हर समय देश में चर्चा का विषय बनी रहने वाली जेड प्लस सिक्योरिटी एक नंबर वन सिक्योरिटी है। बहुत से लोग जेड प्लस सिक्योरिटी का नाम पहली बार सुन रहे होंगे।

साथ ही साथ उनके मन में इससे संबंधित बहुत सारे सवाल उठ रहे होंगे। जैसे:-  जेड प्लस सिक्योरिटी किसे दी जाती है? जेड प्लस सिक्योरिटी क्या होती है?

भारत में बहुत से मशहूर लोगों के द्वारा जेड प्लस सिक्योरिटी की मांग की जाती है। वह लोग सिक्योरिटी की मांग तब करते हैं। जब उन्हें अपने ऊपर किसी भी प्रकार के हमले का खतरा नजर आता है

इसीलिए यह सिक्योरिटी आमतौर पर राजनीतिक नेताओं जिन पर जान का खतरा होता है। उनको दी जाती है। साथ ही साथ हमारे देश में रह रहे वीआईपी लोगों को भी यह सुविधा प्रदान की जाती है।

जेड प्लस सिक्योरिटी एक तरीके का सुरक्षा बल होता है। जो बहुत ही प्रसिद्ध व्यक्तियों और नेताओं को प्रदान की जाती है। यह नंबर वन सिक्योरिटी में से एक है।

जेड प्लस सिक्योरिटी केबल 15 लोगों को दी जाती है। इस सिक्योरिटी के हकदार प्रधानमंत्री उपराष्ट्रपति पूर्व प्रधानमंत्री राष्ट्रपति आदि सभी अधिकारी होते हैं।

सुरक्षा हेतु जेड प्लस सिक्योरिटी का गठन किया गया था। इसका गठन 8 अप्रैल 1985 में हुआ था। जो व्यक्तियों की सुरक्षा हेतु किया गया था।

इस देश में लगभग 450 लोगों को सिक्योरिटी दी गई है।  परंतु जेड प्लस सिक्योरिटी केवल 15 लोगों को ही दी जाती है। इस प्रकार जेड प्लस सिक्योरिटी अन्य सिक्योरिटी से भिन्न है।

जेड प्लस सिक्योरिटी क्या होती है? अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें?