राष्ट्रीय गोकुल मिशन में ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें?

|| राष्ट्रीय गोकुल मिशन में ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें? | What is Rashtriya Gokul Mission 2023 | Implementation of Rashtriya Gokul Mission | Eligibility in Gokul Mission | Objective of Rashtriya Gokul Mission | rashtriy Gokul mission Mein aavedan karne ki prakriya ||

सरकार द्वारा गायों के संरक्षण के लिए बहुत सारी योजनाएं चलाई जाती हैं जिससे गायों को सुरक्षा प्रदान की जा सके। इसी के तहत वर्ष 2014 में केंद्र सरकार ने स्वदेशी गायों की सुरक्षा एवं विकास के लिए Rashtriya Gokul Mission शुरू किया था। इस योजना के माध्यम से देशभर के ग्रामीण क्षेत्रों में पशु केंद्र निर्मित होंगे जिनको गोकुल ग्राम भी कहेंगे।

इससे देश के किसानों एवं पशुपालकों के व्यवसाय में उन्नति होगी और उनकी आमदनी भी बढ़ेगी। इस लेख में हम आपको Rashtriya Gokul Mission 2023 से संबंधित सभी जानकारी शेयर करेंगे तो आप हमारे लिए लेख को अंत तक पढ़े।

Contents show

राष्ट्रीय गोकुल मिशन 2023 क्या हैं? (What is Rashtriya Gokul Mission 2023?)

सरकार द्वारा गायों के संरक्षण एवं विकास के लिए बहुत सारी योजनाओं का निर्माण किया गया है। जिससे गायों का संरक्षण किया जा सके और उन्हें सुरक्षित रखा जा सके। गायों को सुरक्षित रखने के लिए Rashtriya Gokul Mission को शुरू किया गया है। इस योजना के माध्यम से किसानों एवं पशुपालकों की आमदनी में भी वृद्धि होगी। एक रिपोर्ट के अनुसार पता लगाया गया है कि भारत सरकार ने वर्ष 2014 से 2020 तक इस मिशन में 1842.76 करोड़ रुपए खर्च कर दिए हैं।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें

इस योजना के तहत किसान पशुपालन के लिए प्रोत्साहित होंगे जिससे देश में दुग्ध उत्पादन का विकास होगा। इससे बेरोजगार लोगों को रोजगार भी मिल सकेगा। अगर आप इस योजना से संबंधित सभी जानकारी चाहते हैं तो आप हमारे लेख को एंड तक पढ़े। जिससे आप किसी भी नए अपडेट को मिस नहीं कर पाए। तो दोस्तों आइए जानते हैं इस योजना का क्या उद्देश्य है और इसे क्यों शुरू किया गया है।

योजना का नाम राष्ट्रीय गोकुल मिशन
साल 2023
लाभार्थी गौपालक
उद्देश्य स्वदेशी गायों के संरक्षण और नस्ल के विकास को वैज्ञानिक विधि से प्रोत्साहित करना
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन और ऑफलाइन
वेबसाइट https://dahd.nic.in/

राष्ट्रीय गोकुल मिशन का उद्देश्य | Objective of Rashtriya Gokul Mission

देशभर के किसानों एवं पशुपालकों को लाभान्वित करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा एक नयी योजना का आरंभ किया गया है। जिसका नाम Rashtriya Gokul Mission रखा गया है। इस योजना के अंतर्गत स्वदेशी गोजातीय नस्ल को विकसित किया जाएगा और इसके साथ ही इन गायों का संरक्षण भी किया जाएगा।

किसानों के व्यापार में वृद्धि करने के उद्देश्य से गायों की दुग्ध उत्पादन क्षमता को वैज्ञानिक तरीकों से बढ़ाने की चर्चा की गई है। इस मिशन के माध्यम से पशुपालन एवं डेयरी के काम में वृद्धि की जाएगी। जिससे कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था में सुधार आएगा।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन का कार्यान्वयन | Implementation of Rashtriya Gokul Mission

राज्यों के पशुधन विकास बोर्ड जैसे संस्थान राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के लिए कार्यान्वित होंगे। इन संस्थानों को एकीकृत पशु केंद्र गोकुल ग्राम की स्थापना के लिए फंड दिया जाएगा। राज्य गौ सेवा आयोग SIA के प्रस्तावों को प्रायोजित एवं इनकी देखरेख करने का आदेश भी दिया गया है।

जिनमें से देशी पशु विभाग में उच्च जर्मप्लाज़्म में विशेष कार्य करने वाली एनजीओस जैसे भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, कृषि अथवा पशुपालन महाविद्यालय सहकारी समितियां एवं गौशाला इत्यादि को शामिल किया गया है।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में लाभ एवं विशेषताएँ | Benefits and features in Rashtriya Gokul Mission

  • इस योजना को केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने 28 जुलाई 2014 को शुरू की थी।
  • 2025 करोड़ रूपए के बजट का आवंटन वर्ष 2014 में गोकुल मिशन के लिए किया गया था।
  • इस मिशन के अंतर्गत देसी गायों के संरक्षण एवं नस्लीय विकास के लिए वैज्ञानिक तकनीकी का प्रयोग किया जाएगा।जिससे गायों से अधिक मात्रा में दूध मिल पाएगा।
  • 2019 में इस मिशन में 750 करोड़ रुपए की वृद्धि कर दी गई है और अब इस योजना का टोटल बजट का अनुमान आप खुद ही लगा सकते हैं।
  • इस मिशन के तहत देश में पशुओं की संख्या को बढ़ाने पर भी ध्यान देकर पशुपालन में वृद्धि करनी होगी।
  • राष्ट्रीय गोकुल मिशन के माध्यम से किसानों की आय में वृद्धि की जा सकेगी और किसान ज्यादा आमदनी कर पाएंगे।
  • सभी किसानों एवं पशुपालकों के दुग्ध उत्पादन की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए वैज्ञानिक तकनीकों की जानकारी दी जाएगी। जिससे किसान ज्यादा से ज्यादा मात्रा में गायों से दूध निकाल पाएंगे और अपने व्यवसाय में वृद्धि कर पाएंगे।

गोकुल मिशन में पात्रता | Eligibility in Gokul Mission

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में आवेदन करने के लिए सरकार के द्वारा कुछ पात्रता को निर्धारित किया गया है। जो कि अब न करता लाभार्थी के पास होना जरूरी है। जरूरी पात्रता का विवरण नीचे जान सकते है।

  • यहां पर आवेदन करने वाला व्यक्ति भारतीय होना चाहिए।
  • आवेदन करने वाले व्यक्ति की उम्र 18 वर्ष से अधिक हो और उसके पास भारतीय नागरिक होने का प्रमाण जैसे की आधार कार्ड होना चाहिए।
  • सभी छोटे किसान और पशुपालक इस योजना में आवेदन कर इसका लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
  • सरकारी पेंशन भोगी किसान एवं पशुपालक यहां पर आवेदन करने के लिए अयोग्य हैं।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में आवेदन करने के लिए दस्तावेज | rashtriy Gokul mission Mein aavedan karne ke liye dastavej

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में आवेदन करने के लिए दस्तावेज की आवश्यकता होगी जो कि नीचे दिए गए है।

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • नवीनतम पासपोर्ट फोटो
  • ईमेल आईडी

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में आवेदन करने की प्रक्रिया | rashtriy Gokul mission Mein aavedan karne ki prakriya

किसान लाभार्थी इस योजना का लाभ ले सकते हैं लेकिन इसके लिए इस योजना में संबंधित कार्यालय में जाकर आवेदन फॉर्म जमा करना होगा। यह आवेदन फॉर्म भरकर कैसे जमा करना है इसकी जानकारी नीचे दी गई है।

  • इस योजना में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको पशुपालन और डेयरी विभाग के कार्यालय में जाना होगा।
  • वहां से आपको राष्ट्रीय गोकुल मिशन का आवेदन पत्र प्राप्त करना है।
  • अब आवेदन पत्र में पूछे गए सभी जानकारी आपको सही तरीके से भरनी है और एक बार चेक कर लेना है कि क्या आपके द्वारा भरी गई जानकारी सही है।
  • इसके बाद सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज को आवेदन पत्र के साथ सलंगन कर देना है और आवेदन पत्र को वापस पशुपालन एवं डेयरी विभाग के कार्यालय में जमा कर देना है।
  • तो दोस्तों इस तरह से आप राष्ट्रीय गोकुल मिशन में आवेदन कर सकते हैं।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में गोकुल ग्राम | Rashtriya Gokul Mission Mein Gokul Gram

  • राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत ग्रामीण इलाकों में पशु केंद्रों को बनाया जाएगा। इन्हीं पसु केंद्रों को गोकुल ग्राम का नाम दिया गया है।
  • एक गोकुल ग्राम में लगभग 1000 से अधिक पशुओं को ठहराने की व्यवस्था की जाएगी। इन सभी पशुओं को पोषण देने के लिए एवं अन्य सभी महत्वपूर्ण चीजों को पूरा करने के लिए वह चारे और इत्यादि चीजों की उपलब्धता रहेगी।
  • गोकुल ग्राम में रहने वाले सभी पशुओं से दूध लिया जाएगा और इनके गोबर से जैविक खाद बनाने का काम किया जाएगा।
  • गोकुल ग्राम में एक पशु चिकित्सालय एवं एक कृत्रिम गर्भाधान केंद्र की व्यवस्था भी की जाएगी। जिससे किसी कारण बस अगर किसी पशु की तबीयत खराब होती है तो उसे पशु चिकित्सालय में दिखाकर सही कराया जा सके।

गोकुल मिशन में पुरस्कार का प्रावधान | Provision of award in Gokul Mission

  • राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना को लोकप्रियता देने के लिए पुरस्कारों को भी बांटा जाएगा।
  • यह पुरस्कार किसानों का मनोबल और आकर्षण बढ़ाएंगे। इसके अलावा डेयरी विभाग के माध्यम से भी पुरस्कार दिए जायेंगे।
  • राष्ट्रीय गोकुल मिशन में प्रथम एवं द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले व्यक्ति को गोकुल रतन का पुरस्कार दिया जाएगा और तीसरे स्थान को प्राप्त करने वाले व्यक्ति को कामधेनु पुरस्कार मिलेगा।
  • गौशालाओं एवं सर्वोत्तम प्रबंधित ब्रीड सोसाइटी को कामधेनु पुरस्कार दिया जाएगा।

Rashtriya Gokul Mission Related FAQ

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना की शुरुआत कब हुई है?

इस योजना को 28 जुलाई 2014 को शुरू किया गया है।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन 2023 की आवेदन प्रक्रिया क्या है?

आप पशुपालन और डेयरी विभाग में जाकर के इस योजना से संबंधित आवेदन पत्र प्राप्त कर वहां पर जमा कर सकते हैं।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना क्या है?

इस योजना के माध्यम से स्वदेशी गायों को संरक्षित किया जाएगा एवं वैज्ञानिक तरीके से ज्यादा से ज्यादा मात्रा में दूध का उत्पादन किया जाएगा।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना में कौन लोग आवेदन कर सकते हैं?

इस योजना में आवेदन करने के लिए नागरिक की उम्र 18 साल से अधिक होनी चाहिए और वह भारत का निवासी होना चाहिए।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में गोकुल ग्राम क्या है?

राष्ट्रीय गोकुल मिशन में समन्वित पशु केंद्रों को बनाया जाएगा। जिसे गोकुल ग्राम का नाम दिया गया है। इन गोकुल ग्रामों में 1000 से ज्यादा पशुओं को रखने का इंतजाम किया जाएगा।

आज हमने आप सभी को अपनी इस ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से सरकार के द्वारा पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई राष्ट्रीय गोकुल मिशन में ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें? इसके संबंध में बताया है। हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा इस आर्टिकल में बताई गई जानकारी पसंद आई होगी। यदि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो कृपया करके इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें

Mukesh Chandra

मुकेश चंद्रा ने बीटेक आईटी से 2020 में इंजीनियरिंग की है। वह पिछले 5 साल से सामाजिक.इन पर मुख्य एडिटर के रूप में कार्यरत हैं, उन्हें लेखन के क्षेत्र में 5 वर्षों का अनुभव है। अपने अनुभव के अनुसार वह सामाजिक.इन पर प्रकाशित किये जानें वाले सभी लेखों का निरिक्षण और विषयों का विश्लेषण करने का कार्य करते है।

Leave a Comment