10वीं के बाद क्या करें? | 10वीं के बाद कौन सा कोर्स करें?

भविष्य को लेकर विद्यार्थी तथा उनके माता-पिता बहुत ही गंभीर रहते हैं क्योंकि दिन-ब-दिन जनसंख्या वृद्धि और बेरोजगारी बढ़ती जा रही है। जिस वजह से लोगों को नौकरी प्राप्त नहीं होती है। इसके साथ ही यदि कोई बिजनेस भी करना चाहे तो अपने बिजनेस को चलाने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है। जैसे ही हम दसवीं पास करते हैं तो हमारे दिमाग में यह बात आती है कि आप क्या करें? इस सवाल के पीछे माता-पिता भी बहुत परेशान रहते हैं कि वह अपने बच्चे को ऐसा कौन सा कोर्स करवाएं जिससे बच्चों का भविष्य स्थाई हो सके तथा वह कम समय में अधिक पैसा कमा सकें।

आज हम इस लेख में आपको 10वीं के बाद क्या करें? के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी देंगे तथा यह भी बताएंगे कि यदि कोई व्यक्ति दसवीं के बाद पढ़ना चाहता है तो उसे क्या करना चाहिए? यदि कोई व्यक्ति दसवीं के बाद पढ़ना चाहता है तो उसे क्या करना चाहिए? यदि कोई व्यक्ति नहीं पढ़ना चाहता है और वह नौकरी करना चाहता है तो वह इस लेख के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर सकता है। भारत में लगभग 130 करोड़ जनसंख्या है। यहां के ज्यादातर लोग बेरोजगार है क्योंकि दसवीं के बाद Subject Selection मेंकुछ गलतियां कर देते हैं। जिस वजह से उन्हें अच्छा मार्गदर्शन नहीं मिल पाता है और वह असफल हो जाते हैं।

दसवीं पास करने के बाद विद्यार्थी 11वीं और 12वीं में अच्छे सब्जेक्ट चुनने की कोशिश करता है जैसे गणित, जीव विज्ञान, कृषि आदि परंतु इनमें भी अच्छी नौकरी नहीं मिल पाती है। यह फैसला उनके जीवन को बर्बाद कर सकता है। आपको इस लेख में दसवीं के बाद क्या करें? जैसे महत्वपूर्ण सवालों के जवाब मिल सकते हैं। आज हम आपके साथ दसवीं के बाद आप ऐसी 8 चीजें कर सकते हैं। जिससे आप कम समय में अच्छी पोस्ट तथा ज्ञान हासिल कर सकते हैं।

10वीं के बाद क्या करें? (What to do after 10th)

10वीं के बाद क्या करें

आज के समय मे 10वीं पास करने के बाद काफी ऐसे कोर्स है जिन्हें करके अच्छा भविष्य बनाया जा सकता है।लेकिन ज्यादातर स्टूडेंट 10th के बाद क्या करें? इस बात को लेकर असमंजस में रहते है। इसी असमंजस को दूर करते हुए आज हम आपको 10वीं के बाद क्या करें? इससे जुड़े कुछ कोर्स के बारे में बताने जा रहे है। जिन्हें करके आप खुद का सफल बना सकते है। तो अगर आप 10th पास कर चुके है। तो आपको नीचे बताये गए 10वीं के बाद कौन सा कोर्स करें? यह काफी महत्वपूर्ण होने ;वाले है.

विज्ञान से इंटर करना

Science आने वाले दिनों का एक महत्वपूर्ण विषय है क्योंकि भविष्य में विज्ञान के विषयों के माध्यम से आसानी से नौकरी प्राप्त हो जाएंगी या फिर इस विषय से पढ़ा हुआ विद्यार्थी अपना खुद का बिजनेस चालू कर सकता है। ज्यादातर माता-पिता यह चाहते हैं कि उनका बच्चा साइंस से आगे बढ़े क्योंकि अभिभावकों का ऐसा मानना है कि इसमें अन्य Stream के मुकाबले अधिक स्कोप है।

वैसे तो साइंस के बहुत सारे फायदे हैं। वह कई विषयों में ग्रेजुएशन कर सकता है। यदि विद्यार्थी साइंस स्ट्रीम से इंटर करता है तो वह आर्ट के विषयों में भी दाखिला प्राप्त कर सकता है। यदि कोई विद्यार्थी मेडिकल फील्ड में जाना चाहता है तो उसके लिए कई रास्ते खुल जाते हैं। इसके साथ ही यदि विद्यार्थी इंजीनियर, शोध, मर्चेंट नेवी, हैकिंग आदि में अपना बेहतर Career बना सकता है। साइंस से संबंधित निम्नलिखित विषय है जो इस प्रकार है:-

  • मर्चेंट नेवी
  • फॉरेंसिक साइंस
  • डॉक्टर
  • एविएशन
  • एथिकल हैकिंग
  • इंजीनियर
  • आईटी
  • शोध

यदि आप भी 10 वीं के बाद साइंस से इंटर कर लेते हैं तो आपको उपरोक्त विषयों में पढ़ने का मौका मिलेगा तथा इनसे संबंधित नौकरियों में जाने का मौका मिलेगा। साइंस से करने वाला व्यक्ति समाज में अधिक इज्जत पाता है क्योंकि लोगों का ऐसा मानना होता है कि वह सब कुछ जानता है।

यदि वह डॉक्टर बन जाता है तो उसकी अलग ही Respect की जाती है। ज्यादातर यह भी देखा गया है कि UPSC में जिन विद्यार्थियों का Selection होता है उनमें से ज्यादातर लोग IIT तथा Medical Field से होते हैं क्योंकि यह विद्यार्थी कठिन मेहनत करके इस सब्जेक्ट में स्नातक तथा इंटर पास करते हैं। उसी मेहनत के अनुसार वह भारत की सबसे महत्वपूर्ण नौकरी भी करते हैं।

वाणिज्य से इंटर करना

कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो नौकरी करना पसंद नहीं करते हैं क्योंकि उन्हें ऐसा लगता है कि नौकरी से ज्यादा पैसा हम व्यापार में कमा सकते हैं परंतु यह सत्य है कि व्यापार में जितना पैसा है, उतना नौकरी से प्राप्त नहीं हो सकता है, इसलिए कुछ बच्चे Accounting तथा Economics में पढ़ाई करना चाहते हैं।

 यदि आप दसवीं के बाद वाणिज्य (Commerce) से इंटर करते हैं तो आपके लिए कई तरह के विकल्प खुल जाते हैं। यह बड़ा ही महत्वपूर्ण विषय है। यदि कोई विद्यार्थी साइंस के बाद सबसे ज्यादा कॉमर्स किसे पसंद करता है। उसे कई तरह के बिजनेस से संबंधित विषय पढ़ाए जाते हैं। जैसे Accounting, Finance, MBA आदि। Commerce से इंटर करने वाले लोग निम्नलिखित कोर्स कर सकते हैं जो इस प्रकार है:-

  • फाइनेंशियल प्लानर
  • मैनेजमेंट अकाउंटिंग
  • चार्टर्ड अकाउंटेंट
  • अकाउंटेंट
  • कंपनी सेक्रेटरी
  • MBA

उपरोक्त में से आप किसी भी विषय में अपना स्नातक कर लेते हैं तो आपको कम समय में अधिक पैसा मिल सकता है और समाज में इज्जत भी मिलेंगे। यदि आप चार्टर्ड अकाउंटेंट (CA) बन जाते हैं तोआप कम समय में अच्छी प्रगति कर सकते हैं क्योंकि चार्टर्ड अकाउंटेंट बहुत ही कम लोग पास कर पाते हैं। यह भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है।

कला से इंटर करना

लोगों तथा अभिभावकों का ऐसा मानना है Art वही विद्यार्थी लेते हैं जो पढ़ाई में कमजोर होते हैं तथा उन्हें परीक्षाओं में कम अंक प्राप्त होते हैं। जिस वजह से उन्हें Art Subject लेना पड़ता है परंतु कुछ ऐसे विद्यार्थी भी होते हैं, जो जानबूझ के Art Subject लेते हैं क्योंकि उन्हें UPSC, MPPSC, BPSC आदि की तैयारी करने में मदद मिल सके क्योंकि Art Subject में ज्यादा पढ़ाई करने की आवश्यकता नहीं होती है और इनमें अधिक कठिन परीक्षाएं भी नहीं होती है।

जितने भी प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थी होते हैं वह Art Subject में Admission ले लेते हैं औरअपनी सिविल सेवा की तैयारी में जुट जाते हैं। यदि आप कमजोर है आपका पढ़ाई में मन नहीं लगता है तो आपके लिए यह विषय बहुत अच्छा है। इसके अलावा आप सरकारी नौकरी में भी इस सब्जेक्ट से बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं। आने वाले समय में वकील, पत्रकार आदि को अधिक महत्व दिया जाएगा क्योंकि पत्रकारों तथा वकीलों से हर कोई डरता है और यह केवल कला से इंटर करने वाले लोग ही कर सकते हैं। जैसे आपको पत्रकारिता में M.A. (Master of Art) करना है  तो आप आसानी से कर सकते हैं। इसके अलावा Art Subject में आप अपना बेहतर विकल्प चुन सकते हैं जिनमें से प्रमुख है:-

  • इवेंट मैनेजर
  • शिक्षक
  • एनिमेटर
  • पत्रकार
  • ग्राफिक डिजाइनर
  • वकील

10 वीं के बाद आर्ट से इंटर करने में कोई दिक्कत नहीं आती है। यदि आप  जियोग्राफी, अंग्रेजी, क्षेत्रीय भाषा इतिहास, पॉलिटिकल साइंस आदि में Course कर लेते हैं तोआपको सरकारी नौकरी जल्द ही मिल जाएंगी। इसके साथ ही यदि आप सिविल सर्विस की तैयारी करते हैं तो उनके मुख्य परीक्षा में उपरोक्त विषय होते हैं, जैसे आप बड़े आसानी से मुख्य परीक्षा पास कर सकते हैं।

पॉलिटेक्निक कोर्स (Polytechnic Course)

Polytechnic एक तरह से इंजीनियरिंग से संबंधित विषय है इसे आप दसवीं के बाद कर सकते हैं इसके लिए पीपीटी परीक्षा होती है जिसका पूरा नाम Pre Polytechnic Test होता है। यदि आप 10 वीं के बाद Polytechnic में एडमिशन ले लेते हैं तो यह आपको कम टाइम में जल्दी नौकरी मिल जाएंगी। इस कोर्स की अवधि 3 साल की होती है यदि आप 12वीं के बाद यह कोर्स करते हैं तो इसकी अवधि केवल 2 साल की होती है।

10 वीं के बाद आप पॉलिटेक्निक करोगे तो जब इंजीनियरिंग से Graduation करते समय आप को सीधे द्वितीय वर्ष (Second Year) में प्रवेश मिलेगा। इसके लिए आपको Graduation का प्रथम वर्ष देना अनिवार्य नहीं होगा। ज्यादातर बच्चे पॉलिटेक्निक करके इंजीनियरिंग में स्नातक करने के लिए चले जाते हैं। यदि आप ही दसवीं के बाद पॉलिटेक्निक करना चाहते हैं तो निम्नलिखित विषयों में आप डिप्लोमा हासिल कर सकते हैं जो इस प्रकार है:-

  • Diploma in Civil Engineering
  • Diploma in Electrical Engineering
  • Diploma in Chemical Engineering
  • Diploma in Instrumentation Technology
  • Diploma in Mechanical Engineering
  • Diploma in Automobile Engineering
  • Diploma in Biotechnology Engineering
  • Diploma in Electronics and Communication Engineering
  • Diploma in Computer Engineering
  • Diploma in Aerospace Engineering

यदि आप IIT  से स्नातक करना चाहते हैं तो JEE Mains में सीधे आप को ले लिया जाएगा और एडवांस रैंक के अनुसार आपको प्रवेश मिल जाएगा।

आईटीआई कोर्स (ITI Courses)

इसका पूरा नाम इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट (Industrial Training Institute) है यदि कोई विद्यार्थी 10 वीं के बाद आईटीआई कर लेता है तो उसे तुरंत जवाब मिल जाती है। इसकी अवधि 1 से 3 साल तक होती है। यदि आप 3 साल का कोर्स करते हैं तो आपको अच्छी नौकरी प्राप्त होगी, बाकी 1 या 2 साल का कोर्स करते हैं तो उनमें सामान्य श्रेणी की नौकरी प्राप्त होगी। दसवीं के बाद आईटीआई निम्नलिखित Subjects में कर सकते हैं, जो इस प्रकार है:-

  • पंप ऑपरेटर                 
  • फिटर इंजीनियरिंग                     
  • टूल एंड डाई मेकर इंजीनियरिंग               
  • मैन्युफैक्चर फूट वियर    
  • रेफ्रिजरेशन इंजीनियरिंग 
  • फ्रूट एंड वेजिटेबल प्रोसेसिंग                     
  • इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग

पैरामेडिकल कोर्स (Paramedical Courses)

10 वीं के बाद यदि आप स्वास्थ्य विभाग में जाना चाहते हैं तो पैरामेडिकल सबसे बेहतरीन कोर्स में से एक है। आपको ज्यादा पढ़ने की आवश्यकता नहीं होती है।आप सीधे पैरामेडिकल के कोर्स कर सकते हैं। इसमें आपको NEET परीक्षा देने की आवश्यकता नहीं होती है। वर्तमान समय में कोरोना वायरस के प्रकोप ने पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया। इसको देखते हुए स्वास्थ्य विभाग में विद्यार्थियों के लिए सीट तथा विश्वविद्यालय बनाए जा रहे हैं। जिसे पर्याप्त मात्रा में स्वास्थ्य कर्मचारी बढ़ाए जा सके। जब कोरोना वायरसअपनी चरम सीमा में था, तब पैरामेडिकल का कोर्स करने वाले विद्यार्थियों  ने लोगों की सेवा करके उनको ठीक किया है। दसवीं के बाद पैरामेडिकल का कोर्स 2 तरह से किया जा सकता है:-

  1. सर्टिफिकेट कोर्स
  2. डिप्लोमा कोर्स

प्रमुख पैरामेडिकल कोर्स जो इस प्रकार है:-

  • Diploma in Medical Record Technology
  • Diploma in Dialysis Techniques
  • Diploma in ECG Technology
  • Diploma in Rural Health Care
  • Diploma in Nursing Care Assistant
  • Certificate in Medical Lab Technology
  • Diploma in X-ray Technology
  • MRI Technician (Certificate)

शॉर्ट टर्म कोर्स (Short Term Courses)

10 वीं के बाद यदि आप पढ़ा नहीं चाहते हैं या फिर आपने कोई ऐसा हुनर है जिससे आप नया कार्य कर सकते हैं तो यह Short Courses महत्वपूर्ण है। भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना जिसका नाम Skill India Scheme है। इसके तहत कई सारे शॉर्ट टर्म कोर्स करवाए जाते हैं। जो दसवीं के बाद आप आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। शॉर्ट टर्म कोर्स करने के लिए स्किल इंडिया (Skill India Scheme ) में आपको रजिस्ट्रेशन करना होगा और उससे आपको एक सेंटर दिया जाएगा। आप जिस भी विषय में कोर्स करना चाहते हैं।

 उसे आप उस संस्था में पूर्ण करके सर्टिफिकेट या डिप्लोमा प्राप्त कर सकते हैं। इसके बाद उस सर्टिफिकेट या डिप्लोमा के माध्यम से आपको सरकार द्वारा लोन दिया जाएगा या फिर आप लोग नहीं लेना चाहते हैं तो इस कोर्स के दौरान आपको जो भी ज्ञान प्राप्त हुआ है। उसका इस्तेमाल करके अपना बिजनेस चालू कर सकते हैं निम्नलिखित शॉर्ट टर्म कोर्स है जो इस प्रकार है:-

  • Digital Marketing
  • Cyber Security
  • Hotel Management
  • Certificate Program in MS Office
  • Certificate in Poultry Farming
  • Graphic Designing
  • Event Management
  • SEO Analyst

नौकरी (Job)

जैसा कि हम सब जानते हैं बेरोजगारी दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रही है यदि हम 10 वीं के बाद ही नौकरी करने की तैयारी करने लगे तो हम जल्द से जल्द नौकरी कर सकते हैं। यदि आप भी दसवीं के बाद सीधे नौकरी करना चाहते हैं तो आपने में लिखित नौकरी कर सकते हैं, जो इस प्रकार है:-

  • इंडियन रेलवे
  • पोस्ट ऑफिस
  • Doctor
  • Engineer
  • Forest Range Officer
  • इंडियन आर्मी
  • इंडियन नेवी
  • इंडियन एयर फोर्स

सभी को यह जरूरी नहीं है कि सरकारी नौकरी प्राप्त हो जाए आप प्राइवेट नौकरी भी कर सकते हैं जिसके लिए प्राइवेट कंपनी आपको अच्छी खासी तनखा दे देता है और आप अपना जीवन बेहतर कर सकते हैं।

10वीं के बाद क्या करे इससे सम्बंधित प्रश्न उत्तर

10वीं के बाद कौन कंप्यूटर कोर्स कर सकते है??

10वीं के बाद आप कोर्स ऑन कंप्यूटर कॉन्सेप्ट्स ,डिप्लोमा इन कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग ,कंप्यूटर से आईटीआई , ग्राफिक डिजाइनिंग जैसे कोर्स कर सकते है.

10वीं के बाद कौन सा डिप्लोमा कोर्स कर सकते है?

10वीं के बाद आप पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कोर्स कर सकते है, यह काफी अच्छा विकल्प है.

डिप्लोमा कोर्स कितने साल का होता है?

डिप्लोमा कोर्स 1 साल से लेकर 3 साल तक का होता है.

10वीं के बाद क्या करें?

10वीं के बाद आप क्या कर सकते जुड़े सभी कोर्स की ऊपर जानकारी दी जा चुकी है आप अपनी रूचि के हिसाब भी कोर्स को कर सकते है.

निष्कर्ष

आशा करता हूं  मेरे द्वारा दी गई जानकारी से आप संतुष्ट होंगे। इस लेख का उद्देश्य 10 वीं के बाद क्या करें के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान करना है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगअच्छा निर्णय लेकर अपना भविष्य बेहतर बना सकें। दसवीं हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण स्तर होता है क्योंकि यहीं से हमारे जीवन में कुछ नई चीजें जो जाती है। 10 वीं के बाद हमारा  निर्णय गलत हो जाता है तो इसका भुगतान हमें पूरी उम्र भर करना पड़ता है, इसीलिए अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए आप इस लेख का सहारा ले सकते हैं और अपनी क्षमता, रूचि, ज्ञान आदि के अनुसार उपरोक्त दिए गए किसी भी विषय से कोर्स करके अपना Career बना सकते हैं।

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।