एमडीएस कोर्स क्या है? एमडीएस कोर्स कैसे करें?

छात्र अपना अच्छा कैरियर बना कर अपने जीवन को सफल करना चाहते हैं। और व्यक्ति बनना चाहते है। इसी कारण आज के दौर में छात्र एवं छात्राएं MDS कोर्स कर रहे हैं। और अपना बेहतरीन करियर बना रहे हैं। यदि आप भी अपने बेहतरीन करियर बनाना चाहते हैं। और MDS कोर्स करना चाहते हैं। तो आज हम आपको अपनी इस आर्टिकल में MDS कोर्स के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करें।

यदि आप भी चाहते हैं। कि आपके जीवन में किसी प्रकार की कोई कमी ना हो। और आप अपने सभी सपनों को पूरा कर पाए। तो आप भी अपने कैरियर को बुलंदियों तक पहुंचाना चाहते होंगे। और यदि आप MDS कोर्स आने की सोच रहे हैं। तो यह आपके कार्य के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। डॉक्टर बनना बहुत बच्चों का सपना होता है परंतु हर कोई डॉक्टर बन नहीं पाता है। एमडीएस करके आप डेंटिस्ट बनते हैं।

एमडीएस करके आप एक अच्छा करियर बना सकते हैं। बिना अधिक समय लिए आइए चलते हैं। यह जानने की MDS Course Kaise Kare, MDS Course hota kya hai, MDS Course योग्यता, परीक्षा आदि। के बारे में आज हम आपको इन सारी बातों की जानकारी विस्तार पूर्वक देंगे। यदि आप भी MDS करने की सोच रहे हैं। और आप एमडीएस करके डेंटिस्ट के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते है। तो आपको सर्वप्रथम इसकी जानकारी प्राप्त करनी होगी। इसकी सारी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे आर्टिकल को ध्यानपूर्वक अंत तक अवश्य पढ़ें।

एमडीएस कोर्स क्या है? (What is MDS Course)

MDS कोर्स क्या है। इस बारे में जानने के लिए आपको यह पता होना चाहिए। कि एमडीएस आखिर किस क्षेत्र में आपका कैरियर बनाता है। तो हम आपको बता दें। की MDS आपको दांतों का डॉक्टर बनाता है। मतलब कि आप डेंटिस्ट में मास्टर्स करते हैं। एमडीएस को Master of dental surgery कहते हैं। जिसे हम हिंदी में दंत शल्य चिकित्सा के मास्टर कहते हैं। यह एक पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स है। जो 2 से 3 वर्ष का होता है। जिसके अंदर 1 वर्ष का प्रशिक्षण यानी ट्रेनिंग शामिल होती है। एमडीएस कोर्स में छात्रों को MDS डॉक्टर बनने के लिए पढ़ाया जाता है।

एमडीएस कोर्स क्या है? एमडीएस कोर्स कैसे करें?

एमडीएस कोर्स के अंदर डेंटल से संबंधित सभी जरूरी विषयों को पढ़ाया जाता है। इसके अंदर आपको दांत, जबड़ा और मसूड़ा तथा इनमें होने वाली बीमारियां, सर्जरी और कॉस्मेटिक उपचार के बारे में पढ़ाया जाता है। साथ ही यह मास्टर डिग्री केवल डेंटल स्पेशलाइजेशन के लिए कराई जाती है। ताकि जो छात्र एमडीएस कोर्स कर रहा है। वह डेंटल स्पेशलिस्ट बन सके। एमडीएस को एक लोकप्रिय कोर्स है। जिसे करना कई छात्रों का सपना होता है। MDS दंत चिकित्सा के क्षेत्र में सर्वोपरि डिग्री मानी जाती है। इसलिए जो छात्र मेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के इच्छुक हैं। वह एमडीएस कर सकते हैं।

कुछ छात्र ऐसे भी होंगे जो अपना कैरियर मेडिकल के क्षेत्र में बनाने चाहते हैं। और MBBS करना चाहते हैं। परंतु कुछ कारणवश एमबीबीएस नहीं कर पाते है। तो आपके लिए बहुत से रास्ते हैं। जिससे आप मेडिकल के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। उनमें से एक MDS Course है। इसके द्वारा आप डेंटल स्पेशलिस्ट बनके अपना कैरियर बुलंदियों तक पहुंचा सकते हैं। यदि आप भी उन लोगों में से हैं। जो एमबीबीएस नहीं कर पाए। और MDS करने की सोच रहे हैं। तो उनके लिए यह पोस्ट बिल्कुल सही है। क्योंकि आपको MDS Kaise bane Hindi की पूरी जानकारी हमारे इस लेख में मिलने वाली है।

एमडीएस कोर्स का पूरा नाम (Full Form of MDS course)

जैसा कि हमने आपको बताया है। कि हम आपको एमडीएस के बारे में बताने जा रहे हैं। तो इसके लिए सर्वप्रथम आपको MDS की फुल फॉर्म का पता होना आवश्यक है। एमडीएस बनके आप डेंटिस्ट के डॉक्टर बनते हैं। आइए MDS की फुल फॉर्म जानते हैं। MDS की फुल फॉर्म master of dental surgery है। इसे करके आप दातों के स्पेशलिस्ट बन जाते हैं।  क्योंकि आपने इसमें मास्टर्स किया होता है। यदि आप डॉक्टर बनना चाहते हैं। तो एमडीएस कर सकते हैं। क्योंकि इस क्षेत्र में आपका कैरियर बुलंदियों तक पहुंच सकता है।

एमडीएस कोर्सकी योग्यताएं (MDS Course Qualification)

जैसा कि आप जानते हैं। कि अन्य डिग्रियों को प्राप्त करने के लिए उसको उसने एडमिशन लेना आवश्यक होता है। एडमिशन लेने के लिए आपके पास कुछ जरूरी योग्यताएं होनी चाहिए। बिल्कुल वैसे ही MDS Course में एडमिशन लेने के लिए कुछ योग्यताएं रखी गई हैं। जिन्हें आप को पूरा करना जरूरी है। Master of dental surgery की योग्यताएं नीचे बताई नहीं है।

  • सर्वप्रथम आपको 12th पास करना होगा। परंतु याद रहे कि आपका 12th साइंस स्ट्रीम biology subjects से पास होना चाहिए।
  • उम्मीदवारों को डेंटल कॉलेज से BDS (Bachelor of dental studies) की डिग्री लेनी होती है। परंतु वह कॉलेज Dental Council Of India (भारतीय दंत परिषद ) से मान्यता प्राप्त कॉलेज होना चाहिए।
  • उमीदवारों को अपनी BDS इंटरशिप पूरी करने के बाद ही MDS कोर्स में एडमिशन लेना चाहिए।
  • कुछ डेंटल कॉलेजेस MDS Course में उन उम्मीदवारों का एडमिशन करते हैं। जिन्होंने अपने बैचलर यानी BDS की डिग्री में 55% मार्क्स प्राप्त किए हैं। सरल भाषा में बताएं तो 55% मार्क्स BDS की डिग्री में प्राप्त करना आपके लिए आवश्यक है।
  • MASTER OF DENTAL SURGERY कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम देना जरूरी होता है। जिसके तत्पश्चात ही आपको गवर्नमेंट या प्राइवेट कॉलेज में एडमिशन दिया जाता है।
  • मास्टर डेंटल सर्जरी कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको जिस एंट्रेंस एग्जाम से गुजरना होता है। उसकी जानकारी हमने नीचे दी है।

एमडीएस कोर्स करने के लिए क्या करें? (How to do MDS Course in hindi)

MDS कोर्स करने के लिए आपको निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना होगा। तभी आप MDS Course को सफलतापूर्वक कर पाएंगे। अन्यथा हो सकता है आपको एमएससी कोर्स में एडमिशन ना मिले। अधूरी जानकारी प्राप्त करके आप एमडीएस कोर्स में एडमिशन नहीं ले पाएंगे का यह जानते हैं। इसीलिए एमडीएस कोर्स कैसे करें? इसे करने की पूरी प्रक्रिया नीचे बताई गई है।

12वीं पास करें-

यदि आप मेडिकल क्षेत्र में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं। तो आपको 12th में साइंस स्ट्रीम से पढ़ाई करनी होगी। साथ ही उसमें आपके सब्जेक्ट फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथ ना होकर physics, केमिस्ट्री और biology होने चाहिए। क्योंकि biology subject के द्वारा ही आप आगे चलकर  मेडिकल क्षेत्र में पढ़ाई कर पाएंगे।

इसके बाद आपको BDS की डिग्री प्राप्त करनी होगी। जिस में एडमिशन लेने के लिए 12वीं में आपको कम से कम 50 से 55% अंक लाना अनिवार्य है। यदि आप 50 से 55% नहीं लाते हैं। तो आपको BDS में एडमिशन नहीं मिल सकता है। यह तो सब जानते हैं। कि मेडिकल क्षेत्र में कैरियर बनाने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। और यह मेहनत आपको 12th क्लास से ही शुरु करनी होती है।

MDS कोर्स करने के लिए BDS Course पूरा करें।

यदि आप MDS course को करना चाहते हैं। तो आपको इसके लिए सबसे पहले डेंटिस्ट की बैचलर डिग्री प्राप्त करनी होगी। 12th पास करने के बाद सबसे पहले आपको Dental council of india से मान्यता प्राप्त कॉलेज के द्वारा Bachelor of dental studies की डिग्री प्राप्त करने के लिए एडमिशन लेना होगा। और बीडीएस कोर्स की पढ़ाई पूरी करनी होगी। बीडीएस करने के लिए आपको Neet का एग्जाम देना होता है।

जिसके द्वारा आप को गवर्नमेंट या प्राइवेट माध्यम से बीडीएस का कोर्स करने के लिए एडमिशन दिया जाता है। BDS को अच्छे नंबरों से पास करने के बाद ही आप MDS course में एडमिशन ले सकते हैं। आपको बीडीएस कोर्स में कड़ी मेहनत करनी होगी। जिससे आप इसमें अच्छे नंबर प्राप्त कर सके। और आपका एडमिशन MDS course में जल्द हो जाए। BDS कोर्स में भी छात्रों को इंटर्नशिप कराई जाती है।

MDS में प्रवेश पाने के लिए प्रवेश परीक्षा (Entrance Test) पास करें।

यदि आप बीडीएस कोर्स की पढ़ाई अच्छे नंबरों से पास कर लेते हैं। तो आपको एमडीएस करना होता है। जिसके लिए आपको एक एंट्रेंस एग्जाम देना होगा। यदि आप एमडीएस में यानी Master of Surgery कोर्स में एडमिशन लेना चाहते हैं। तो आपको यह Entrance एग्जाम अच्छे नंबरों से पास करना होता है। यदि आप इस एंट्रेंस एग्जाम में अच्छे नंबर प्राप्त करते हैं। तो आपको MDS कोर्स का अध्ययन करने के लिए सर्वश्रेष्ठ कॉलेज दिया जाता है। जहां से आप अपने कोर्स की पढ़ाई सुचारू रूप से सकते हैं। MDS कोर्स में एडमिशन लेने का के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम अवश्य देना होता है।

MDS कोर्स की पढ़ाई पूरी करें।

एंट्रेंस एग्जाम के बाद आपको एक कॉलेज प्रदान कर दिया जाएगा। जिस कॉलेज में आप MDS कोर्स की पढ़ाई करेंगे। एडमिशन के 2 से 3 साल तक आपको पूरी मेहनत और लगन से MDS की पढ़ाई पूरी करनी होगी। जैसे ही आप Master of dental surgery की पढ़ाई पूरी कर लेते हैं।

आपको 1 साल के प्रशिक्षण यानी ट्रेनिंग को पूरा करना होता है। क्योंकि आपको ट्रेनिंग में practically knowledge  दी जाती है। यदि आप सफलता पूर्वक अपने एमडीएस की ट्रेनिंग कंप्लीट कर लेते हैं। तो आपको एमडीएस की डिग्री प्रदान कर दी जाती है। इसके बाद आप डेंटिस्ट में मास्टर बन जाते हैं।  एमडीएस का कोर्स पूरा होने के बाद आप dental specialist कहलाए जाने लगते हैं। सरल भाषा में कहें तो आप dental doctor बन जाते हैं।

एमडीएस कोर्स प्रवेश परीक्षा ( MDS Course Entrance Exam)

यदि आप Master of dental surgery की डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं। तो आपको BDS (Bachelor of dental studies) की डिग्री के बाद एक एंट्रेंस एग्जाम देना होता है। भारत में आयोजित होने वाले Entrance Exam की लिस्ट नीचे दी गई है।

  • ऑल इंडिया पोस्ट ग्रेजुएट डेंटल प्रवेश परीक्षा (All india post graduate dental entrance exam)
  • केरल विश्वविद्यालय MDS प्रवेश परीक्षा (kerala university MDS entrance exam)
  • मणिपाल विश्वविद्यालय एमडीएस प्रवेश परीक्षा (Manipal university MDS entrance exam)
  • डॉक्टर डी वाई पाटिल ऑल इंडिया कॉमन एंटरेंस टेस्ट (doc. D. y. Patel all india common entrance exam)
  • भारतीय विद्यापीठ डेंटल कॉलेज और अस्पताल एमडीएस प्रवेश परीक्षा (Bhartiya vidyapeeth dental college and hospital MDS entrance exam)
  • नीत एमडीएस प्रवेश परीक्षा (NEET MDS entrance exam)
  • निम्स एंट्रेंस एग्जाम (Nimhans entrance exam)
  • आइम्स पोस्ट ग्रेजुएशन एंट्रेंस एग्जाम (AIIMS PG entrance exam)

एमडीएस कोर्स के विषय (Subjects of MDS (Master of Dental Surgery)

यदि आपको यह जानकारी नही है तो हम आपको बता दे कि आपको MDS की पढ़ाई करने के लिए स्पेशलाइजेशन का चुनाव करना पड़ता है। इसमें आपको बहुत सारे सब्जेक्ट दिए जाते हैं। परंतु आपको जिस विशेष का स्पेशलिस्ट बनना होता है। आप वह विषय चुन सकते हैं। तो  नीचे कुछ विषय दिए हैं। जिनमें आप स्पेशलिस्ट बन सकते हैं।

  • Specialisation
  • Oral Maxillofacial Surgery
  • Operative dentistry
  • Orthodontics
  • Prosthodontics
  • Periodontics
  • Pedodontics preventive dentistry

एमडीएस कोर्स के बाद आगे की पढ़ाई – Further studies after MDS course

यदि कोई स्टूडेंट  Master of dental surgery के बाद भी अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहता है। तो वह डेंटल में मास्टर करने के बाद PHD कर सकता है। और highest डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। परंतु आपको बता दें। की master of dental surgery के लिए प्राप्त करने के बाद आपको कोई पढ़ाई करने की आवश्यकता नहीं है। यदि आप शौक के लिए पढ़ाई करना चाहते हैं। तो आप PHD ही कर सकते हैं।

एमडीएस कोर्स करने के बाद जॉब (Jobs after doing MDS)

यदि आप यह सोच रहे हैं। कि Master of dental surgery करने के बाद आपको जॉब मिलेगी या नहीं तो आप यह चिंता दीजिए। क्योंकि MDS करने के बाद अन्य  आपके पास कई ऐसे विकल्प होते हैं। जहां आपको एक अच्छी नौकरी मिलती है। आपको कहीं भी डॉक्टर की जॉब मिल जाएगी। आप किसी भी हॉस्पिटल में डेंटल डॉक्टर की जॉब के लिए अप्लाई कर सकते हैं। या अपना डेंटल क्लीनिक खोल सकते हैं। आइए कुछ बेहतरीन नौकरियों के बारे में जानते हैं। जहां आप एक अच्छी पोस्ट पर रहकर जॉब कर सकते हैं। यह जॉब निम्नलिखित है-

  • डेंटल असिस्टेंट (dental assistant)
  • ओरल पैथोलोजिस्ट (oral pathologist)
  • फॉरेंसिक (Forensic)
  • कंसलटेंट (Consultant)
  • डेंटल सर्जन (dental surgeon)
  • डेंटल हाइजीनिस्ट ( dental hygienist)
  • मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव /सेल्फ रिप्रेजेंटेटिव (medical representative/self representative)
  • प्राइवेट प्रैक्टिशनर्स (private practitioners)
  • पब्लिक हेल्थ स्पेशलिस्ट (public health specialist)
  • प्रोफेसर (professor)

एंप्लॉयमेंट क्षेत्र (Employment area)

  • डेंटल क्लीनिक (Dental clinic)
  • डेंटल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर्स (Dental equipment manufacture)
  • डेंटल प्रोडक्ट्स मैन्युफैक्चरर्स (Dental products manufactures)
  • फार्मास्यूटिकल कंपनी (Pharmaceutical companies)
  • प्राइवेट प्रैक्टिस (private practice)
  • रिसर्च इंस्टीट्यूट (Research institute)
  • एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स (Educational institute)
  • हॉस्पिटल्स (Hospitals)

  एमडीएस डॉक्टर की सैलरी (Salary of MDS Doctor)

यदि आपने एमडीएस कोर्स पूरा कर लिया है। तो आप अवश्य जॉब करना चाहेंगे। और यह भी जानना चाहेंगे। कि आप की सैलरी कितनी होती है? एमडीएस डॉक्टर की सैलरी उसके अनुभव और फील्ड पर निर्भर करती है। क्योंकि आप अपनी डिग्री और अनुभव के आधार पर ही किसी सरकारी या निजी क्षेत्र में नौकरी पा सकते हैं। इसलिए सैलरी इस बात पर निर्भर करती है। कि आप किस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं। यदि आप सरकारी क्षेत्र में कार्य करते हैं।

तो आप को सरकार द्वारा सैलरी प्रदान की जाती है। और यदि आप किसी निजी क्षेत्र में कार्य करते हैं। तो आपको उस हिसाब से सैलरी दी जाती है। परंतु आपने यदि एमडीएस कर लिया है। तो आप की शुरुआती सैलरी ₹35000 से लेकर ₹50000 तक हो सकती है। इसके अलावा यदि आप MDS करने के बाद खुद का क्लीनिक खोलते हैं। तो आप लाखों कमा सकते हैं। अब यह आप पर निर्भर करता है। कि आप MDS करने के  बाद नौकरी करना चाहते हैं। या खुद का clinic खोलते हैं।

एमडीएस (MDS) कैसे करें? से संबंधित प्रश्न व उत्तर-

Q:- MDS की फुल फॉर्म क्या होती है?

Ans:- MDS की फुल फॉर्म master of dental surgery होती है जिसे हम हिंदी में दंत शल्य चिकित्सा के मास्टर के नाम से जानते हैं।

Q:- Master of dental surgery (MDS) कोर्स कितने साल का होता है?

Ans:- यह एक पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स है जो 2 से 3 वर्ष का होता है। इसके अंतर्गत 1 साल का प्रशिक्षण यानी ट्रेनिंग भी आती है।

Q:- एमडीएस (MDS) कोर्स में छात्रों को क्या पढ़ाया जाता है?

Ans:- एमडीएस कोर्स के माध्यम से छात्रों को डेंटल से संबंधित सभी जानकारी प्रदान की जाती है। जैसे:-  दांत, जबड़े और मसूड़ों आदि से संबंधित सभी बीमारियां सर्जरी तथा कॉस्मेटिक उपचार के बारे में पढ़ाया जाता है। एमडीएस course सिर्फ साइंस विषय में स्पेशलाइजेशन के लिए किया जाता है। ताकि जो छात्र एमडीएस कोर्स कर रहा है। वह डेंटल का स्पेशलिस्ट बन सके।

Q:- 12वीं के बाद एमडीएस का कोर्स कैसे करें?

Ans:- अगर आप 12वीं के बाद एमडीएस का कोर्स करना चाहते हैं। तो आपको सर्वप्रथम 12th भी में साइंस सब्जेक्ट लेना होगा। वह भी फिजिक्स, केमिस्ट्री और biology स्ट्रीम का होना चाहिए। 12th में इन सब्जेक्ट के साथ आपको 50 या 55 प्रतिशत अंक लाने होते हैं। इसके तत्पश्चात आपको बीडीएस का कोर्स करना होता है। जोकि डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता प्राप्त कॉलेज से करना होता है। इसके पश्चात आपको एंट्रेंस एग्जाम देना होता है। जिसके बाद आपको एमडीएस के कोर्स में एडमिशन मिलता है।

Q:- एमडीएस डॉक्टर की सैलेरी कितनी होती है?

Ans:- एमडीएस डॉक्टर की सैलरी उसके अनुभव और फील्ड पर डिपेंड करती है। परंतु शुरुआती तौर पर यदि आप किसी हॉस्पिटल में डेंटल के पोस्ट पर काम करते हैं। तो आपको शुरुआती सैलरी ₹35000 से ₹50000 तक दी जाती है।

निष्कर्ष:-

आज हमने अपने इस आर्टिकल में  MDS kaise kare से संबंधित संपूर्ण जानकारी आपको दी है। हमने आपको बताया कि MDS kya hota hai, MDS  करने के लिए आपको क्या-क्या करना होता है। Master of dental surgery की योग्यता, सैलरी और एंट्रेंस एग्जाम के बारे में सारी जानकारी हमने आपको अपने इस लेख के माध्यम से दी हैं।

यदि आप भी एमडीएस डॉक्टर बनना चाहते हैं। तो हमारे द्वारा दी गई जानकारी को फॉलो कर सकते हैं। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई है। तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइए। और साथ ही हमारे इस आर्टिकल को अपने जरूरतमंद दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।