Stories for kids in Hindi-जादू की घंटी।

Stories for kids in Hindi 

बच्चों के लिए कहानी बहुत जरूरी होती है, बचपन में बच्चों को अच्छी सीख देना चाहिए क्यूंकि वही सीख आगे जाकर भविष्य में बहुत काम देती है, इसलिए मैं आप लोगों के लिए एक अच्छी सीख पर आधारित stories for kids in Hindi लेकर आया हूँ।

Stories for kids in Hindi का शीर्षक-जादू की घंटी।

pexels-photo-754711-compressed-7493893

एक नदी के तट पर बहुत सुन्दर गांव था, वहाँ के लोग मेहनत मजदूरी करके अपना पेट पालते थे। इस गांव में एक रामू नाम का एक गरीब चरवाहा रहता था जो अपनी मधूर आवाज के लिए प्रसिद्ध था।


रामू रोज भेड़ बकरीयों को गाना सुनाते सुनाते जंगल मे चराने ले जाया करता था। वहां पर एक पहाड़ था, उस पहाड़ की चोटी पर एक विशाल पेड़ भी था, रामू इस पेड़ की छाँव में गाना गाता था और वहीं से सारी भेड़ बकरीयों पर नजर भी रखता था।



Stories for students in Hindi.

शाम होते ही रामू बकरीयों को लेकर वापस गाँव आ जाता और सभी भेड़ बकरियों को गाँव वालों को सौंप देता।दिन भर उसे कड़ी धूप मे बकरीयों को चराने के लिए एक सिक्का मिलता, ये सिक्का रामू अपने घर ले जाता।

रामू हर रोज बकरीयों को चराने ले जाता और मिले हुए पैसों से अपना घर चलाता। एक दिन रामू अपने भेड़ बकरीयों को लेकर पहाड़ पर आया तो उसने देखा कि एक लकड़हारा उस पहाड़ पर स्थित विशाल पेड़ को काट रहा था।

वह चिंतित हो गया रामू को उस पेड़ से लगाव हो गया था। उसने सोचा कि उसे उस पेड़ को बचाना चाहिए लेकिन उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए।

Moral stories in Hindi for class 7

उसने एक तरकीब सोची वह उस लकड़हारे के पास गया और बोला कि ओ भाई क्या तुम्हें इस पेड़ के श्राप के बारे में नहीं पता? एक ऋषि मुनि ने इस पेड़ को श्राप दिया था जिससे कि इस पेड़ मे एक चुड़ैल रहती है, जो भी इस पेड़ को काटता है वह चुड़ैल उसकी जान ले लेती है।


उससे पहले कि वह चुड़ैल आए और तुम्हें मार दे तुम यहाँ से भाग जाओ। यह सुन कर वह लकड़हारा भाग गया।

तभी अचानक से उस पेड़ से एक आत्मा प्रकट हुई, आत्मा जैसे ही प्रकट हुई वैसे ही रामू को बोला कि बहुत बहुत धन्यवाद रामू आज तुमने मेरी जान बचाई। तुम बहुत अच्छे इंसान हो मैं तुम्हें एक उपहार देना चाहता हूँ।

Moral stories in Hindi for class 9
तभी उस आत्मा ने एक घंटी निकाल के रामू को दिया, रामू ने बोला कि इस घंटी का मैं क्या करूंगा? आत्मा ने बताया कि यह कोई मामूली घंटी नहीं है, यह एक जादुई घंटी है इस घंटी की मदद से जो तुम खाना चाहते हो वो तुम्हें आसानी से मिल जाएगा।

Moral stories in Hindi for class 8


रामू ने उस आत्मा को धन्यवाद कहते हुए कहा कि अब मेरा परिवार कभी भूखे पेट नहीं सोएगा, तभी आत्मा ने रामू को बोला कि एक बात हमेशा याद रखना की इस घंटी का इस्तेमाल दिन भर में बस एक बार हो सकता है।

जादुई घंटी लेकर रामू खुशी खुशी अपने घर आया अपनी माँ को वह घंटी दिखाते हुए बताया कि ये कोई मामूली घंटी नहीं है यह एक जादुई घंटी है, इस घंटी की मदद से हम जो चाहे वो मंगा सकते हैं।

तभी रामू के छोटे भाई ने रामू को बोला कि मुझे रोटी, चावल, दाल, पनीर चाहिए। रामू ने तुरंत उस घंटी को बोला और उस घंटी से खाना निकलने लगा। उसकी माँ ये सब देख कर दंग रह गयी।

Moral stories in Hindi for class 2

फिर क्या था रामू रोज भेड़ बकरियों को खुशी खुशी चराने ले जाता क्यूंकि अब उसे खाने की चिंता नहीं थी।

एक दिन रामू को बहुत जोड़ से भूख लगी थी वह घर आया और देखा कि उसके छोटे भाई ने पहले ही खाना मंगा लिया है और सब खाकर खत्म भी कर चुका है, रामू ने फिर से घंटी बजाई लेकिन इस बार कुछ नहीं निकला। तब उसे यह बात याद आई कि जादुई घंटी दिन मे बस एक ही बार इस्तेमाल होता है।

अपनी भूख और खाली बर्तन को देख उसे गुस्सा आया उसने सोचा कि यह घंटी उसे उसकी भूख मिटाने के लिए मिली थी इसलिए उसने ये निर्णय लिया कि वह कल से घंटी को अपने साथ ले जाएगा।
pexels-photo-693776-compressed-5320771
Stories for kids in Hindi.

अगले दिन रामू अपने साथ जादुई घंटी ले गया और दूसरी तरफ रामू की माँ और उसका भाई घर मे घंटी को ढूंढ रहे थे, उन्होने सुबह से कुछ नहीं खाया था उन्हे बहुत भूख लगी थी। जब घंटी नहीं मिली तो दोनों रामू का इन्तेजार करने लगे।

शाम हो गयी और रामू आ गया, घर आते आते ही रामू की माँ ने रामू से कहा कि बेटे हमें बहुत भूख लगी है और वो घंटी भी नहीं मिल रही। रामू ने अपने पास से घंटी निकालते हुए कहा कि मैं इसे अपने साथ ले गया था।

उसकी माँ ने उससे कहा कि तुम इसे अपने साथ ले गए थे और तुम्हारा भाई यहां पर भूख से तड़प रहा था। क्या तुम बस अपना पेट भरना चाहते थे।

रामू ने कहा कि नहीं माँ ऐसी बात नहीं है, मुझे माफ कर दो मैं थोड़ा स्वार्थी हो गया था, मैं भविष्य मे अब ऐसा कभी नहीं करूँगा।

इस stories for kids in Hindi कहानी से सीख-

  • इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हमें कभी भी स्वार्थी नहीं होना चाहिए और अपने आप से पहले अपने परिवार के बारे में सोचना चाहिए।



इस कहानी के हक़दार – koo koo tv 

दोस्तों यदि यह Stories for kids in Hindi आपको पसंद आई हो तो हमें कमेंट करके बताए और इस कहानी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे।


अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।