अन्य प्रदेशों की तरह छत्तीसगढ़ प्रदेश में निवास करने बहुत से परिवार कृषि से संबंध रखते है, लेकिन बहुत से परिवार ऐसे परिवार जो कृषि मजदूरी करके अपना जीवन यापन कर रहे है और वास्तविक में उनके कृषि योग्य भूमि नहीं है

जिस वजह से उन ग्रामीण भूमिहीन मजदूरों पर काफी समस्या का सामना करना पड़ता है, क्योंकि कृषि मजदूरों को हर समय काम नहीं मिल पाता है।

जिससे प्रदेश के भूमिहीन कृषि मजदूर परिवारों की आर्थिक स्थिती में सुधार आयेगा। तो अगर आप भी कृषि मजदूरी करते है और वास्तव में आपके पास कृषि योग्य भूमि नहीं है तो इस योजना के अंतर्गत पात्र हो सकते है

और इससे मिलने वाली वार्षिक सहायता राशि को प्राप्त कर सकते है। जिससे सम्बंधित सभी जरूरी जानकारीयों को हमारे द्वारा नीचे लेख में विस्तार से साझा किया गया है।

राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर योजना की शुरुआत छत्तीसगढ़ प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी द्वारा 31 जुलाई 2022 को प्रदेश के भूमिहीन कृषि मजदूर परिवारों के साथ न्याय करते हुए और उनके जीवन स्तर में सुधार लाने के लिए की थी।

राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर योजना छत्तीसगढ़ प्रदेश सरकार द्वारा भूमिहीन मजदूरों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए शुरू की गई महत्वकांक्षी योजना है।

इस योजना से प्रदेश के लगभग कितने परिवारों को लाभान्वित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है?

इस योजना के माध्यम से प्रदेश के लगभग 12 लाख परिवार को लाभान्वित किया जायेगा। जिसके लिए 100 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है।

राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना  अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें?