ग्राम सभा और ग्राम पंचायत में कई बार भारतीय लोग बहुत ही भ्रम की स्थिति में रहते हैं।

हम आपको बता दें कि ग्राम सभा और ग्राम पंचायत दोनों अलग-अलग होते हैं। साथ ही ग्राम सभा और ग्राम पंचायत एक-दूसरे के बिल्कुल पूरक होते हैं।

पंचायती राज की मूलभूत इकाई के रूप में ग्रामसभा को जाना जाता है। तथा ग्राम पंचायत की बात की जाए तो यह ग्राम स्तर पर कार्यपालिका के रूप में कार्य करती है।

ग्राम पंचायत में सदस्यों की संख्या निश्चित होती है। जिन्हें प्रत्येक 5 वर्ष बाद ग्राम प्रधान चुनाव के माध्यम से चुना जाता है।

यदि आप गांव में रहते हैं। तो आपको ग्राम सभा और ग्राम पंचायत संबंधित संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए।

ग्राम पंचायत के द्वारा पारित बजट पर नियंत्रण रखने का कार्य ग्राम सभा का ही होता है।

ग्राम सभा की बैठक में चर्चा होने पर पारदर्शिता और जवाबदेही तय करती है।

ग्राम सभा का सबसे बड़ा महत्वपूर्ण कार्य गांव के सभी वर्गों में विषमता को समाप्त कर समता का भाव स्थापित करना होता है।

ग्राम सभा और ग्राम पंचायत किसे कहते हैं? इससे जुडी ज्यादा जानकारी के लिए नीचे क्लिक करे।