जब कोई व्यक्ति को विकलांग या दिव्यांग होता है तो उसे अपने जीवन को यापन करने के लिए बहुत से संघर्षों के सामना करना पड़ता है।

क्योंकि विकलांग होने के करना उनके पास आय के साधन उपलब्ध नहीं होते है और उन्हें अधिकतर कामों को करने में अन्य लोगों की आवश्यकता होती है।

आइये जानते है कि इस योजना के शुरू करने के पीछे क्या – क्या उद्देश्य है और इसके तहत किन – किन कदमों को उठाया जाएगा। जो कि निम्न प्रकार है –

विकलांग सशक्तिकरण योजना के अंतर्गत विकलांग नागरिकों को भाभी के फायदे दरों पर लोन उपलब्ध कराया जाएगा जिससे वह अपना स्वरोजगार शुरू करने में सक्षम होता हों और जीवन सही प्रकार यापन कर सकें।

प्रदेश के विकलांग लोगों को सही प्रकार शिक्षा मिल सकें और शिक्षा प्राप्त कर रोजगार प्राप्त करने में सक्षम हों। इसके लिए बिहार सरकार द्वारा विशेष रूप से विकलांगों के लिए विद्यालय स्थापित करने की योजना को तैयार किया गया है

हर व्यक्ति की अपनी जरूरत होती है और उसी प्रकार विकलांग व्यक्तियों की भी अपनी बहुत सी जरूरत होती है जिन को पूरा करने के लिए बिहार सरकार द्वारा बिहार विकलांग सशक्तिकरण योजना के अंतर्गत दैनिक खर्च की व्यवस्था भी की गई है जिससे वे अपनी जरूरतों को पूरा करने में सक्षम होंगे।

इस योजना के अंतर्गत दी जाने वाली सुविधाओं का लाभ लेने के लिए आप ऑनलाइन या ऑफलाइन माध्यम से आवेदन करके प्राप्त कर सकें।

इस योजना का लाभ लेने के लिए विकलांग व्यक्ति के पास कम से कम कितने प्रतिशत विकलांगता का प्रमाण पत्र होना चाहिए?

बिहार विकलांग सशक्तिकरण योजना अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें?