दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना क्या है? | लाभ, उद्देश्य, मुख्य बिन्द्दु

Din Dayal Upadhyay Yojana 2022 :- आज हमारा देश भारत हर तेज़ी से डिजिटलीकरण की ओर बढ़ रहा है तथा हम सभी जानते है कि डिजिटलीकरण का कहीं न कहीं संबंध बिजली से जरूर है और जब तक हर जगह बिजली नहीं पहुंचेगी। तब तक देश का डिजिटलीकरण संभव नहीं है। इस बात को ध्यान में रखते हुये भारत देश के वर्तमान प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी द्वारा दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (Din Dayal Upadhyay Yojana 2022) का शुभारंभ किया गया था।

जिसके अंतर्गत देश के हर गांव तक बिजली पहुंचाने की नीति सरकार द्वारा तैयार की गयी है। लेकिन बहुत भी बहुत से ऐसे लोग है जिन्हें दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना के बारे में जानकारी नहीं है तो अगर को भी उन लोगों से शामिल हो तथा इससे संबंधित जानकारीयों के बारे में जानने के लिए इच्छुक हो तो ऑर्टिकल को अंत तक रीड करें? क्योंकि हम आपके साथ इस लेख के माध्यम में दीन दयाल उपाध्याय योजना क्या है, इससे लोगों को किस प्रकार लाभ होंगे, लाभ, आवेदन प्रक्रिया आदि महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा करेंगे। तो चलिये शुरू करते है –

दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना क्या है? | What is Deen Dayal Upadhyay Gram Jyoti Yojana

दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना

दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना देश के ग्रामीण क्षेत्रों तक बिजली पहुंचाने के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजना है जिसे राजीव ग़ांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना को प्रतिस्थापित करके शुरू किया गया है तथा इस योजना का ऐलान देश के वर्तमान प्रधानमंत्री जी द्वारा सत्र 2014 में किया गया था उर आज ये पूरे देश में सफलतापूर्वक चलायी जा रही है।

Deen Dayal Upadhyaya Gram Jyoti Yojana को मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि कर रहे किसानों तक बिजली को पहुंचाना जिससे वो अपने खेतों की सिचाई बिजली के माध्यम आए कर सकें। क्योंकि इससे उन्हें कृषि की  सिंचाई करने में आसानी होगी और साथ ही उन्हें कृषि सिंचाई करने के लिए ज्यादा धनराशि का भी व्यय नहीं करना होगा।

जिससे देश के किसान आर्थिक रुप से मजबूत होंगे। इसके अलावा सरकार द्वारा इस योजना के को शुरू करने से पहले ये लक्ष्य निर्धारित किया गया था कि दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत एक हज़ार दिनों के अंदर 18,452 गांवों में बिजली उपलब्ध करायी जायेगी। जो कि कुछ हद तक सत्य साबित हुई। तो आइये इस योजना के बारे में और भी विस्तार से जानते है –

दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत तैयार किया गया वित्तीय अनुदान तंत्र

ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत एक वित्तीय अनुदान तंत्र को तैयार किया गया है जिसके तहत देश को दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है। 1. विशेष श्रेणी 2. सामान्य श्रेणी

1.विशेष श्रेणी – इस श्रेणी में देश के कुछ राज्यों को शामिल किया गया है। जिसमें सिक्किम, उत्तराखण्ड, जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश का नाम शामिल है। जिन्हें केंद्र सरकार योजना के अंतर्गत ख़र्च हुई राशि का 85% अनुदान के रूप में राज्य सरकार को प्रदान किया जायेगा तथा शेष 15% व्यय राशि का भुगतान राज्य सरकार द्वारा किया जायेगा।

2. सामान्य श्रेणी – देश के अन्य सभी राज्यों को सामान्य श्रेणी में शामिल किया गया है। जिन्हें योजना के अंतर्गत व्यय राशि का 60% केंद्र सरकार द्वारा अनुदान के रूप में प्रदान किया जायेगा तथा शेष 40% लागत का खर्च राज्य सरकार को स्वयं उठाना होगा।

दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना का उद्देश्य

जब केंद्र सरकार या फिर राज्य सरकार किसी योजना का आरंभ करती है तो उसके पीछे एक विशेष उद्देश्य होता है उसी प्रकार दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना किस शुरुआत इस उद्देश्य के साथ कि गयी है कि देश के हर ग्रामीण क्षेत्र में बिजली की सुविधा उपलब्ध की जा सकें।

जिससे लोगों काफी सुविधा होगी तथा वो बि रोशनिमय जीवन यापन कर सकेंगे। और वैसे भी आज के समय बिना बिजली के जीवन अधूरा से है क्योंकि मानव की अधिकतर जरूरतों को डिजिटल माध्यम से जोड़ा जा रहा है और बिना बिजली डिजिटलीकरण संभव नहीं है।

दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना बजट

किसी भी योजना के शुरू करने से पहले विभाग द्वारा बजट निर्धारित किया जाता है तथा उसी बजट राशि को ध्यान में रखते हुये योजना से जुड़े कामों को आगे बढ़ाया जाता है उसी प्रकार केंद्र सरकार द्वारा दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना के लिए 43,033 करोड़ का निर्धारत किया गया है जिसमें से 33,453 करोड़ रुपये की राशि को खर्च किया जा चुका है।

दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना मुख्य बिंदु | Deendayal Upadhyay Gram Jyoti Yojana Important Points

यदि आप दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना के बारे में पढ़ रहे हैं तो आपको इस योजना के कुछ मुख्य बिंदुओं के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक है जिनके बारे में हमारे द्वारा नीचे एक-एक करके विस्तार से बताया हैं।

  • इस योजना की शुरुआत देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा सन 2014 में की गई थी।
  • दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत देश के हर गांव में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
  • ग्राम ज्योति योजना के माध्यम से किसानों को बिजली प्राप्त होगी तथा ट्रांसफार्म, फीडर और बिजली मीटर भी उपलब्ध कराएं।
  • इस योजना को राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना की जगह स्थापित किया गया है।
  • दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना के शुरू होने से ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करने वाले नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार आएगा।
  • ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत नोडल एजेंसी ग्रामीण विद्युतीकरण निगम लिमिटेड है।
  • इस योजना के शुरू होने से ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करने वाले किसानों को सिंचाई करने में आसानी होगी।
  • इस योजना के शुरू होने से ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे तथा घरेलू उद्योगों का विकास होगा तथा बेरोजगारी दर में कमी आएगी।
  • दीनदयाल दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत एक हजार दिनों में 18,452 गावों तक बिजली पहुंचायी जायेगी।
  • केंद्र सरकार द्वारा इस योजना के लिए 42,033 करोड रुपए का बजट आवंटित किया गया।

निष्कर्ष –

ग्रामीण क्षेत्र हो या फिर शहरी हर क्षेत्र में बिजली उपलब्ध होना आजकल एम अनिवार्य विषय है और लगभग सभी देश के सभी शहरों में बिजली उपलब्ध है  लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में अभी पूर्णतया बिजली उपलब्ध नहीं है जिससे वहां निवास करने वाले लोगों को बहुत से अभावों का सामना करना पड़ता है।

ऐसा न हो इसलिये केंद्र सरकार द्वारा दीनदयाल ग्राम ज्योति योजना (DeenDayal Gram Jyoti Yojana In Hindi) का शुभारम्भ किया गया है, जिसके तहत ग्रामीण क्षेत्रों में भी बिजली उपलब्ध करायी जायेगी तथा हमारे द्वारा इस योजना जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी इस ऑर्टिकल में साझा की गयी है। हम आशा करते है कि आपको पसंद आयी होगी।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।