Motivational stories in Hindi – आप कभी भी किसी के भगवान बन सकते हैं।

Motivational stories in hindi

motivational stories in hindi – आप कभी भी किसी के भगवान बन सकते हैं।

pexels-photo-235727-8327074
  • यदि हम हज़ारों की दौलत भी गवां दें व हमारा जीवन बलिदान हो जाए तो हमें मुस्कुराते रहना चाहिए और ईश्वर व सत्य में विश्वास रखकर प्रसन्न रहना चाहिए। 

घर जाने की जल्दी मे हम भूल जाते हैं कि कुछ लोगों के तो घर भी नहीं है।


यदि आप सच मे प्रेरित होना चाहते हैं तो ये motivational stories in hindi आपके लिए है, इस कहानी को पूरा पढ़े आप जरुर प्रेरित होंगे।

शीर्षक:आप कभी भी किसी के भगवान बन सकते हैं। 

एक बार की बात है एक बहुत ही अमीर इंसान अपने ऑफिस से अपनी महंगी गाड़ी को चलाते हुए थोड़ा आगे बढ़ा ही था कि उसने देखा कि गाड़ियों के बीच से एक बच्चा दौड़ता हुआ निकल रहा है।

परेशानीयों का डट कर मुकाबला करो।

उस बच्चे को वह देख ही रहा था कि एक ईंट आके जोड़ से उसकी गाड़ी पर पड़ती है, उसे समझ नहीं आ रहा था कि ये छोटा सा बच्चा मेरी गाड़ी पर ईंट क्यू फेक रहा है।

वह गाड़ी को रोकके और उतरकर तुरंत उस बच्चे की ओर भागता है वह बच्चा यह देखकर गाड़ियों के पीछे छुप जाता है।

उस आदमी ने उस बच्चे को बाहर निकाला और पूछा कि तुम मेरी गाड़ी पर पत्थर क्यू मार रहे हो?

उस बच्चे ने बड़ी विनम्रता से कहा कि मुझे पता है कि आपको मुझ पर बहुत गुस्सा आ रहा है,आप मुझे पीटना चाहते हैं मारना चाहते हैं, लेकिन मैं क्या करूं कोई गाड़ी रोक ही नहीं रहा है तो मुझे ईंट फ़ेकके मारना पड़ा।

जानकर भी अनजान बने रहते है हम।



मै इतनी देर से हेल्प हेल्प चीला रहा हूँ मेरी कोई आवाज ही नहीं सुन रहा है, कोई मेरे तरफ ध्यान ही नहीं दे रहा है।
उस व्यक्ति ने पूछा कि बोलो बात क्या है?

तो उस छोटे से बच्चे ने कहा कि मै अपने भाई के साथ आ रहा था तभी एक बाइक वाले ने उसे टक्कर मार दी, उसका खून बह रहा है।

वो इतना भारी है कि मै उसे खिचके सड़क पर भी नहीं ला पा रहा हूँ, जैसे तैसे मैंने उसे सड़क के किनारे किया है, मैं लोगों को रोक रहा हूँ ताकि वो मेरी मदद करे लेकिन वो लोग रुक नहीं रहे हैं, मेरी मदद किजिये।

कोई मेरी बात सुन ही नहीं रहा इसीलिए मुझे ईंट फेक के मारना पड़ा।

इसे पढ़ना ना भूले।


ये जो व्यक्ति था जिसको घर जाने के लिए देरी हो रही थी वह उस बच्चे के भाई को देखने गया उसके साथ। उस बच्चे ने और उस व्यक्ति ने दोनों ने मदद की और उसको कार मे बैठाया।

खून के धब्बों से उसकी कार खराब हो गयी फिर भी वह उसे हॉस्पिटल ले गए।

उस बच्चे के भाई को emergency ward मे रखा गया।
जब डॉक्टर ने बोला कि ये बच्चा खतरे से बाहर है तब जाके ये व्यक्ति अपने घर गए।
pexels-photo-1321728-1409224
इस बार स्पीड बहुत धीरे थी और समझ नहीं पा रहे थे कि हुआ क्या है उनके साथ।

ये कहानी आपके जीवन को बदल देगी।



घर गए गाड़ी लगायी और उस टूटे हुए शीशे पर नजर गयी जिसपर पत्थर आके लगा था पूरा शीशा जो है वो टूट चुका था लेकिन इन्होने सोचा कि मै इसे बनाऊंगा नहीं क्युकी यह टूटा हुआ शीशा मुझे बार बार जिन्दगी मे बताता रहेगा कि

जिन्दगी में इतने भी कठोर मत हो जाओ की जिन्दगी को ईंट मारके याद दिलानी पड़े की कोई आपकी मदद के लिए इन्तेजार कर रहा है।

motivational stories in hindi का निष्कर्ष :-

जिन्दगी आपसे बात करना चाहती है, आपके कानों मे कुछ बोलती है, लेकिन हम कई बार ध्यान नहीं देते।
फिर जिन्दगी मे वो ईंट आने लगती है।
इसीलिये बोलता हूँ मदद करते चलिए आपको भी नहीं पता कब भगवान आपको किसी का भगवान बनाके भेज दे।
एक दूसरे की मदद करते चलिए, आगे बढ़ते चलिए।


ये motivational stories in hindi आपको कैसी लगी हमें बताए ताकि हम आगे भी ऐसी कहानी लिखते रहे, और इसे शेयर करना ना भूले। 
धन्यवाद।

Tags:motivational stories in hindi,moral stories in hindi, motivational stories in hindi for success, motivational stories in hindi with moral. 


अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।