं।

एमबीबीएस को कंप्लीट करने के पश्चात आप मास्टर डिग्री surgeon specialist होने के लिए कर सकते हैं। यदि आप डॉक्टर बनना चाहते हैं। तो आपको अपने मन में धैर्य रखना होगा। क्योंकि यह काफी लंबा समय होता है। और बहुत लंबे समय के बाद आप विशिष्ट डॉक्टर बनने में सक्षम होते हैं।

सर्जन कितने प्रकार के होते हैं? (what are the types of surgeons)

सर्जन डॉक्टर कई प्रकार के हो सकते हैं। उनमें से कुछ विशेष प्रकारों के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं  जो कि निम्नलिखित हैं। :-

  • न्यूरो सर्जन
  • प्लास्टिक सर्जन
  • Heart सर्जन
  • ऑर्थोपेडिक सर्जन
  • Pediatric सर्जन
  • ओरल सर्जन
  • Ophthalmic सर्जन

Neurosurgeon

न्यूरो का मतलब nervous सिस्टम से होता है। और नर्वस सिस्टम के बारे में सभी जानते हैं। न्यूरो सर्जन दिमाग से संबंधित सभी परेशानियों को दूर करने का कार्य करता है। न्यूरो सर्जन मस्तिष्क के नाजुक ऑपरेशन कर सकते हैं। साथ ही साथ रीड की हड्डी और तंत्रिका तंत्र के ऑपरेशन करने में भी सक्षम होते हैं। यदि आप न्यूरो सर्जन बनना चाहते हैं। तो आप मस्तिष्क से संबंधित सभी चीजों का अच्छी तरह से अध्ययन कर सकते हैं। और मस्तिष्क में specialist बनने के लिए न्यूरो सर्जन बन सकते हैं।

Plastic Surgeon

प्लास्टिक सर्जन प्लास्टिक सर्जरी करता है। यदि किसी दुर्घटना में प्लास्टिक सर्जन के पेशेंट की का चेहरा खराब हो जाता है। तो प्लास्टिक सर्जरी करके प्लास्टिक सर्जन अपने patient को न्यू चेहरा दे सकता है। साथ ही साथ प्लास्टिक सर्जन के द्वारा तिल हटाने, नाक की सर्जरी करने का भी  काम किया जाता है। सुरजन की डिमांड आज के युग में बहुत की जाती है यदि आप चेहरे की सर्जरी करना चाहते हैं। तो प्लास्टिक सर्जन बन सकते हैं। एक्टर ज्यादातर प्लास्टिक सर्जरी का उपयोग करते हैं। जिससे वह हमेशा खूबसूरत दिख सकें। प्लास्टिक सर्जन में आप लोगो का career काफी अच्छा बन सकता है।

Heart sergeon

 हार्ट सर्जन एक heart specialist  होता है। जो heart से संबंधित सभी बीमारियों को दूर करता है। heart sergeon बनने के लिए हार्ट से related सभी जानकारी प्राप्त करनी होगी। आजकल लोगों को हार्ट की प्रॉब्लम बहुत होती है। Heartattack के केस दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं। इसलिए heart sergeon बनना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। और heart sergeon बनने के साथ आपका कैरियर बुलंदियो तक पहुँच सकता है।

 Orthopedic surgeon

हड्डियों से संबंधित सभी प्रकार के रोगों को दूर करने के लिए आप इस क्षेत्र में पढ़ाई कर सकते हैं। और हड्डियों के specialist बन सकते हैं। इस क्षेत्र में आपको बिखरी और कुचली हुई हड्डियों को जोड़ने का कार्य सौंपा जाता है। ऑर्थोपेडिक सर्जन अपने कार्य को बखूबी निभाते हैं। यदि आप ऑर्थोपेडिक सर्जन बनना चाहते हैं। तो आपको बेहद ध्यान पूर्वक अपनी पढ़ाई कंप्लीट करनी होगी।

Pediatric Surgeon

यदि आप हृदय रोग के विशेषज्ञ बनना चाहते हैं। तो आप इस क्षेत्र में जा सकते हैं। हृदय से संबंधित सारी जानकारी हासिल करने के लिए आप pediatric surgeon बन सकते हैं। इसके अलावा आप Oncology , neurology  कर के भी heart specialist बन सकते हैं। और heart में महारत हासिल कर सकते हैं। हार्ट स्पेशलिस्ट की बढ़ती मांग pediatric surgeon की पढ़ाई को बढ़ावा देती है।

 Oral surgeon

 इस क्षेत्र में पढ़ाई करके आप मुख का इलाज करने में सक्षम होते हैं। यदि आप मुँह से संबंधित किसी भी बीमारी का इलाज करना चाहते हैं। और दांतो का प्रत्यारोपण करना चाहते हैं। तो यह क्षेत्र आपके लिए बना है। आप ओरल सर्जन की पढ़ाई जोरों शोरों से करके oral surgeon बन सकते हैं।

 Ophthalmic surgeon

इस क्षेत्र में आपको सबसे नाजुक अंग आंख की सर्जरी करने के लिए तैयार किया जाता है। आप आंख से संबंधित किसी भी परेशानी को दूर करने में सक्षम हो सकते हैं। यदि आप ophthalmic सर्जन बनना चाहते हैं। तो आप को आंख से संबंधित सभी जानकारी को प्राप्त करना होगा। आप्थाल्मिक सर्जन बनके मोतियाबिंद और ग्लूकोमा के पीड़ितों को राहत प्रदान कर सकते हैं।

सर्जन बनने के फायदे व नुकसान क्या क्या होते हैं

डॉक्टर हो या फिर कोई और कैरियर ऑप्शन हर फील्ड में कुछ फायदे और कुछ नुकसान होते हैं। यदि हम सर्जन डॉक्टर की बात करे  तो इसमें फायदों के साथ-साथ कुछ नुकसान भी है। यदि आप इनके फायदे और नुकसान को जान लेते हैं। तो आपके लिए अपनी सर्जन डॉक्टर के carrier को चुनना और भी आसान हो जाएगा। तो आइए जानते हैं। सर्जन डॉक्टर बनने के फायदे और नुकसान क्या क्या है।

सर्जन बनने के फायदे

सर्जन डॉक्टर स्पेशलिस्ट होता है। जिसको अपने अनुसार काम चुनने का हक होता है। यदि कोई सर्जन डॉक्टर चाहता है। कि वह बच्चों के साथ काम करें। तो वह केवल बच्चों के साथ ही काम करेगा। यदि वह चाहता है कि वह बुजुर्गों के साथ काम करें तो वह केवल बुजुर्गों के साथ ही काम करेगा। उस पर किसी अन्य डॉक्टर का कोई भी प्रेशर नहीं होता है। वह अपनी इच्छा अनुसार अपने काम को चुन सकता है।

सर्जन का काम भगवान के रूप में होता है। क्योंकि वह एक रोगी को नई जिंदगी प्रदान करता है। ऑपरेशन थिएटर में उसके चिकित्सा कौशल को पूर्ण रूप से निश्चित किया जा सकता है। सर्जन डॉक्टर दूसरों की जिंदगी में बदलाव लाने के लिए जाने जाते हैं। क्योंकि इनके कारण बेहद गंभीर गंभीर मरीज तक ठीक हो सकते हैं।

सर्जन डॉक्टर बहुत जिम्मेदार होते हैं। क्योंकि इन पर काम की जिम्मेदारी ज्यादा होती है। और साथ ही साथ इनका कार्य चुनौतीपूर्ण होता है। परंतु यह अपनी मेहनत और काबिलियत से उस काम को संतुष्टि दायक बना देते हैं। surgeon doctor जिम्मेदारी से अपना काम करते हैं।

सर्जन डॉक्टर बनने के नुकसान

सर्जन डॉक्टर बनना आसान नहीं होता है। इसके लिए आपको खुद को मजबूत रखना होता है। यदि आपने अपने मरीज को ठीक करने में थोड़ी सी भी गलती की या लापरवाही बरतते हैं। तो उस मरीज की मौत के जिम्मेदार भी आप हो सकते हैं। इसीलिए सर्जन डॉक्टर को जिम्मेदार होना बहुत आवश्यक है।

स्पेशलिस्ट सर्जन डॉक्टर के पास और कई जिम्मेदारियां भी होती है। उनके पास काम के साथ-साथ दूसरे डॉक्टरों को प्रशिक्षण करने शोध इत्यादि जैसी जिम्मेदारियां होती हैं। इसलिए उनके बर्न आउट होने की पूर्णता संभावना होती है। जिसके कारण सर्जन डॉक्टर अपने काम के प्रति उत्साह और प्रेरणा को कम पाता है।

सर्जन डॉक्टर के पास बहुत सारे कार्य होते हैं। जिसके कारण वह हमेशा काम के बोझ के नीचे दबे रहते हैं। कभी-कभी अधिक कार्य सर्जन डॉक्टर के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को खराब कर सकते हैं। इस कारण यदि आप मानसिक और शारीरिक रूप से कठोर हैं। और साथ ही साथ आपकी भावनाएं जल्दी नहीं उभरती हैं। तो आप इस कार्य को चुन सकते हैं। यदि आप दिल के कमजोर है। तो आप इस कार्य को न चुनें।

सर्जन का वेतन कितना होता है? (What is the salary of a surgeon?)

सैलरी की बात करे तो एमबीबीएस करने के बाद ₹60,000 प्रतिमहा सरकारी एमबीबीएस डॉक्टर को मिलती है। यदि आपने स्पेसलिस्ट कोर्स यानी सर्जन की डिग्री ले रखी है। तथा आपके पास कोई विशेष डिग्री है। तो आप की सैलरी 1 लाख से  5 लाख तथा इससे भी ऊपर किया जाता है। यदि आप सर्जन डॉक्टर के रूप में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं। तो इसमें आपका भविष्य बेहद उज्जवल है।

सर्जन कैसे बने से संबंधित प्रश्न का उत्तर (FAQ)

Q:- जनरल सर्जन का वेतन कितना होता है?

Ans:- जनरल सर्जन का वेतन लगभग एक लाख रुपए प्रति माह तक हो सकता है।

Q:- सर्जन बनने के लिए 12वीं के बाद क्या करना चाहिए।

Ans:- सर्जन बनने के लिए 12वीं के बाद आपको नीट एग्जाम क्लियर करने की preparation  करनी चाहिए।

Q :- NEET क्या है?

Ans:- नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंटरेंस एग्जामिनेशन है। जिसे क्लियर करके आप डॉक्टरी की पढ़ाई सफलतापूर्वक कर सकते हैं।

निष्कर्ष:- आज हमने आपको सर्जन कैसे बने? सर्जन क्या होता है। सर्जन कितने प्रकार के होते हैं। और सर्जन का वेतन कितना होता है। इससे संबंधित सभी जानकारी दी हैं। उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी। यदि आपको हमारी जानकारी पसंद आई हो तो कृपया इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

Main Points

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।