उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 30 मई 2022 को मुख्यमंत्री बाल सेवा की शुरुआत की है।

इस योजना के अंतर्गत इस कोरोनावायरस के संक्रमण के कारण जिन परिवार में बच्चों के माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है

और बच्चे अनाथ हो गए उनके लिए प्रदेश सरकार की तरफ से उनकी पढ़ाई और पालन पोषण के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ राज्य के कोरोना वायरस में अनाथ सभी बच्चो को मिल सके इसलिए प्रदेश सरकार ने इसकी जिम्मेदारी जिला स्तर विभागों को सौंप दी हैं।

इन विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक राज्य में लगभग 197 ऐसे बच्चे की पहचान सरकारी विभाग के द्वारा की गई

जिनके माता-पिता दोनों की मृत्यु हो गई है तथा 1799 ऐसे बच्चों की पहचान की गई जिनके माता-पिता में से किसी एक की मृत्यु हो गई है।

UP CM Bal Seva yojana के अंतर्गत प्रदेश सरकार इन परिवार के बच्चे के लिए राजकीय वाल ग्रह आवासीय सुविधा और पढ़ाई का पूरा ख़र्चा सरकार की तरफ से उठाया जाएगा।

इसके साथ ही प्रदेश सरकार पढ़ाई के साथ – साथ पालन- पोषण और शादी तक का सारा खर्च वहन करेंगी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना काला प्रदेश के कोरोनावायरस से संक्रमण के कारण हुए अनाथ बच्चों को मिल सके इसलिए प्रदेश सरकार ने जिला स्तर पर इस योजना का लाभ देने के लिए विभागों को जिम्मेदारी सौंपी है।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की अधिक जानकारी के लिये नीचे लिंक पर क्लिक करें?