एकाउंटिंग और ऑडिटिंग में अपना करियर कैसे बनाएं?

यदि आप अकाउंटिंग फील्ड के अंतर्गत अपना बेहतरीन करियर बनाना चाहते हैं, तो इसके अंतर्गत आपको किसी संस्था के अंदर रोजाना होने वाले लेन देन का हिसाब रखना होता है और वहीं यदि आप ऑडिटिंग के अंतर्गत अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, तो इसके अंतर्गत आपको किसी भी संस्थान के अकाउंटिंग बुक्स की समीक्षा करनी आवश्यक तौर पर जरूरी होती है। यदि आप इसके बारे में जानना चाहते हैं, तो हमारे द्वारा आप सभी को लेख में Accounting and Auditing me apna career kaise banaye? इसके बारे में बताया गया है। 

अधिकतर कंपनियों के द्वारा अपने यहां ऑडिटिंग कि जब निकाल जाती है। लेकिन एकाउंटिंग के कार्य की जांच किसी अन्य व्यक्ति या संस्थान के द्वारा करवाई जाती है। इसे ही ऑडिटिंग के नाम से जाना जाता है, यदि आप अकाउंटिंग या ऑडिटिंग में अपना क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं, तो आपको इसकी जानकारी पता होनी चाहिए। इसीलिए हमने आप सभी को इस लेख के अंतर्गत Accounting or Auditing mein Career kaise banaye? से संबंधित संपूर्ण जानकारी विस्तार पूर्वक दी है। इससे संबंधित अधिक जानकारी के लिए इस लेख को अंत तक पढ़े। 

Contents show

सरकारी क्षेत्र में अवसर? (Opportunities in Government Sector?)

इसके अंतर्गत सरकारी क्षेत्र में जॉब पाने के कई सारे अवसर होते हैं। इन अवसर की जानकारी आपको पता होनी चाहिए। जिससे कि आप भी उन अवसरों का फायदा उठाने में सक्षम हो पाएं। इसलिए हमने आप सभी को इसकी जानकारी निम्न प्रकार से दी है। आप लोगों को यह जानकारी अवश्य ही पढ़नी चाहिए:-

एकाउंटिंग और ऑडिटिंग में अपना करियर कैसे बनाएं

प्रत्येक वर्ष इसके लिए कर्मचारी चयन आयोग के माध्यम से (एसएससी) नोटिफिकेशन जारी किया जाता है। इसके द्वारा आप सरकारी नौकरी प्राप्त करने में सक्षम हो सकते हैं। यदि आप एसएससी की परीक्षा देते हैं और यदि आपका उसे परीक्षा में चैन हो जाता है, तो आप सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों, आयकर या सीमा शुल्क कार्यालय, सार्वजनिक क्षेत्र की किसी भी प्रकार की इकाई जैसे की बिजली बोर्ड आदि में आप ज्वाइन करने में सक्षम हो सकते हैं।

शैक्षणिक योग्यता? (Educational qualification?)

यदि आप इसके अंतर्गत जॉब करने के इच्छुक है, तो आपको सर्वप्रथम 12वीं कक्षा अच्छे अंको से उत्तीर्ण करनी होगी। इसके बाद आप बैचलर या डिप्लोमा कोर्स में भी डिग्री प्राप्त करने हेतु सक्षम हो सकते हैं।

प्रवेश प्रक्रिया (entrance examinations?)

हम आपको बता दें कि कुछ विश्वविद्यालय ऐसे होते हैं। जो की 12वीं की कक्षा के नंबर देखकर मेरिट लिस्ट बना लेते हैं और आपका एडमिशन ले लेते हैं। परंतु कुछ विश्वविद्यालय ऐसे होते हैं, जो की प्रवेश परीक्षा ग्रुप डिस्कशन व साक्षात्कार के बाद ही आपका एडमिशन लेते हैं।

ऑडिटिंग के प्रसिद्ध सर्टिफिकेशन, भारत (Famous Certificate for Audition, india)

हम आपको बता दें कि आप 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद आप चार्टर्ड अकाउंटेंट बन सकते हैं लेकिन चार्टर्ड अकाउंटेंट बनने के लिए आपको कॉमन प्रोफिशिएंसी टेस्ट (CPT) देने में सक्षम हो सकते हैं। साथ ही साथ यह परीक्षा वर्ष के अंदर दो बार आयोजित होती है। सबसे पहले यह जून के महीने में आयोजित की जाती है और दूसरी बार यह दिसंबर के महीने में आयोजित होती है।

आईसीएआई सर्टिफिकेट, भारत (ICAI certificate, india)

यदि आप लोग 12वीं कक्षा करने के बाद चार्टर्ड अकाउंटेंट बनने के इच्छुक हैं, तो आप लोग कॉमन प्रोफिशिएंसी टेस्ट दे सकते हैं। इस परीक्षा को साल में दो बार आयोजित कराया जाता है। यदि आप जानना चाहते हैं कि इस टेस्ट को कौन-कौन से महीने में आयोजित कराया जाता हैं, तो हम आपको बता दें कि पहली बार इस टेस्ट को जून के महीने में तथा दूसरी बार दिसंबर में आयोजित किया जाता है। जिन छात्रों ने कॉमर्स से स्नातक उत्तरण की है। उन्हें इस परीक्षा में आयोजित होने के लिए 55 फ़ीसदी मार्क्स तथा जिन छात्रों ने आर्ट विषय से ग्रेजुएशन किया है, उन्हें इस परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए 60 फ़ीसदी मार्क्स की जरूरत होती है।

सर्टिफाइड इंटरनल ऑडिटर, सीआईए (Certified Internal Auditor, CIA)

जो भी व्यक्ति वैश्विक तौर पर ऑडिटर के रूप में कार्य करना चाहता है, तो उस व्यक्ति के पास सर्टिफाइड इंटरनल ऑडिटर सर्टिफिकेट का होना अनिवार्य है। यह सर्टिफिकेट इंस्टिट्यूट का इंटरनल ऑडिटर्स के द्वारा आयोजित कराया जाता है।

सर्टिफाइड इंटरनल ऑडिटर के लिए योग्यता? (Certified Internal Auditor Eligibility?)

जो भी व्यक्ति वैश्विक स्तर पर ऑडिटर बनना चाहता है, तो उसे सर्टिफाइड इंटरनल ऑडिटर सर्टिफिकेट को प्राप्त करना होगा। परंतु इसके लिए व्यक्ति के पास कुछ योग्यताओं का होना आवश्यक है। हमारे द्वारा सभी को यह संपूर्ण योग्यता निम्न प्रकार बताई जा रही हैं-

  • इसके लिए अभ्यार्थी के पास स्नातक की डिग्री होनी चाहिए।
  • अभ्यर्थी को 4 साल के स्नातक डिग्री कोर्स में इसी अवधि के अंतर्गत सभी विषयों में पास होना अनिवार्य है।
  • इसके साथ-साथ व्यक्ति को इंटरनल ऑडिट में 2 साल का अनुभव प्राप्त करना भी अनिवार्य है।
  • इसके अलावा यदि अभ्यार्थी M.Com उत्तरीण है, तो ऐसी स्थिति में केवल 1 साल का इंटरनल ऑडिट अनुभव सुनिश्चित किया गया है।
  • यदि कोई भी व्यक्ति ऊपर देगा योग्यताओं को पूरा करता है, तो वह सर्टिफिकेट को प्राप्त करने में सक्षम हो सकेगा।

ऑडिटिंग के क्षेत्र में जॉब के अवसर? (Job opportunities in the field of auditing?)

ऑडिटिंग एक काफी बेहतरीन विकल्प है, यदि कोई व्यक्ति इस क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहता है, तो उसके पास विभिन्न प्रकार के जॉब के अवसर उपलब्ध होते हैं। यदि भारत की बात की जाए, तो भारत के अंतर्गत आपके पास ऑडिटिंग के क्षेत्र में जॉब के अवसर इंटरनल ऑडिटर, एक्सटर्नल ऑडिटर, गवर्नमेंट ऑडिटर और फोरेंसिक ऑडिटर के रूप में उपस्थित होते हैं।

यदि बात की जाए, की यह अवसर आपको कहां-कहां प्राप्त हो सकते हैं, तो हम आपको बता दें इंश्योरेंस, मैन्युफैक्चरिंग कंपनी, बैंकिंग सेक्टर, कॉरपोरेट सेक्टर, पब्लिक सेक्टर और एनजीओ  इत्यादि में आसानी पूर्वक प्राप्त हो सकते हैं। इस प्रकार किसी व्यक्ति को ऑडिटिंग के क्षेत्र में नौकरी विभिन्न अवसर प्राप्त होते हैं।

अकाउंटेंसी के क्षेत्र में विभिन्न सर्टिफिकेट (Various certifications in the field of accountancy?)

जो व्यक्ति अकाउंटेंसी के क्षेत्र में सर्टिफिकेट प्राप्त करना चाहता है, उसे इससे संबंधित सभी सर्टिफिकेट के बारे में जानकारी प्राप्त होनी आवश्यक तौर पर जरूरी है। इसीलिए हमारे द्वारा आप सभी को निम्न प्रकार अकाउंटेंसी के क्षेत्र में सर्टिफिकेट की विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई है-

एसोसिएशन ऑफ चार्टर्ड सर्टिफिकेट अकाउंट्स (Association of chartered certificate accounts)

यदि कोई व्यक्ति अकाउंटेंसी के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहता है, तो उस क्षेत्र में प्रवेश करने हेतु संगठन का चार्टर्ड सर्टिफिकेट को पासपोर्ट के रूप में मान्यता प्रदान की जाती है। इस सर्टिफिकेट के माध्यम से इस क्षेत्र में कोई भी व्यक्ति आसानी से प्रवेश प्राप्त कर सकता है और अकाउंटेंसी के साथ-साथ फाइनेंशियल मैनेजर के रूप में कार्यरत हो सकते हैं। यही कारण है कि एसोसिएशन ऑफ चार्टेड सर्टिफिकेट अकाउंट्स एक बहुत आवश्यक दस्तावेज है।

एसीसीए के लिए योग्यता? (Eligibility for ACCA?)

एसीसीए प्राप्त करने के लिए उम्मीदवारों के पास योग्यता का होना जरूरी है। यदि आप इन योग्यताओं की जानकारी नहीं रखते हैं, तो हमारे द्वारा आप सभी को निम्न प्रकार एसीसीए के लिए योग्यता की जानकारी विस्तार पूर्वक दी गई है-

  • इसमें प्रवेश प्राप्त करने हेतु व्यक्ति के पास 12वीं की मार्कशीट होनी चाहिए।
  • इस सर्टिफिकेट की अवधि 3 वर्ष की है।
  • जो व्यक्ति कॉमर्स स्ट्रीम से उत्तरीण है, उसके लिए इसकी अवधि दो या ढाई वर्ष की होगी।
  • इस सर्टिफिकेट के माध्यम से कोई भी व्यक्ति मैनेजमेंट अकाउंटिंग एग्जीक्यूटिव, क्रेडिट असिस्टेंट, असिस्टेंट फ्यूचर ट्रेड्स, अकाउंट एग्जीक्यूटिव और असिस्टेंट टैक्स ऑफिसर के पद पर कार्यरत हो सकता है।

सर्टिफाइड मैनेजमेंट अकाउंटेंट (Certified Management Accountant)

सर्टिफाइड मैनेजमेंट अकाउंट सर्टिफिकेट को विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त है। जो भी व्यक्ति इस सर्टिफिकेट को करता है, वह मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी प्राप्त करने हेतु सक्षम हो सकता है। इस सर्टिफिकेट के माध्यम से आप किसी भी मल्टीनेशनल कंपनी के वित्तीय रिकॉर्ड को चेक करने में सक्षम होंगे। 

सर्टिफाइड मैनेजमेंट अकाउंटेंट सर्टिफिकेट को इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट अकाउंटेंट के द्वारा सर्टिफाइड मैनेजमेंट अकाउंटेंट के लिए जारी किया जाता है। इस सर्टिफिकेट की अवधि 6 माह की होती है। यदि भारत की बात की जाए, तो भारत के लिए इस सर्टिफिकेट को इंस्टिट्यूट ऑफ़ कॉस्ट अकाउंटेट्स ऑफ इंडिया के द्वारा आयोजित किया जाता है। जिसकी अवधि 3 से 4 वर्ष की होती है।

शैक्षणिक योग्यता? (Educational eligibility?)

यदि कोई व्यक्ति इस सर्टिफिकेट को प्राप्त करना चाहता है, तो इसके लिए उसके पास स्नातक की डिग्री के साथ-साथ अतिरिक्त कोर्स की डिग्री के रूप में फाइनेंस और अकाउंटिंग के अंतर्गत डिग्री होनी आवश्यक है साथ ही साथ इसके लिए 2 वर्ष का अनुभव भी होना अनिवार्य है।

प्राप्त पद (Position received)

इस सर्टिफिकेट को प्राप्त करने के बाद उम्मीदवारों को विभिन्न प्रकार के पद जैसे:- एकाउंटिंग मैनेजर, फाइनेंस मैनेजर, इन्वेस्टमेंट मैनेजर, बजटिंग मैनेजर, कास्टिंग मैनेजर, फाइनेंशियल मैनेजर और इंटरनल ऑडिटर आदि प्राप्त हो सकते हैं।

सर्टिफिकेट पब्लिक अकाउंट्स (Certificate public accountant)

यदि इस सर्टिफिकेट की बात की जाए, तो इसे अंतरराष्ट्रीय मान्यता प्राप्त है। इस कोर्स को वह विद्यार्थी कर सकता है, जो सीए या समक्षक कोर्स, M.Com या एमबीए कोर्स कर रखा हो। इस कोर्स के अंतर्गत स्नातक और परास्नातक के आधार पर ही क्रेडिट आवर्स को निर्धारित किया जाता है। ज्यादातर राज्य की बात की जाए, तो बीकॉम के आधार को स्वीकृति नहीं प्रदान की गई है। इस सर्टिफिकेट कोर्स की अवधि 1 वर्ष 6 महीने की होती है। अभ्यार्थी को इसकी सभी परीक्षाएं उत्तरीण करना अनिवार्य है।

सॉफ्टवेयर का ज्ञान (Knowledge of software)

यदि कोई विद्यार्थी छोटी कंपनी में कार्य करना चाहता है, तो उसे कंपनी में कार्य करने हेतु टैली, ईआरपी, क्विकबुक जैसे सॉफ्टवेयर का उपयोग करना आवश्यक तौर पर आना चाहिए। इसके अलावा बड़ी कंपनियों में बिजी, जोहोबुक्स और मार्ग जैसे सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है। इसीलिए यदि अभ्यार्थी को इन सॉफ्टवेयर का अच्छे से ज्ञान होता है, तो उसे आवश्यक तौर पर एक अच्छी मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब प्राप्त हो सकती है।

वेतन (Salary)

यदि कोई व्यक्ति ऑडिटिंग और अकाउंटिंग के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहता है, तो उसे जॉब के विभिन्न अवसर प्राप्त होते हैं। यदि भारत में एक ऑडिटर के वेतन की बात की जाए, तो वह लगभग तीन से चार लाख रुपए प्रति वर्ष होता है। वहीं यदि अकाउंटिंग की बात की जाए, तो उसका वेतन लगभग दो से ₹300000 प्रतिवर्ष होता है। यह वेतन प्रत्येक पद पर अनुभव के आधार पर बढ़ता जाता है।

एकाउंटिंग और ऑडिटिंग में करियर कैसे बनाएं? इससे संबंधित कुछ प्रश्न व उत्तर (FAQs):-

Q:- 1. ऑडिटिंग क्या होती है?

Ans:- 1. ऑडिटिंग के क्षेत्र में आप सभी को किसी भी संस्था की अकाउंटिंग बुक्स की समीक्षा करनी होती है।

Q:- 2. एकाउंटिंग क्या है

Ans:- 2. दोस्तों, अकाउंटिंग फील्ड के अंतर्गत आप लोगों को किसी संस्था के अंतर्गत रोजाना होने वाला लेनदेन का हिसाब रखना होता है।

Q:- 3. एकाउंटिंग और ऑडिटिंग के क्षेत्र में भविष्य कैसे बनाएं?

Ans:- 3. यदि कोई व्यक्ति अकाउंटिंग या ऑडिटिंग में अपना भविष्य बनाना चाहता है, तो वह हमारे इस लेख को अंत तक जरूर पड़े क्योंकि हमारे द्वारा आप सभी को इस लेख के अंतर्गत अकाउंटिंग और ऑडिटिंग के क्षेत्र में भविष्य कैसे बनाएं? इससे संबंधित संपूर्ण जानकारी विस्तार पूर्वक की गई है।

Q:- 4. एकाउंटिंग के क्षेत्र में कितना वेतन प्राप्त होता है?

Ans:- 4. एकाउंटिंग के क्षेत्र में जो भी व्यक्ति अपना भविष्य बनता है उसे क्षेत्र में काफी अच्छा वेतन प्राप्त होता है एकाउंटिंग के क्षेत्र में व्यक्ति ₹300000 से लेकर ₹5 लाख तक चलना कमाने में सबसे नहीं सकता है।

Q:- 5. ऑडिटिंग के क्षेत्र में कितना वेतन प्राप्त होता है?

Ans:- 5. यदि कोई व्यक्ति ऑडिटिंग के क्षेत्र में अपना भविष्य बनाता है, तो उसे इस क्षेत्र में दो, ढाई लाख रुपए से लेकर ₹3 लाख तक प्रति वर्ष वेतन प्राप्त होता है। इसके साथ-साथ जैसे-जैसे अनुभव बढ़ता जाता है, वैसे ही क्षेत्र में वेतन भी बढ़ता जाता है.

निष्कर्स (Conclusion):- दोस्तों, आज आप सभी को हमारे द्वारा इस लेख के अंतर्गत अकाउंटिंग और ऑडिटिंग में अपना करियर कैसे बनाएं? इससे संबंधित जानकारी विस्तार पूर्वक दी गई है। ऐसे बहुत से व्यक्ति होते हैं। जो  इसके अंतर्गत अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, परंतु उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं होती है। इसलिए हमने आप सभी को यहां इस लेख के अंतर्गत Accounting or Auditing mein Career kaise banaye? इससे संबंधित संपूर्ण जानकारी विस्तार पूर्वक बताई गई है। उम्मीद है कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आप लोगों को अवश्य ही पसंद आई होगी यदि आप लोगों को हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई है, तो कमेंट सेक्शन में बताएं साथ ही साथ इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करना।

रिया आर्या

मैं शाहजहाँपुर उत्तर प्रदेश की रहने वाली हूँ। शुरू से ही मुझे डायरी लिखने में रुचि रही है। इसी रुचि को अपना प्रोफेशन बनाते हुए मैं पिछले 3 साल से ब्लॉग के ज़रिए लोगों को करियर संबधी जानकारी प्रदान कर रही हूँ।

Leave a Comment