यूपी प्रभु रसोई योजना क्या है? | लाभ, उद्देश्य, आरंभ | UP Prabhu Rasoi Yojana

UP Prabhu Rasoi Yojana 2021 :– आज के समय में हर व्यक्ति को अपना जीवन यापन करने के लिए दो वक्त की रोटी की आवश्यकता होती है लेकिन बहुत से परिवार भी है जिनके परिवार का मुखिया अगर दिन में कमाता है तो कहीं जाकर उनके घर का चुला शाम को जल पता है। तथा वे भोजन प्राप्त कर पाते है और अगर किसी कारण परिवार के मुखिया या जिस व्यक्ति की आय से घर का खर्चा चलता है और वह किसी कारण काम पाता है या फिर कहीं उसका काम लग नहीं पाता है तो उसके परिवार को दो वक्त का भोजन नसीब नहीं होता है जिस कारण उन्हें बहुत – बहुत समय बिना कुछ खाये गुजरने पड़ते है।

लेकिन आगे से ऐसा न हो इसलिए योगी सरकार द्वारा बहुत से एतयात कदमों को उठाया जा रहा है, जिसके तहत उत्तर प्रदेश कब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा यूपी प्रभु रसोई 2021 (UP Prabhu Rasoi Yojana 2021) की शुरुआत कराई है। जिसके अंतर्गत जिलों – जिलों में प्रभु रसोई को खुला जायेगा तथा गरीब वेसाय लोगों को मुफ्त में भोजन उपलब्ध कराया जायेगा।

जिससे प्रदेश का कोई भी परिवार भूखा न हो सकें। इसलिये यदि आप भी समाज में रहते हो तो आपको भी इस योजना के बारे में पता होना आवश्यक है। क्योंकि आप भी बहुत से गरीब और वेसाया लोगों को देखते होंगे। जिन्हें कभी – कभी दो वक्त की रोटी नसीब नहीं हो पाती है। तो आप उन्हें इस योजना के बारे में बताकर उनकी मदद कर सकते है तथा आशीर्वाद के भागी बन सकते है।

यूपी प्रभु रसोई योजना क्या है? | What Is UP Prabhu Rasoi Yojana

UP Prabhu Rasoi Yojana

उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा कि प्रदेश का कोई भी नागरिक शाम भी नागरिक बिना भोजन करें ना सोए के उद्देश्य को मध्य नज़र रखते हुए 9 अगस्त 2019 को UP Prabhu Rasoi Yojana की शुरुआत की। जिसके अंतर्गत उद्देश्य रखा गया है कि हर जिले में प्रतिदिन 300 नागरिकों के लिए पोष्टिक आहार जिसमें दाल, चावल, रोटी(चपाती) आदि उपलब्ध कराया जायेगा।

इसके अलावा आपकी उचित जानकारी कब लिए बता दें कि इस प्रकार की पहली रसोई तमिलनाडु में अम्मा केन्टीन फिर उत्तराखंड में इंद्रा अम्मा भोजनालय और इन सब के बाद उत्तत प्रदेश में पहली केन्टीन सहारनपुर में खोली गयी। जिसके बाद अब मुख्यमंत्री जी द्वारा इस प्रकार की रसोई हर जिले में एक खोलने की योजना तैयार की गई है तो आइये इसके बारे में विस्तार से जानते है –

प्रभु रसोई योजना की विशेषताएं

यदि आप मुख्यमंत्री प्रभु रसोई योजना के बारे में पढ़ रहे है तो आपको इसकी विशेषताओं के बारे में भी पता होना आवश्यक है, आपकी उचित जानकारी के लिए हमारे Prabhu Rasoi Yojana 2021 के कुछ विशेषताओं को नीचे साझा किया गया है जो कि कुछ निम्न प्रकार है –

  • इस योजना के अंतर्गत मजदूरों, गरीबों आसाय लोगों को निःशुल्क भोजन करवाया जायेगा।
  • रसोई को खोलने के लिए स्थान हेतु नगर निगम या अन्य अन्य सरकारी संस्थान की मदद ली जायेगी।
  • इस योजना के अंतर्गत नियम बनाया गया है कि रसोई में दोपहर 12 बजे से 2 बजे तक भोजन उपलब्ध कराया जाया करेगा।
  • सभी सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों का इसमें सहयोग रहेगा तथा सामाजिक संस्थाएं भी इसके लिए मदद करेंगे।
  • रेलवे स्टेशन के नज़दीक किसी स्थान पर प्रभु रसोई कैंटीन को खोला जायेगा।
  • प्रभु रसोई कैंटीन में आपको दाल, चावल, चपाती आदि भोजन करने के लिए मिलेंगे।
  • इस योजना के शुरू होने से भुखमरी से काफी हद तक कमी आएगी।

लॉकडाउन में बहुत कारगर साबित हुयी प्रभु रसोई

करोना काल में प्रभु रसोई लोगों के लिए बहुत मददगार साबित हुई। क्योंकि कोरोना के चलते भारत सरकार द्वारा पूरे देश को लॉकडाउन (बंद) लर दिया था। जिसके चलते जो रोजी मजदूर या अन्य व्यक्ति को रोज कमाते और खाते है तो उनकी आमदनी होना बंद हो गयी।

जिस कारण उन्हें भोजन की प्राप्ति करने के लिए प्रभु रसोई का सहारा मिला। क्योंकि पूर्ण लॉकडाउन में सरकार एवं अन्य सामाजिक संस्थानों के सहयोग से पूरे लॉकडाउन भोजन का वितरण कराया गया। जिससे मजदूर और गरीब नागरिकों को भोजन की प्राप्ति करने के लिये ज्यादा समस्यों का सामना नहीं करना पड़ा तथा पूर्ण Lockdown उनका सही व्यतीत हो सका।

इसके अलावा बहुत से लोग ऐसे भी थे जो किसी कारण प्रभु रसोई तक आने में असमर्थ है तो उन लोगों के लिए भोजन के पैकेट पैक करवाके घर – घर वितरण कराया गया। जिससे कोई भी व्यक्ति भूखा ना सोए।

अधिकारियों द्वारा समय – समय पर किया जाता है निरीक्षण

प्रभु रसोई योजना के अंतर्गत ख़ोलें गयी कैंटीन की मंडल कमिश्नर और डीएम जैसे अधिकारियों द्वारा समय – समय पर निरीक्षण किया जाता रहता है तथा पता लगाया है कि कैंटीन के अंदरजो भोजन बनाया जा रहा है उसमें किसी प्रकार की गड़बड़ी तो नहीं है तथा सभी जरूरतमंदों के पास ये सही प्रकार पहुंच पा रहा है।

प्रभु रसोई में लोग अपना योगदान दे रहे है?

अब लोगों का मानसिकता बदल रही है इसका सच्चा हमें प्रभु रसोई में देखने को मिल रहा है क्योंकि यहां अब दान करने वाले लोगों की लाइन लगी रहती है और लोग जन्मदिन, पुण्यतिथि, वर्षगांठ आदि कार्यक्रमों पर घी, तेल, चावल, आटा, सब्जी आदि को जरूरमंद लोगों तक पहूंचाने के लिए यहां आते रहते है।

जरूरतमंद लोगों को भोजन उपलब्ध कराना पुण्य का काम

आप किसी भी धर्म की किताबों को पढ़ेंगे। तो आपको वहां पढ़ने को मिलेगा। कि जरूरतमन्द लोगों को भोजन करवाना एक बहुत बड़ा पुण्य काम है। इसके अलावा अपने देखा भी होगा कि गुरुद्वारा में हमेशा लंगर चलते है तथा लोग वहां भोजन ग्रहण करते है ये लंगर इसलिये ही चलाये जाते है क्योंकि यह एक पुण्य का काम है।

इसलिए हमेशा जरूरमंद लोगों को भोजन करवाने से कभी पीछे न हटे। क्योंकि आसाय और गरीबों को भोजन करवाने के मौखा जीवन में हर व्यक्ति नहीं मिलता है इसलिए अगर कभी ये मौखा जीवन में आपको कभी प्राप्त होता है तो इसे व्यर्थ में ना गवाए।

निष्कर्ष –

उत्तर प्रदेश में अभी भी बहुत से ऐसे परिवार निवास करते है जो शाम को बिना भोजन ग्रहण करें जो जाते है। ऐसा ना हो इसलिये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा यूपी प्रभु रसोई योजना (Uttar Pradesh Prabhu Rasoi Yojana 2021 In Hindi) की शुरुआत कराई है।

जिसके तहत गरीब मजदूर, नागरिकों को निःशुल्क भोजन उपलब्ध कराया जायेगा। इसके साथ ही नहीं कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बताये तथा जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अन्य कोगों के साथ शेयर करें? जिससे वो भी इस योजना के बारे में जाने तथा लोगों की मदद हो सकें।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।