(रजिस्ट्रेशन) मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 | लाभ , पात्रता और उद्देश्य

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 :- कोरोना वायरस जैसी खतरनाक संक्रमण बीमारी से कोई भी व्यक्ति अनजान नहीं है। क्योंकि यह एक ऐसी बीमारी है जिसमे एक नही बल्कि दुनिया भर के कई परिवार अपने परिजनों को खो चुके हैं अभी भी यह कोरोना वायरस जैसी संक्रमित बीमारी रुकने का नाम नहीं ले रही है। इस वायरस से निपटने के लिए भारत सरकार और सभी राज्य सरकारें प्रतिदिन नई-नई चुनौतियों का सामना कर रही है। और इन चुनौतियों से निपटने के लिए निरंतर कार्य कर रहे हैं ताकि इस वायरस को देश से खत्म किया जा सके।

सभी जानते है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से देश भर में कई परिवार के लोग अपनी जान गवा चुके है। परिवार में परिजनो के गुजरने से अन्य सदस्यों का काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है जैसे कि जिस परिवार के किसी बच्चे के माता – पिता की मृत्यु इस कोरोना वायरस के कारण हो चुकी है तो उनका आगे की आजीविका कैसे चलेगी यह परिवार के अन्य सदस्यों के लिए परेशानी का विषय बन चुका हैं।

लेकिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जो बच्चे इस कोरोना काल मे अपने माता-पिता को खो चुके हैं। उनके लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना कि शुरुआती है जिसके अंतर्गत इन अनाथ बच्चों को इनकी आजीविका चलाने के लिए आर्थिक सहायता के साथ-साथ अन्य कई प्रकार की योजना सरकार की तरफ से फ्री प्रदान की जाएंगी। जिसके बारे में आज हम आपको पूरी जानकारी इस आर्टिकल के माध्यम से देने जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना क्या हैं? | What Is UP CM Bal Seva yojana

(रजिस्ट्रेशन) मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 लाभ , पात्रता और उद्देश्य

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 30 मई 2021 को मुख्यमंत्री बाल सेवा की शुरुआत की है। इस योजना के अंतर्गत इस कोरोनावायरस के संक्रमण के कारण जिन परिवार में बच्चों के माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है और बच्चे अनाथ हो गए उनके लिए प्रदेश सरकार की तरफ से उनकी पढ़ाई और पालन पोषण के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ राज्य के कोरोना वायरस में अनाथ सभी बच्चो को मिल सके इसलिए प्रदेश सरकार ने इसकी जिम्मेदारी जिला स्तर विभागों को सौंप दी हैं। इन विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक राज्य में लगभग 197 ऐसे बच्चे की पहचान सरकारी विभाग के द्वारा की गई जिनके माता-पिता दोनों की मृत्यु हो गई है तथा 1799 ऐसे बच्चों की पहचान की गई जिनके माता-पिता में से किसी एक की मृत्यु हो गई है।

UP CM Bal Seva yojana के अंतर्गत प्रदेश सरकार इन परिवार के बच्चे के लिए राजकीय वाल ग्रह आवासीय सुविधा और पढ़ाई का पूरा ख़र्चा सरकार की तरफ से उठाया जाएगा। इसके साथ ही प्रदेश सरकार पढ़ाई के साथ – साथ पालन- पोषण और शादी तक का सारा खर्च वहन करेंगी।

पढ़ाई के लिए लैपटॉप/ टेबलेट का वितरण

इस योजना के अंतर्गत यूपी सरकार आर्थिक सहायता प्रदान करने के साथ-साथ इन बच्चों की पढ़ाई की तरफ पूरा ध्यान केंद्रित कर रही है। स्कूल में संक्रमण के कारण वर्तमान समय में अभी स्कूल कॉलेज सभी बंद है इसलिए छात्रों को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान की जा रही है। इसलिए प्रदेश के यह अनाथ हुए बच्चे ऑनलाइन शिक्षा से वंचित ना रहे इसलिए प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत फ्री लैपटॉप/टेबलेट भी वितरण करेंगी।

बालिकाओं की शिक्षा और शादी के लिए आर्थिक सहायता राशि

उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा संचालित राजकीय कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में इस योजना के अंतर्गत लड़कियों दाखिला कराया जाएगा और उनकी देखभाल पालन पोषण की पूरी जिम्मेदारी सुनिश्चित की जाएगी।

इसके साथ ही जैसा कि आज के समय में किसी भी बेटी की शादी करने के लिए परिवार के लिए काफी पैसे जुटाने होते हैं इसलिए प्रदेश सरकार ने UP CM Bal Seva yojana 2021 के अंतर्गत प्रदेश सरकार ने बालिकाओं की शादी का पूरा खर्च उठाने की भी ज़िम्मेदारी ली हैं। UP CM Bal Seva Scheme के अंतर्गत बेटी की शादी के लिए 101000 की धनराशि प्रदान करेगी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत 4000 रुपये की आर्थिक सहायता राशि?

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना योजना के अंतर्गत 10 साल या 10 साल से कम बच्चों के पालन पोषण के लिए सरकार अलग से ₹4000 की आर्थिक सहायता प्रदान करेगी। ताकि उनकी देखभाल अच्छे तरीके से हो सके इसके साथ ही जिन बच्चों के माता-पिता दोनों गुजर गए हैं उन्हें आवासीय सुविधा प्रदेश सरकार द्वारा प्रदान की जायेगी

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना से जुड़े महत्वपूर्ण बिंदु?

  • मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना प्रदेश के अनाथ हुए बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए 30 मई 2021 को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा शुरू किया गया हैं।
  • इस योजना के अंतर्गत उन बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी जिन बच्चों के माता-पिता की मृत्यु इस कोरोनावायरस जैसी गंभीर बीमारी से हुई है।
  • योजना के अंतर्गत बच्चों के पालन पोषण के लिए प्रदेश सरकार ₹4000 की आर्थिक सहायता भी प्रदान करेगी।
  • मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार बच्चों की पढ़ाई और उन्हें आवासी शिक्षा से लेकर उनकी शादी तक का सारा खर्च वहन करेगी।
  • लड़की के शादी के लिए प्रदेश सरकार इस योजना के अंतर्गत ₹1010000 की आर्थिक सहायता प्रदान करेगी।
  • परिवार में जो बच्चे पढ़ाई कर रहे थे उन्हें प्रदेश सरकार ऑनलाइन शिक्षा प्रदान करने के लिए टेबलेट या लैपटॉप भी प्रदान करेगी।
  • जिन बच्चों के माता-पिता दोनों को नशा कमर के कारण गुजर गए हैं उन्हें इस योजना के अंतर्गत आवास सुविधा भी विद्यालयों में प्रदान की जाएगी

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के लिए जरूरी पात्रता और ज़रूरी दस्तावेज | UP CM Bal Seva yojana

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ प्रदेश के बच्चों को कुछ पात्रता के अनुसार दिया जाएगा जो नीचे दी गई हैं –

  • बच्चे उत्तर प्रदेश के निवास करने वाले होने चाहिए।
  • जितना कल आप उन बच्चों को दिया जाएगा जिनके माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है।
  • आधार कार्ड
  • मृत्यु प्रमाण पत्र
  • बच्चे और माता पिता संबंध विवरण प्रमाण पत्र

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना में आवेदन कैसे करें? | UP CM Bal Seva yojana Online Registration

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना काला प्रदेश के कोरोनावायरस से संक्रमण के कारण हुए अनाथ बच्चों को मिल सके इसलिए प्रदेश सरकार ने जिला स्तर पर इस योजना का लाभ देने के लिए विभागों को जिम्मेदारी सौंपी है। जैसा कि हमने आपको की राज्य में लगभग 197 ऐसे बच्चे की पहचान सरकारी विभाग के द्वारा की गई जिनके माता-पिता दोनों की मृत्यु हो गई है। इसी गणना के अनुसार इस योजना का लाभ इन बच्चों तक पहुंचाया जाएगा बाकी सेना में अभी आवेदन करने की कोई घोषणा या कोई वेबसाइट लागू सरकार के द्वारा नहीं की गई है। इस योजना से जुड़ी अन्य कोई भी जानकारी सरकार की तरफ से अपडेट होती है तो वह हम आपको यहां पर उपलब्ध करा देंगे इसलिए आप हमारे साथ आगे तक बने रहे।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना से जुड़े प्रश्न उत्तर

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना क्या हैं?

उत्तर प्रदेश राज्य में कोरोनावायरस के चलते अनाथ हुए बच्चों के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना एक कल्याणकारी योजना है। जिसे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लागू किया है।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का क्या लाभ है?

इस योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार राज्य में कोरोनावायरस संक्रमित के कारण जो बच्चे अपने अभिभावकों को खो चुके हैं के पालन पोषण, शिक्षा से लेकर शादी तक का सारा खर्च उठायेगी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना को कब शुरू किया गया है?

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना को 23 मई 2021 योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा किया गया हैं।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत राशि दी जाएगी?

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार अनाथ हुए बच्चों के पालन-पोषण के लिए अलग से ₹4000 की आर्थिक सहायता प्रदान करेगी।

उत्पादन आधारित प्रोहत्सान योजना | ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | PLI Yojana Online Apply

क्या राज्य के सभी अनाथ बच्चों को इस योजना का लाभ मिलेगा?

जी नहीं मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ सिर्फ उन बच्चों को दिया जाएगा जिन बच्चों के माता-पिता की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुई है।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना में आवेदन कैसे करें?

इस योजना में आवेदन करने की अभी कोई प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है इसलिए इस योजना में आवेदन करने के लिए आपको इंतजार करना होगा। बाकी इस योजना से जुड़ी पूरी जानकारी आप ऊपर जान चुके हैं।

निष्कर्ष

कोरोनावायरस के चलते हुए अनाथ बच्चों की देखभाल के लिए शुरू की गई उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के बारे में आज हमने आपको इस आर्टिकल के जरिए पूरी जानकारी दी है। मैं उम्मीद करती हूं कि आपको इस आर्टिकल में इस योजना के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी अगर आपको इस योजना के बारे में और कोई जानकारी चाहिए तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।