कम्युनिकेशन स्किल्स कैसे सीखे? | कम्युनिकेशन स्किल्स कैसे बढ़ाये 13 बेस्ट टिप्स

बातों के माध्यम से ही हम सब के द्वारा एक दूसरे से विचार फीलिंग व्यक्त की जाती है। हम अपने नॉलेज और अनुभव को बातें करके ही एक दूसरे के साथ शेयर कर सकते हैं। हम सब अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में बहुत लोगों से बातें करते हैं। जिसे कम्युनिकेशन कहा जाता है। परंतु बहुत सारे लोगों को नहीं पता कि कम्युनिकेशन स्किल्स क्या होती है? कम्युनिकेशन तो हर व्यक्ति करता है। परंतु बातचीत करने का सही तरीका बहुत कम लोगों को ही पता होता है। यदि आप जानना चाहते हैं कि कम्युनिकेशन करने का सही तरीका क्या है। तो हमारे द्वारा इस लेख में How to learn communication skills? के बारे में बताया गया है।

घर में भले ही हम किसी भी तरीके से एक दूसरे से बातचीत कर लेते हैं। परंतु बाहर की दुनिया में हमें बातचीत करने के तरीके को सीखना होगा क्योंकि इसी के माध्यम से हम किसी को अपनी तरफ आकर्षित कर पाएंगे। यदि आप सही ढंग से बातचीत करना चाहते हैं। आपको हमारा यह लेख अवश्य पढ़ना होगा क्योंकि हमारे द्वारा इस लेख में आपको Communication skills kaise sikhe? Communication skills ki tips kon kon si hai? इसके बारे में संपूर्ण जानकारी दी गई है। जिसके माध्यम से आप बहुत ही आसानी से कम्युनिकेशन स्किल्स के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। यह जानकारी प्राप्त करने हेतु आपको हमारा यह लेकर अंत तक अवश्य पढ़ना होगा क्या।

कम्युनिकेशन स्किल्स टिप्स? (Tips for communication skills?)

यदि आप बाहर बातचीत करने के लिए कुछ कम्युनिकेशन स्किल्स को जानना चाहते हैं तो हमारे द्वारा आज यहां आपको Tips for communication skills? की जानकारी दी गई है। यदि आप यह जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए सभी पॉइंट को ध्यानपूर्वक पढ़ें-

कम्युनिकेशन स्किल्स कैसे सीखे कम्युनिकेशन स्किल्स कैसे बढ़ाये 13 बेस्ट टिप्स

1. आवाज का लहजा (Tone of voice)

  • बात करने का लहजा सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। यदि आप सभी बातों को एक ही लहजे में कहेंगे। तो वह बहुत ही अजीब लगेगा । सलिए आपको बात करने के लिए Tone of voice का बहुत ध्यान रखना होगा। जिससे लोगों को आपकी इंटेंशन का पता चल सके। साथ ही साथ आप लोगों को अच्छे से अपनी बातें अभिव्यक्त कर सकें। आवाज के लहजे से ही आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स का पता लगता है। इसलिए आपको अपनी सभी बातों को अलग-अलग लहजे में कहना चाहिए।
  • सरल भाषा में आप इस बात को समझना चाहते हैं। तो आपको अपनी बात किसी व्यक्ति के सामने एक अलग एनर्जी और फ्लो में बोलनी चाहिए। साथ ही साथ विन्रम बातों के साथ विन्रम लहजा ही होना चाहिए। आपकी बात करने का लहजा ही दूसरे व्यक्तियों के सामने आपके छाप छोड़ जाता है।

2. आवाज का उतार-चढ़ाव (Voice modulation)

सर्वप्रथम आपको यह जान लेना चाहिए कि What is the voice modulation? हम आपको बता दें अपनी किसी भी बात को प्रतिभाशाली तथा दमदार बनाने हेतु यदि आप अपनी आवाज को धीमे, तेज, ऊपर और नीचे इस तरीके से मेंटेन करके बात करते हैं। तो यही आवाज का उतार-चढ़ाव कहलाता है। इस तरीके से अधिक से अधिक लोग आप से जोड़ने की कोशिश करेंगे और आपकी बातों को ध्यान से सुनेंगे। प्रत्येक विषय के अनुसार आपको अपनी आवाज मेंटेन करनी होगी। हमारे द्वारा नीचे इसके उदाहरण को देकर समझाया गया है-

जैसे:- यदि आप किसी की प्रशंसा कर रहे हैं या तारीफ करना चाह रहे हैं। तो आप अपनी आवाज को थोड़ा तेज रखें। वहीं दूसरी तरफ यदि कोई सीरियस बात है या फिर आप दुखी है। तो अपनी आवाज को थोड़ा धीमे रखें।

आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स को बहुत ही ज्यादा प्रभावकारी बनाने के लिए आपको आवाज के उतार-चढ़ाव को बहुत ध्यान में रखना होगा। क्योंकि यह आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

3. इन बातों को भी ध्यान रखें (Remember these things also)

हमारे द्वारा नीचे कुछ महत्वपूर्ण बातें बताई गई है। जिन्हें याद रखना बहुत जरूरी है तभी आप किसी दूसरे व्यक्ति को अपनी बातों से प्रभावित करने में सक्षम रहेंगे कुछ महत्वपूर्ण  जानकारी निम्न प्रकार है-

  • जब भी आप किसी दूसरे व्यक्ति से बात करें। तो हमेशा अपने चेहरे पर एक छोटी सी मुस्कुराहट रखें। ताकि दूसरा व्यक्ति आपसे बात करते समय खुशी और उत्साह का अनुभव करें।
  • बात करते समय दूसरे व्यक्तियों की आंखों में हमेशा देखें। साथ ही साथ आपको अपने चेहरे के अच्छे एक्सप्रेशन और कॉन्फिडेंस के साथ ही दूसरे व्यक्ति से बात करनी चाहिए।
  • यदि आप दूसरे व्यक्ति को अपनी कोई बात समझाना चाहते हैं या फिर आपको स्पीच देना चाहते हैं। तो आप अपने हाथ और बॉडी पोस्चर कर इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे सामने वाले व्यक्ति पर आपका एक अच्छा प्रभाव पड़ता है।

4. जरूरी शब्दों को जोर देकर बात करें ( Emphases important words)

यदि आप किसी व्यक्ति से बात कर रहे है या फिर आपको किसी जरूरी विषय पर किसी दूसरे व्यक्ति से बात करनी है। तो आपको जरूरी शब्दों पर जोर देकर बोलना चाहिए अर्थात कहने का मतलब यह है कि आपको अपनी आवाज को जरूरी बात पर थोड़ी ऊंची रखनी चाहिए। इससे सामने वाला व्यक्ति समझ पाएगा कि आप किस जरूरी विषय के बारे में बात करना चाहते हैं। साथ ही साथ Emphasis important words आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स में एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उदाहरण के लिए हमारे द्वारा नीचे कुछ जरूरी शब्द बताए गए हैं। जो कि निम्न प्रकार हैं-

  • आज स्कूल की छुट्टी है।
  • मैं आज कार चलाने जा रहा हूं।
  • वह घर जा रहा है।

ऊपर बताए गए शब्दों में छुट्टी, कार और घर महत्वपूर्ण शब्द है। इन शब्दों पर आपको विशेष रूप से जोर देकर अपनी बात कहनी चाहिए। इस प्रकार के अन्य शब्द भी हो सकते हैं।

5. ठहराव के साथ बात करें (Speak with pause)

बात करते वक्त पॉज लेना भी बहुत जरूरी होता है। जैसे ही आप अपनी कोई बात किसी दूसरे व्यक्ति से कहते हैं। तो अपने एक वाक्य को खत्म होने पर आपको थोड़ा रुकना चाहिए। जिससे दूसरे व्यक्ति को आपकी बात समझने में आसानी हो सके। साथ ही साथ आप अपनी आगे की बात बोलने से पहले सोच पाएंगे कि आपको क्या बोलना है? ठहराव के साथ बात करना हमारी कम्युनिकेशन स्किल्स के अंदर आता है। आपको ज्यादा लंबे समय के लिए पॉज नहीं लेना है। आप केवल 3 से 5 सेकंड तक का पॉज लें। तथा अपनी बात को पुनः शुरू करें। साथ ही साथ आपका पॉज लेना एकदम नेचुरल लगना चाहिए। ऐसा न लगे कि आप दिखावा करने के लिए अपनी बात को ठहरा रहे हैं।

6. अच्छा श्रोता बने (Be a good listener)

हमारे द्वारा आपको यहां कम्युनिकेशन स्किल्स के बारे में बताया जा रहा है। अगर आप जब तक किसी व्यक्ति से प्रभावी तरीके से बात नहीं कर सकते है। जब तक आप सामने वाले की बात को सही ढंग से ना सुनें। इसलिए आपको अच्छे वक्ता होने के साथ-साथ एक अच्छा श्रोता भी होना चाहिए। कभी-कभी ऐसे होता है कि हम सामने वाले की बात को बिना सुने अपनी बातें रखना शुरू कर देते हैं। जिससे आपका प्रभाव दूसरे व्यक्ति पर बहुत गलत पड़ता है। ऐसे में दूसरा व्यक्ति आपसे बात करने से बचता है। और आपकी बातों को टालना शुरू कर देता है। इसलिए आपको अपनी बात बोलने से पहले दूसरों की बात सुनना सीखना चाहिए।

यह भी ध्यान रखें, जब आप सामने वाले की बात को सुन रहे हो। तो आपको उसकी बात सुनते समय दिलचस्पी लेनी होगी। जिससे सामने वाला आपको अपनी सारी बातें खुलकर बता सके। उसे ऐसा ना लगे कि आप टालने के लिए केवल उसकी बातों को ऊपर से सुन रहे हैं। तब जाकर ही लोग आप से जुड़ पाएंगे। जब आप बोलोगे यह बात समझ जाएं कि सामने वाला आपसे किस विषय में बात करना चाहता है। इसके तत्पश्चात आप अपनी बात उसके सामने रख सकते हैं। इससे आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स बेहतर होगी। साथ ही साथ लोग आपके साथ रहना पसंद करेंगे।

7. अपने ज्ञान का दिखावा ना करें (Don’t show off knowledge)

आपके पास चाहे कितना ही ज्ञान क्यों ना हो। परंतु लोगों के सामने उसका दिखावा ना करें क्योंकि लोगों को ऐसा लगेगा कि आप उन्हें नीचा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। जो आप की छवि को प्रभावित करता है। साथ ही साथ लोग समझेंगे कि आपने बहुत घमंड है। इसीलिए आपको अपने ज्ञान का दिखावा बिल्कुल नहीं करना है। यदि आप अपनी बातें और अपने ज्ञान को लोगों के सामने रखना चाहते हैं। तो उसे सही ढंग से बिना किसी घमंड के रखे। यदि आपकी बात एक सही विषय पर आधारित है तथा कुछ दम रखती है। तो लोग अवश्य ही आपकी बातों को सुनेंगे और आपकी बातों से प्रभावित भी होंगे तथा आपके काम में आपका साथ ही देंगे।

8. बातचीत के दौरान प्रश्न पूछे (Ask the question during conversation)

यदि आप किसी भी व्यक्ति से केवल मुलाकात करने जा रहे हैं और उसके साथ अपने संबंध अच्छे बनाना चाहते हैं। तो आप उनसे बहुत से प्रश्न पूछ सकते हैं। जैसे आपकी मनपसंद डिश कौन सी है? आपको क्या करना पसंद है? आपको कौन सा कलर पसंद है? साथ ही साथ आपका पैशन क्या है। यह सारे प्रश्न आपको दूसरे व्यक्ति के सामने प्रभावित साबित करेंगे क्योंकि इससे दूसरे व्यक्ति को लगेगा कि आप उसके बारे में जानना चाहते हैं। किसी दूसरे व्यक्ति से बिल्कुल भी किसी भी इन्वेस्टिगेशन जैसे सवाल ना पूछे। इससे आपकी बात बिगड़ सकती है। परंतु यदि आप उनसे संबंधित कोई अच्छी बातें पूछेंगे। तो अवश्य ही आपसे वह प्रभावित होंगे और आप से बात करने की कोशिश करेंगे।

9. बेवजह की बातें ना करें (Don’t talk pointless or senseless)

जब आप किसी व्यक्ति से बात कर रहे हो तो आपको वही बात करनी चाहिए। जो आपके आपस में चल रही हो। बेवजह की बातों को ना करें। इससे आपके और सामने वाले व्यक्ति के संबंध में समस्या उत्पन्न हो सकती है। यदि आप बेवजह की बातें करेंगे। तो लोग आपसे बात करने से बचेंगे और आपकी बातों को टालने भी लगेंगे। सरल भाषा में बताएं। तो आपको केवल वही बातें करनी है। जिससे आपकी बात आकर्षित हो सकें।

यदि आप केवल काम की बातें ही लोगों से करेंगे। तो लोगों को लगेगा कि आप एक संगीन व्यक्ति हैं। जो लोगों की बात सुनकर उनकी समस्या का समाधान करना जानते हैं। साथ ही साथ उनकी बातों को बेवजह की बातों से नजरअंदाज नहीं करते हैं। यह टिप आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स को और भी बेहतर बनाएगा। इसलिए आपको अपनी मेन मुद्दे की बातों को ही ध्यान रखना।

10. दूसरों से बहस ना करें (Don’t argue to others)

यदि आप सामने वाले व्यक्ति से किसी विषय पर बात कर रहे हैं और वह अपनी बातों पर अड़ा हुआ है। तो आप समझदारी दिखाते हुए उससे बहस ना करें। यदि आपको लगता है कि इस व्यक्ति से बात करके आपको कोई फायदा नहीं मिलेगा। तो आपको वहां खामोश रहना चाहिए। कई बार ऐसा हो जाता है कि आपका बोलना जरूरी हो जाता है। तो आप सामने वाले की बात को ध्यान पूर्वक सुनकर अपनी बात सामने रख सकते हैं। यह आपकी कम्युनिकेशन स्किल में सबसे अहम रोल निभाता है क्योंकि हमेशा आपको लोगों से बहस करने और लड़ाई झगड़ा करने से बचना चाहिए। यदि आप सामने वाले व्यक्ति से लड़ाई झगड़ा या बहस करते हैं। तो इससे आपकी छवि का नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

11. सामने वाले के मूड के हिसाब से बात करें (talk according to the others mood)

यदि आप जिस व्यक्ति से बात करना चाहते हैं या बात कर रहे हैं और वह खुश है तो आपको अपने चेहरे पर मुस्कान लानी चाहिए तथा यदि सामने वाला व्यक्ति दुखी है। तो आपको सहानुभूति की भावना से उस व्यक्ति से मुलाकात करनी चाहिए। इसी प्रकार से आपको सामने वाले के मूड के हिसाब से बात करनी चाहिए। ताकि लोग आपको पसंद करें और आपसे अपनी बातें शेयर कर सके। लोगों को उनकी  बुरी परिस्थितियों से निकलने के लिए साहस प्रदान करें। यह गुणवत्ता आपकी कम्युनिकेशन स्किल को और भी ज्यादा निखार देती है। इसलिए हमेशा आपको आसपास के माहौल और सामने वाले के मूड को देखकर ही बातें करनी चाहिए।

12. साफ शब्दों का इस्तेमाल करें (Use clear words)

आपको अपने शब्दों का इस्तेमाल इस प्रकार करना चाहिए कि सामने वाला व्यक्ति सही तरीके से आपकी बात को समझ सके। कहने का तात्पर्य यह है कि आपको अपने मुंह से साफ शब्दों को निकालना चाहिए। तथा एक निर्धारित आवाज में दूसरे व्यक्ति से बात करनी चाहिए। जिससे वह व्यक्ति आपकी पूरी बात को अच्छे से समझ सके। यदि आप जल्दबाजी में या फिर बहुत धीरे धीरे किसी बात को रखेंगे। तो दूसरा व्यक्ति आपकी बात को सही ढंग से नहीं समझ पाएगा। इसलिए जरूरी है कि आप साफ शब्दों का इस्तेमाल करें। तथा आप जो भी बोलना चाहते हैं उन्हें साफ साफ शब्दों में कहे।

13. अभ्यास करें (Do practise)

यदि आप दूसरों से बात करते समय डरते हैं या फिर अपनी बातों को दूसरों के सामने रखते समय हिचकिचाते हैं। तो आपको अपनी यह आदत दूर करने के लिए बार-बार अभ्यास करना होगा। इसके लिए आप शीशे के सामने खड़े होकर बातें कर सकते हैं। जिससे आप दूसरों के सामने बातें करने में सक्षम होंगे। साथ ही साथ यदि आप शीशे के सामने खड़े होकर प्रेक्टिस नहीं करना चाहते है। तो आप वीडियो या फिर ऑडियो रिकॉर्डिंग की सहायता से भी अपनी कम्युनिकेशन स्किल्स की प्रैक्टिस कर सकते हैं। इस प्रकार आपको यह भी पता चल जाएगा कि आप कहां पर अटकते हैं। कम्युनिकेशन स्किल्स आपके कॉन्फिडेंस का एक अहम हिस्सा होता है।

कम्युनिकेशन स्किल्स कैसे सीखे? इससे संबंधित प्रश्न व उत्तर (FAQs)

Q:-1. कम्युनिकेशन स्किल्स किसे कहते हैं?

Ans:-1. जब आप दूसरों के सामने बेझिझक अपनी बातों, भावनाओं और विचारों को रखते हैं। साथ ही साथ उनकी बातों को ध्यान पूर्वक सुनते हैं। तो इसी को कम्युनिकेशन स्किल्स कहते हैं।

Q:-2. कम्युनिकेशन स्किल्स कैसे सीखे?

Ans:-2. कम्युनिकेशन स्किल्स सीखने के लिए आपको अपने अंदर कॉन्फिडेंस लाना होगा। साथ ही साथ हमारे द्वारा ऊपर आपको कुछ टिप्स दी गई है। जिनके माध्यम से आप कम्युनिकेशन स्किल्स सीखने में सक्षम हो सकते हैं।

Q:-3. कम्युनिकेशन स्किल्स सीखने के लिए प्रैक्टिस कैसे करें?

Ans:-3. कम्युनिकेशन स्किल सीखने के लिए आप शीशे के सामने खड़े होकर प्रैक्टिस कर सकते हैं। साथ ही साथ वीडियो रिकॉर्डिंग और ऑडियो रिकॉर्डिंग का भी सहारा ले सकते हैं।

Q:-4. कम्युनिकेशन स्किल्स क्यों जरूरी है?

Ans:-4. आपका बोलने का लहजा अच्छा होना चाहिए। यह इसलिए जरूरी है ताकि आपको लोगों के सामने छवि प्रभावित बन सकें। साथ ही साथ लोग आपसे बात करने के लिए उत्सुक रहे।

Q:-5.;कम्युनिकेशन स्किल की आवश्यकता क्यों होती है?

निष्कर्ष (Conclusion)

आज हमारे द्वारा आपको इस लेख में Communication skills kaise sikhe? तथा communication skills ke liye tips? की जानकारी दी गई है। जिसके माध्यम से आप कम्युनिकेशन स्किल्स के बारे में बहुत आसानी से जान सकते हैं। यदि आपको इसके बारे में जानकारी नहीं थी। तो अवश्य ही यह लेख पढ़कर आप की समस्या दूर हो गई होगी। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दिया गया यह लेख अवश्य ही पसंद आया होगा। यदि आपको हमारे द्वारा दिया गया यह लेख पसंद आया हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखकर जरूर बताइए। साथ ही हमारे इस लेख को अपने दोस्तों व जरूरतमंद रिश्तेदारों के साथ शेयर करना ना भूले।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।